मुखपृष्ठ संपादकीय
संपादकीय
समाधान या उलझन

समाधान या उलझन

जनसत्ता 6 अगस्त, 2014 : छात्रों के आंदोलन की आंच से बचने के लिए केंद्र सरकार ने सोमवार को दो घोषणाएं कीं। एक यह कि संघ लोक

 

सादगी की मिसाल

जनसत्ता 6 अगस्त, 2014 : फिजूलखर्ची, आडंबरपूर्ण जीवन-शैली, लालबत्ती गाड़ियों के इस्तेमाल और आम नागरिकों से खुद को अलग दिखाने

 
सहयोग का सफर

सहयोग का सफर

जनसत्ता 5 अगस्त, 2014 : द्विपक्षीय संबंधों के लिहाज से भारत के किसी प्रधानमंत्री का नेपाल जाना सत्रह साल बाद हुआ।

 

ग्लासगो का हासिल

जनसत्ता 5 अगस्त, 2014 : रविवार को ग्लासगो के हैंपडेन पार्क में भव्य समारोह के साथ इस बार के राष्ट्रमंडल खेलों का समापन हुआ

 
गतिरोध के बाद

गतिरोध के बाद

जनसत्ता 4 अगस्त, 2014 : पिछले हफ्ते भारत के रुख के कारण विश्व व्यापार संगठन का

 

राहत का दस्तावेज

जनसत्ता 4 अगस्त, 2014 : सरकारी महकमों से विभिन्न कामों के सिलसिले में लोगों को कोई न

 
केरी की मंशा

केरी की मंशा

जनसत्ता 2 अगस्त, 2014 : मोदी सरकार बनने के बाद यह पहला मौका है जब अमेरिका के किसी प्रमुख प्रतिनिधि ने दिल्ली का रुख किया।

 

घपले का वितरण

जनसत्ता 2 अगस्त, 2014 : सार्वजनिक वितरण प्रणाली के बेहतर संचालन में छत्तीसगढ़ को ‘आदर्श राज्य’ के तौर पर पेश किया गया है और

 
श्रम का समय

श्रम का समय

जनसत्ता 1 अगस्त, 2014 : कारखानों में काम के समय और मजदूरों-कर्मचारियों की सुविधाओं में सुधार की दरकार लंबे समय से रही है।

 

त्रासदी की बरसात

जनसत्ता 1 अगस्त, 2014 : पिछले साल उत्तराखंड में बारिश और भूस्खलन की वजह से जानमाल का जैसा नुकसान हुआ, उसे याद कर आज भी लोगों

 
योजना की चाल

योजना की चाल

जनसत्ता 31 जुलाई, 2014 : हमारे देश में योजनाएं तो बड़े उत्साह से बनाई जाती हैं और उनके संभावित लाभ भी खूब गिनाए जाते हैं, मगर

 
«StartPrev12345678910NextEnd»

 

आप की राय

सोनिया गांधी ने आरोप लगाया है कि 'भाजपा के झूठे सपने के जाल में आम जनता फंस गई है' क्या आप उनकी बातों से सहमत हैं?