Bookmark and Share
रन बनाने में ही नहीं स्ट्राइक रेट में भी फेल हुए क्रिस गेल Print
User Rating: / 0
PoorBest 
Tuesday, 27 May 2014 11:28

नई दिल्ली। इंडियन प्रीमियर लीग में 2011 से अपनी विस्फोटक बल्लेबाजी से नित नए रिकार्ड बनाने वाले क्रिस गेल 2014 में न सिर्फ रन बनाने के लिए जूझते रहे बल्कि उनके आक्रामक तेवर भी नहीं दिखाए दिए और यही वजह रही कि छह मैचों में उनका स्ट्राइक रेट 100 से कम रहा। गेल चोटिल होने के कारण आइपीएल सात के शुरुआती मैचों में नहीं खेल पाए थे। इसके बाद उन्होंने नौ मैचों में रायल चैलेंजर्स बंगलूर की तरफ से पारी का आगाज किया लेकिन वे 21.77 की औसत से केवल 196 रन ही बना पाए और उनका स्ट्राइक रेट 106.52 रहा। यही नहीं वह इस बार एक भी अर्धशतक नहीं जमा पाए। 


यह स्थिति उन गेल की है जिन्होंने इससे पहले के तीनों सत्र में कम से कम एक शतक जरू र बनाया और उनका स्ट्राइक रेट 150 रन से अधिक रहा। गेल ने 2011 में 12 मैचों में 608 रन बनाए जिसमें दो शतक शामिल हैं। उनका स्ट्राइक रेट 183.13 रहा। इसके एक साल बाद उन्होंने 15 मैचों में 160.74 की स्ट्राइक रेट से रेकार्ड 733 रन बनाए। पिछले साल यानि 2013 में गेल ने 16 मैचों में 708 रन ठोके और उनका स्ट्राइक रेट 156.29 रहा। 

 

लेकिन इस बार कहानी एकदम से बदल गई। आलम यह था कि छह मैचों में गेल का स्ट्राइक रेट सौ से कम रहा। उनका उच्चतम स्कोर 46 रन था जो उन्होंने चेन्नई सुपरकिंग्स के खिलाफ रांची में बनाया था। उन्होंने


इस पारी में 50 गेंद खेली तथा इस तरह से उनका स्ट्राइक रेट 92.00 रहा। इसके अलावा पांच अन्य मैचों में गेल का स्ट्राइक रेट 100 से कम रहा। उन्होंने किंग्स इलेवन पंजाब के खिलाफ सात गेंद पर चार रन, राजस्थान रायल्स के खिलाफ 25 गेंद पर 19 रन, दिल्ली डेयरडेविल्स के खिलाफ 23 गेंद पर 22 रन, सनराजइर्स हैदराबाद के खिलाफ 20 गेंद पर 14 रन और कोलकाता नाइटराइडर्स के खिलाफ नौ गेंद पर छह रन बनाए। 

केवल तीन मैचों में ही गेल का स्ट्राइक रेट 100 से अधिक रहा लेकिन वे बड़ी पारी खेलने में नाकाम रहे। उनकी असफलता का असर आरसीबी के प्रदर्शन पर भी पड़ा और वह 14 मैच में केवल पांच मैचों में जीत दर्ज करके अंकतालिका में सातवें स्थान पर रहकर प्लेआफ की दौड़ से बाहर हो गया। गेल जिन नौ मैचों में खेले उनमें से छह में आरसीबी को हार का सामना करना पड़ा था। गेल को छक्कों का बादशाह माना जाता है। आइपीएल में उनके नाम पर सर्वाधिक 192 छक्के जड़ने का रेकार्ड है। उनके बाद दूसरे स्थान पर सुरेश रैना हैं जिन्होंने 126 छक्के लगाए हैं लेकिन गेल इस सत्र में केवल 12 छक्के ही लगा पाए। इससे पहले उन्होंने 2011 में 44 छक्के, 2012 में 59 छक्के और 2013 में 51 छक्के लगाए थे।

(भाषा)


आपके विचार