मुखपृष्ठ चौपाल
चौपाल

समस्या बनाम समाधान

जनसत्ता 9 अगस्त, 2014 : यदि ऐसी पार्टी सत्ता में आ जाए जिसका दर्शन सांप्रदायिकता से शुरू होता है और उसी पर समाप्त होता है,

 

कितने मासूम

जनसत्ता 9 अगस्त, 2014 : संसदीय कार्यमंत्री वेंकैया नायडू ने विपक्ष को सकारात्मक भूमिका निभाने का उपदेश देते हुए वैसा आचरण

 

सुधार की दरकार

जनसत्ता 8 अगस्त, 2014 : मृणलिनी शर्मा ने ‘नौकरशाही का दुर्ग-द्वार’ (24 जुलाई) लेख में संघ लोक सेवा आयोग की परीक्षाओं की कसौटी

 

पुलिस में महिलाएं

जनसत्ता 8 अगस्त, 2014 : दिल्ली पुलिस बल में एक तिहाई संख्या महिलाओं की होगी। गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने बुधवार को संसद में इस

 

योग्यता बनाम स्पर्धा

जनसत्ता 7 अगस्त, 2014 : सन 2010 तक संघ लोक सेवा आयोग की सिविल सेवा परीक्षा के परिणामों पर नजर डालें तो इसमें ग्रामीण और भारतीय

 

बेपर्दा नैतिकता

जनसत्ता 7 अगस्त, 2014 : कुछ समय पहले स्टार टीवी पर आमिर खान ‘सत्यमेव जयते’ धारावाहिक के जरिए यौन हिंसा के शिकार बच्चों और

 

राहुल उवाच

जनसत्ता 7 अगस्त, 2014 : राहुल गांधी का कहना है कि संसद में उनकी आवाज सुनी नहीं जाती। इससे बड़ा मजाक भला और क्या हो सकता है! हमें

 

स्वराज की भाषा

जनसत्ता 6 अगस्त, 2014 : पवन कुमार गुप्त का लेख ‘स्वराज की दिशा में’ (16 जुलाई) पढ़ा। सवा अरब आबादी वाले भारत में चार हजार बोलियां

 

जले पर नमक

जनसत्ता 6 अगस्त, 2014 : भाजपा उपाध्यक्ष प्रभात झा का कहना है कि देश में महंगाई कम हो रही है, दालें सस्ती हो रही हैं और आप टमाटर

 

टकराव का मार्ग

जनसत्ता 5 अगस्त, 2014 : हमारा देश धर्मनिरपेक्ष है, इसलिए अपने संस्कारों या आस्थानुसार किसी भी तरह की धार्मिक यात्रा

 

अपराध की राजनीति

जनसत्ता 5 अगस्त, 2014 : हमारा चुनावी इतिहास बताता है कि पार्टियां राजनीति का अपराधीकरण रोकने के लिए संजीदा नहीं रही हैं। वे

 
«StartPrev12345678910NextEnd»

 

आप की राय

सोनिया गांधी ने आरोप लगाया है कि 'भाजपा के झूठे सपने के जाल में आम जनता फंस गई है' क्या आप उनकी बातों से सहमत हैं?