Bookmark and Share
बारिश से प्रभावित मैच में हैदराबाद ने दिल्ली की उम्मीदों पर फेरा पानी Print
User Rating: / 0
PoorBest 
Sunday, 11 May 2014 15:19

altफ़ज़ल इमाम मल्लिक

नई दिल्ली। बारिश ने आइपीएल के सातवें संस्करण में शनिवार को दिल्ली की उम्मीदों पर भी पानी फेर दिया है। फीरोजशाह कोटला पर हैदराबाद ने उसे डकवर्थ लुइस नियम के तहत आठ विकेट से हराया और दिल्ली इस हार से आइपीएल से लगभग बाहर हो गई है। आइपीएल में अभी उसके पांच मैच बाकी हैं और अपनी उम्मीदों को बनाए रखने के लिए उसे न सिर्फ सभी मैच जीतने होंगे बल्कि यह दुआ भी करनी होगी कि अंक तालिका में निचले स्थान पर चल रही टीमों का प्रदर्शन बेहतर न रहे। लेकिन ऐसे चमत्कार की उम्मीद न के बराबर है। इस सत्र में फीरोजशाह कोटला पर दिल्ली की यह लगातार चौथी हार है। दिल्ली फीरोजशाह कोटला पर अपना अंतिम मुकाबला 19 मई को पंजाब के खिलाफ खेलेगी।


शनिवार को फीरोजशाह कोटला मैदान पर ज्यादातर वक्त बारिश का खेल चला। पूरे मैच के दौरान चार बार बारिश ने खलल डाला और हैदराबाद को संशोथि लक्ष्य का पीछा करने में किसी तरह की परेशानी नहीं हुई। हैदराबाद के गेंदबाजों ने डेथओवरों में बढ़िया गेंदबाजी की। अंतिम पांच ओवरों में हैदराबाद के गेंदबाजों ने महज 22 रन बनाने दिए और इस बीच दिल्ली के चार विकेट भी उसने झटके। लेकिन दिल्ली के लिए बारिश परेशाना का सबब बनी। पहली बार बारिश की वजह से खेल रुका तब 

दिल्ली का स्कोर 13.1 ओवर में तीन विकेट पर 103 रन था। तब दिनेश कार्तिक और लक्ष्मीरत्न शुक्ला क्रीज पर थे। लेकिन 73 मिनट के अंतराल के बाद खेल शुरू हुआ तब दिल्ली के बल्लेबाजों ने ताबड़तोड़ करने की कोशिश की। लेकिन हेनरिक्स के एक ही ओवर में कार्तिक और शुक्ला के आउट होने से दिल्ली बड़ा स्कोर नहीं बना पाई। कार्तिक का तो लांग आफ पर स्टेन ने दर्शनीय कैच लपका। अंतिम ओवरों में हैदराबाद की कसी गेंदबाजी की बदौलत दिल्ली डेयरडेविल्स की टीम ने सात विकेट पर 143 रन का स्कोर खड़ा कर लिया। हालांकि यह चुनौती भरा स्कोर था लेकिन दिल्ली के गेंदबाजों ने जिस तरह की गेंदबाजी की उसे देखते हुए यह बड़ा स्कोर नहीं कहा जा सकता। लेकिन दिल्ली की पारी खत्म होने के बाद बारिश ने फिर बाधा डाला और मैच 15 ओवर का कर डाला गया। हैदराबाद को तब 117 रनों का संशोधित लक्ष्य दिया गया। हैदराबाद की पारी में अभी 1.1 ओवर ही हुए थे कि बूंदाबांदी फिर शुरू हो गई। तब हैदराबाद ने बिना किसी नुकसान के 11 रन बना लिए थे। बूंदाबांदी थमी तो लक्ष्य फिर से संशोधन किया गया और इसे 12 ओवर में 97 रन कर दिया गया। लेकिन फिर तीसरी बार बारिश की बाधा से संशोधित लक्ष्य पांच ओवर में 43 रन हो गया। हैदराबाद ने यह लक्ष्य 4.2 ओवर में 44 रन बनाकर हासिल किया। 


हैदराबाद की शुरुआत अच्छी नहीं रही और सलामी बल्लेबाज शिखर धवन का बल्ले से खराब प्रदर्शन जारी रहा, वे दूसरे ओवर में सिद्धार्थ कौल के शिकार बने। जेपी डुमिनी ने उनके बेहतरीन कैच लपक कर दिल्ली की उम्मीदों को बढ़ाया। खेल आगे बढ़ पाता कि दो ओवर में एक विकेट पर 17 रन के स्कोर पर तीसरी बार बारिश ने बाधा पहुंचाई जिससे टीम को तीन ओवर में 26 रन और बनाने थे। ओपनर आरोन फिंच राहुल शुक्ला की गेंद


