Bookmark and Share
हितों को साधने के लिए सीबीआई को दिए जाते हैं नाम :चिदंबरम Print
User Rating: / 0
PoorBest 
Tuesday, 12 November 2013 14:02

नई दिल्ली। वित्त मंत्री पी चिदंबरम ने आज विपक्षी दलों पर निशाना साधते हुए कहा कि सीबीआई के लिए ‘कांग्रेस जांच ब्यूरो’ जैसे नामकरण अपने हितों को साधने के लिए जानबूझकर किए जाते हैं।

उन्होंने एक अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन के विषय ‘आर्थिक अपराधों से निपटने के लिए आपराधिक न्यायिक प्रणाली बनाना’ से थोड़ा हटकर विचार रखने पर सम्मेलन में उपस्थित सीबीआई अधिकारियों और विदेशी प्रतिनिधियों से खेद प्रकट किया।

चिदंबरम ने भाजपा या अन्य किसी दल का नाम लिए बिना कहा, ‘‘सीबीआई को लेकर कई धारणाएं बन गयी हैं जिनमें उसे ‘पिंजरे में बंद तोता’ से लेकर अपशब्द रूपी नाम ‘कांग्रेस जांच ब्यूरो’ तक कहा जा रहा है। यह कोई भी व्याख्या सही या सार्थक नहीं है।’’

सम्मेलन को संबोधित करते हुए चिदंबरम ने कहा कि कुछ नामकरण सोच-समझकर अपने हितों को साधने के लिए किए जाते हैं।

उन्होंने कहा, ‘‘हल्के-फुल्के तौर पर मैं कह सकता हूं कि सीबीआई खुद भी ‘असहाय पीड़ित’ के तौर पर खुद को पेश करती है, जब वह और अधिक अधिकारों तथा स्वायत्तता की बात करती है।’’

वित्त मंत्री ने अपने भाषण को राजनीतिक अंदाज देते हुए कहा,


‘‘बमुश्किल कोई इस विरोधाभास पर ध्यान देता होगा जब कोई व्यक्ति सीबीआई को और अधिकार देने की वकालत करता है और फिर सीबीआई की कथित ज्यादती के खिलाफ भी आवाज उठाता है।’’

उन्होंने कहा, ‘‘कोई बमुश्किल यह पूछने की सोचता होगा कि सीबीआई किसी राजनीतिक दल के कहने पर कैसे चल सकती है जो पिछले 35 साल में 12 साल सरकार में रहा ही नहीं।’’

एक दिन पहले ही भाजपा ने आरोप लगाया था कि संप्रग सरकार भ्रष्टाचार से खुद को बचाने के लिए सीबीआई का दुरूपयोग कर रही है। विपक्षी दल ने सीबीआई को अधिक स्वायत्तता देने की मांग की थी।

प्रधानमंत्री पद के भाजपा के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी ने एक रैली में दावा किया था कि सीबीआई और आतंकवादी संगठन इंडियन मुजाहिदीन को भाजपा के पीछे लगाया गया है क्योंकि सरकार राजनीतिक तौर पर विपक्षी दल का मुकाबला नहीं कर सकती।

(भाषा)

आपके विचार