Bookmark and Share
दिल की धड़कन और रक्तचाप पर नियमित निगरानी जरूरी :विशेषज्ञ Print
User Rating: / 1
PoorBest 
Thursday, 16 May 2013 19:40

नयी दिल्ली। विशेषज्ञों का कहना है कि उच्च रक्तचाप और दिल की धड़कन का अनियमित होना गंभीर समस्या हैं और दोनों बातों का साथ होना तो और भी ज्यादा खतरनाक हो सकता है जिसके लिए निगरानी और समय समय पर जांच की जरूरत है।
उच्च रक्तचाप के बारे में जागरुकता लाने के लिए 17 मई को ‘वर्ल्ड हाइपरटेंशन डे’ मनाया जाता है।
विशेषज्ञों ने उच्च रक्तचाप को वैश्विक स्वास्थ्य संकट और ‘साइलेंट किलर’ की भी संज्ञा दी है जो लोगों को अपने शरीर में इस समस्या का और इसके गंभीर नतीजों का आभास तक नहीं होने देता।
गुड़गांव के एक अस्पताल के डॉ सतीश कौल के मुताबिक लोगों को लंबे समय तक उच्च रक्तचाप की समस्या रहती है लेकिन उन्हें उसका आभास तक नहीं होता। जब तक उन्हें पता चलता है ,उनके अंगों पर इसके दुष्प्रभाव पड़ने शुरू हो गये होते हैं। इसलिए इस समस्या को ‘साइलेंट किलर’ कहा जाता है।
दिल का अनियमित या तेजी से धकड़ना ‘आट्रियल फिब्रिलेशन’ :एएफ: कहलाता है। हार्ट एंड स्ट्रोक फाउंडेशन के मुताबिक इस समस्या से ग्रस्त लोगों को दिल दौरा पड़ने का खतरा उन लोगों से 3 से 5 गुना ज्यादा होता है जिन्हें एएफ की समस्या नहीं होती।
डॉ कौल का कहना है कि एएफ


के लिए उच्च रक्तचाप जिम्मेदार हो सकता है और दोनों का साथ होना ज्यादा खतरनाक होता है।
उन्होंने कहा कि इसलिए सभी को रक्तचाप की नियमित जांच करानी चाहिए। उन्होंने उच्च रक्तचाप के नतीजतन दिल का दौरा पड़ने और किडनी निष्क्रिय होने जैसी गंभीर समस्याओं की ओर संकेत करते हुए कहा कि इस समस्या का पता चलते ही नियमित निगरानी की भी जरूरत है अन्यथा यह हृदय, किडनी, मस्तिष्क और आंखों जैसे अहम अंगों को प्रभावित कर सकता है।
डॉक्टर इस समस्या और इसके दुष्परिणामों से बचने के लिए स्वस्थ जीवनशैली और नियमित रक्तचाप जांच की सलाह देते हैं।
दरअसल लोगों को हाइपरटेंशन का आभास इसलिए भी नहीं होता क्योंकि इसके लक्षण स्पष्ट नहीं होते। हालाकि फिर भी रक्तचाप बढ़ने पर सिरदर्द, सांस लेने में समस्या, चक्कर आना, धुंधला दिखाई देना, जी घबराना और उल्टी आने जैसी शिकायतें हो सकती हैं।
डॉक्टर इस रोग से बचने के लिए नियमित जीवनशैली, व्यायाम के साथ धूम्रपान और शराब का सेवन नहीं करने आदि की सलाह देते हैं। इसके अलावा भोजन में नमक की मात्रा कम करने और संतुलित भोजन लेने की भी सलाह दी जाती है।
भाषा

आपके विचार