पर बोल्ड हो गए। पांचवें ओवर में छह गेंद में छह रन की जरू रत थी, पहली गेंद पर एक रन बना और इसके बाद डेविड वार्नर और नमन ओझा (नाबाद 13, तीन गेंद में दो छक्के) ने टीम को चार गेंद रहते जीत दिला दी।  

सनराइजर्स हैदराबाद के कप्तान धवन ने टास जीतकर दिल्ली को बल्लेबाजी का न्योता दिया। मेजबान टीम ने टीम में तीन बदलाव किए। मुरली विजय, शहबाज नदीम और वेयन पर्नेल की जगह मयंक अग्रवाल और राहुल शुक्ला को टीम में जगह दी। कप्तान कीवन पीटरसन और क्वींटन डि काक ने पारी की शुरुआत की लेकिन तीसरे ओवर में ही स्टेन के शिकार बने। कवर पर उन्होंने सीधे राहुल के हाथों में खेल दिया। पीटरसन ने कुछ अच्छे शाट लगाए और इस सीजन में अब तक का सर्वश्रेष्ठ स्कोर बनाया। लेकिन अमित मिश्र की गेंद को पढ़ने से वे चूके और शिखर धवन को कैच थमा कर पैवेलियन लौट आए। अमित ने अपने दूसरे ओवर में मयंक अग्रवाल को चलता कर दिल्ली को झटका दिया। बाउंड्री पर उनका कैच डेविड वार्नर ने पकड़ा। मयंक अच्छे चट में दिख रहे थे लेकिन वे अपनी पारी को आगे तक नहीं ले जा सके। दल्ली ने इस बीच 12.5 ओवरों में सौ रन पूरे किए। लेकिन इसके बाद आंधी और फिर बारिश आने की वजह से खेल रोकना पड़ा। खेल जब दोबारा शुरू हुआ तब कार्तिक ने कर्ण की गेंद पर बेहतरीन छक्का लगाया और शुक्ला ने भी बेहतरीन प्लेसिंग से चौका जड़ा। इस बीच चौथे विकेट के लिए कातिर्क और शुक्ला ने कुछ अच्छे शाट लगाए दोनों ने 39 गेंदों पर पचास रन पूरे किए। लेकिन इसके बाद ही दिल्ली का पतन शुरू हुआ। हेनरिक्स के ओवर में कातिर्क और शुक्ला चलते बने। जेपी डुमिनी ने आते ही चौका जमाया लेकिन शुक्ला दो गेंद बाद कैच आउट हो गये। डुमिनी भी ज्यादा देर नहीं खेल सके और 19वें ओवर की आखिरी गेंद पर भुवनेश्वर की गेंद पर बोल्ड हो गए। अंतिम ओवरों में कसी गेंदबाजी ने दिल्ली के बल्लेबाजों को ज्यादा आजादी लेने नहीं दिया। स्टेन, मिश्रा और हेनरिक्स ने दो-दो विकेट चटकाए, भुनेश्वर ने एक विकेट झटका। इस जीत से हैदराबाद आठ अंकों के साथ तालिका में चौथे स्थान पर पहुंच गया है।

 स्कोर बोर्ड    

दिल्ली डेयरडेविल्स : केविन पीटरसन का धवन बो मिश्रा 35, क्विंटन डि कॉक का राहुल बो स्टेन 7, मयंक अग्रवाल का वार्नर बो मिश्रा 25, दिनेश कार्तिक का स्टेन बो हेनरिक्स 39, लक्ष्मी रतन शुक्ला का वार्नर बो हेनरिक्स 21, जेपी डुमिनी बो भुवनेश्वर 4, केदार जाधव का पठान बो स्टेन 5, राहुल शुक्ला नाटआउट 2, अतिरिक्त : 5, कुल (सात विकेट पर) 143 रन। 

विकेट पतन : 1-10, 2-54, 3-73 , 4-128, 5-132 , 6-139 , 7-143

गेंदबाजी : स्टेन 4-0-20-2, भुवनेश्वर 4-0-23-1, कर्ण 3-0-29-0, हेनरिक्स 3-0-26-2, मिश्रा 3-0-23-2, इरफान पठान 3-0-18-0 

सनराइजर्स हैदराबाद : आरोन फिंच बो राहुल शुक्ला 4, शिखर धवन का डुमिनी बो कौल 4, डेविड वार्नर नाटआउट 12, नमन ओझा नाटआउट 13, अतिरिक्त : 11, कुल (4.2 ओवर में दो विकेट पर) 44 रन। 

विकेट पतन : 1-13, 2-55 

गेंदबाजी : शमी 1-0-6-0, कौल 1-0-5-1, ताहिर 1-0-7-0, राहुल शुक्ला 1-0-13-1, लक्ष्मी रतन शुक्ला 0.2-0-7-0 


आपके विचार