मुखपृष्ठ चौपाल
चौपाल

अमेरिकी इरादे

जनसत्ता 23 जुलाई, 2014 : नरेंद्र मोदी के प्रधानमंत्री बनने के बाद अमेरिका को उनसे कोई शिकायत नहीं रह गई है। गुजरात दंगों के

 

कतारों का देश

जनसत्ता 22 जुलाई, 2014 : भारत को यदि कतारों का देश कहा जाए तो इसमें किसी को आपत्ति नहीं होनी चाहिए। देश के विभिन्न शहरों में

 

भेदभाव के रंग

जनसत्ता 22 जुलाई, 2014 : बहुत दिनों से सोच रही थी ‘गोरे होने’ की क्रीम के विज्ञापनों पर प्रतिबंध लगना चाहिए। ‘खूबसूरती के

 

लोकतंत्र की भाषा

जनसत्ता 21 जुलाई, 2014 : लोकतंत्र में राजभाषा राजा, रानी, सामंतों और दरबारियों की भाषा नहीं होती। वह शासक और जनता के बीच संवाद

 

आपदा कु-प्रबंधन

जनसत्ता 21 जुलाई, 2014 : भारत में इस बार मानसून को कमजोर बताया जा रहा है, लेकिन अब मानसून की स्थिति यह है कि वह पहाड़ी इलाकों में

 

भूमि सुधार की दरकार

जनसत्ता 19 जुलाई, 2014 : बिहार राजनीतिक कशमकश के दौर से गुजर रहा है। लोकसभा चुनाव में करारी हार के बाद राज्यसभा चुनाव में

 

फीका जोश

जनसत्ता 19 जुलाई, 2014 : नरेंद्र मोदी ने शपथग्रहण समारोह में सार्क राष्ट्राध्यक्षों को आमंत्रित कर अपनी विदेश नीति का

 

दवा का मर्ज

जनसत्ता 18 जुलाई, 2014 : दवाइयों का मूल्य निर्धारण करने वाले सरकारी नियामक

 

तस्वीर यह भी

जनसत्ता 18 जुलाई, 2014 : इसमें संदेह नहीं है कि वेदप्रताप वैदिक एक वरिष्ठ

 

कूड़े से बिजली

जनसत्ता 18 जुलाई, 2014 : मोदी

 

इनकार में इकरार

जनसत्ता 17 जुलाई, 2014 : अपनी पाकिस्तान यात्रा में वेदप्रताप वैदिक की हाफिज सईद से मुलाकात सुनिश्चित रणनीति के

 
«StartPrev12345678910NextEnd»

 

आप की राय

सोनिया गांधी ने आरोप लगाया है कि 'भाजपा के झूठे सपने के जाल में आम जनता फंस गई है' क्या आप उनकी बातों से सहमत हैं?