Bookmark and Share
कांग्रेस को ताकत दिए बगैर नहीं बदली जा सकती बुंदेलखण्ड की किस्मत: राहुल गांधी Print
User Rating: / 0
PoorBest 
Wednesday, 30 October 2013 18:54

सलेमपुर-राठ। कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने आज अर्से से सूखे और पिछड़ेपन से ग्रस्त बुंदेलखण्ड के लोगों को विकास के लिए ‘बड़े सपने’ देखने की सलाह देते हुए आज उत्तर प्रदेश सरकार पर क्षेत्र की तरक्की के लिए दिए गए पैकेज में खयानत का आरोप लगाया और कहा कि कांग्रेस को ताकत दिए बगैर बुंदेलखण्ड की किस्मत नहीं बदली जा सकती।

राहुल ने हमीरपुर के राठ और देवरिया के सलेमपुर में आयोजित धन्यवाद रैलियों में जहां बुंदेलखण्ड की नब्ज पर हाथ रखा वहीं, पूर्वांचल में चीनी मिलें बंद होने तथा किसानों से जुड़ी अन्य समस्याओं पर राज्य सरकार को घेरा। वह मुजफ्फरनगर दंगों पर भी बोले और कहा कि फसाद से सबका नुकसान होता है।

राहुल ने कहा कि उन्होंने इस पिछड़े क्षेत्र के विकास के लिए केन्द्र सरकार से तीन हजार करोड़ रुपए का पैकेज भेजवाया था लेकिन उसका फायदा लोगों तक नहीं पहुंचा। केन्द्र हजारों करोड़ रुपए उत्तर प्रदेश में भेजता है लेकिन वह सब गायब हो जाता है। बुंदेलखण्ड को बदलने के लिए लम्बी सोच होनी चाहिए और कांग्रेस को शक्ति दिए बगैर बुंदेलखण्ड की किस्मत नहीं बदली जा सकती।

बुंदेलखण्ड से अपना पुराना रिश्ता बताते हुए कांग्रेस नेता ने कहा ‘‘हम बुंदेलखण्ड को खड़ा करना चाहते हैं। आपको कहना चाहिए कि हमें ऐसी सरकार दो जो बुंदेलखण्ड को बदले। तुम्हारे सपने छोटे हैं, बड़े सपने देखो।’’

मुजफ्फरनगर दंगों का नाम लेते हुए उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश की जनता यह जानती है कि लड़ाई कौन कराता है। इसमें हिन्दू का भी नुकसान होता है और मुसलमानों का भी। इन ताकतों से बचने की जरूरत है।

उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में बहुत शक्ति है लेकिन यह शक्ति जाया हो रही है। प्रदेश में युवा मुख्यमंत्री हैं। इस राज्य को बदला जा सकता है लेकिन इसके लिए बुंदेलखण्ड की आवाज को सुनना पड़ेगा। बुंदेलखण्ड सालों से चिल्ला रहा है। दिल्ली तक तो उसकी आवाज पहुंच गयी लेकिन लखनऊ तक नहीं पहुंची।

बुंदेलखण्ड की राजस्थान से तुलना करते हुए राहुल ने कहा कि यहां की तरह उस रेतीले


राज्य में भी पानी की कमी है लेकिन वहां कांग्रेस की सरकार है। राजस्थान जाकर वहां विकास के बारे में किसी से भी पूछ लें पता चल जाएगा कि तरक्की कैसे लायी जाती है।

उन्होंने कहा कि कांग्रेस सरकार दिल्ली से मुम्बई के बीच औद्योगिक गलियारा बनाएगी जिसमें राजस्थान को भी जोड़ा जाएगा और आने वाले पांच सालों में भारत में सबसे ज्यादा रोजगार राजस्थान में होगा।

कांग्रेस उपाध्यक्ष ने विपक्ष पर निशाना साधते हुए कहा ‘‘विपक्ष भ्रष्टाचार के बारे में बात करता है। हमने आपको सूचना का अधिकार दिया है। पहले जो भ्रष्टाचार बंद कमरे में होता था वह अब बाहर आ गया है। यह क्रांति कांग्रेस लायी है।’’

उन्होंने कहा ‘‘कांग्रेस ही भोजन के अधिकार के रूप में सबसे बड़ा कानून लायी है। इसकी उत्तर प्रदेश खासकर बुंदेलखण्ड में सबसे ज्यादा जरूरत है लेकिन राज्य सरकार लोकसभा चुनाव से पहले इसे लागू नहीं करना चाहती, क्योंकि उसे डर है कि कहीं इससे उसे लोकसभा चुनाव में नुकसान ना हो जाए। आप इसे लागू कराने के लिए सरकार पर दबाव डालिए।’’

पूर्वांचल में गन्ना किसानों के दर्द का जिक्र करते हुए राहुल ने कहा ‘‘यहां चीनी मिलें बंद हो रही हैं और यहां के युवाओं को रोजगार की जरूरत है। दिल्ली की सरकार कई तरह की योजनाएं बना रही है जिनसे जनता को लाभ होगा। इसी तरह की कई योजनाएं केन्द्र सरकार उत्तर प्रदेश में उपलब्ध कराएगी।’’

राहुल ने कहा कि बुंदेलखण्ड की आवाज सुनकर ही केन्द्र की कांग्रेस नीत सरकार ने पूरे देश में किसानों का 70 हजार करोड़ रुपये कर्ज माफ किया और किसानों को शक्ति दी।

सलेमपुर में राहुल की रैली के दौरान अलग पूर्वांचल राज्य की मांग कर रहे स्वराज पार्टी के कार्यकर्ताओं और कांग्रेस कानकुनों के बीच धक्का-मुक्की हुई। कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने स्वराज पार्टी का मांगपत्र भी फाड़ दिया।

(भाषा)

आपके विचार