मुखपृष्ठ समांतर
समांतर

हर रोज युद्ध

गौतम राजरिशी

जनसत्ता 3 सितंबर, 2014: युद्ध केवल सरहद पर नहीं लड़े जाते। सरहद पर रातें लंबी होती हैं... अक्सर उम्र से भी

 

मजहब की दीवार

मोहम्मद तारिकुज्ज़मा

जनसत्ता 2 सितंबर, 2014: समूची दुनिया में आए दिन धर्म परिवर्तन की घटनाएं सामने

 

उलटी हवा

प्रफुल्ल कोलख्यान

जनसत्ता 1 सितंबर, 2014: भारत की औसत नागरिक बौद्धिकता इतिहास की अंतर्दृष्टियों से नहीं, पुराण

 

टूटते सपने

मोनिका शर्मा

जनसत्ता 29 अगस्त, 2014 : महिलाओं की असुरक्षा का प्रश्न केवल किसी घटना और उससे जुड़े समाचारों के

 

खैरागढ़ का पान

सतीश जायसवाल

जनसत्ता 28 अगस्त, 2014 : संजीव बक्शी की एक कविता का शीर्षक है- ‘खैरागढ़ में कट चाय और डबल

 

फिर भी ईमानदार

विष्णु बैरागी

जनसत्ता 27 अगस्त, 2014 : दोपहर को एलआइसी दफ्तर में भोजनावकाश। प्रीमियम जमा करने के लिए आए

 

असली नकली

संतोष त्रिवेदी

जनसत्ता 26 अगस्त, 2014 : आखिरकार वे लालकिले में चढ़ाई करने में कामयाब हो गए। पिछली बार वाला लालकिला

 

लाचार मासूम

संजय स्वदेश

जनसत्ता 25 अगस्त, 2014 : शिक्षा को मौलिक अधिकार बनाने के बाद यह बेहद जरूरी है कि बच्चों को

 

विवाद की परीक्षा

संतोष राय

जनसत्ता 22 अगस्त, 2014 : संघ लोक सेवा आयोग की प्रतियोगिता परीक्षाओं की तैयारी करने वाले विद्यार्थी हाल ही

 

स्त्री के बंधन

ज्योति सिडाना

 जनसत्ता 21 अगस्त, 2014 : भारतीय समाज पुरुष सत्ता की संस्कृति का प्रतिनिधित्व करने वाली उस व्यवस्था

 

एक हंसोड़ की मौत

रवि कुमार छवि

जनसत्ता 20 अगस्त, 2014 : अमेरिकी अभिनेता और आॅस्कर पुरस्कार विजेता रॉबिन विलियम्स ने फांसी लगा कर

 
«StartPrev12345678910NextEnd»

 

आप की राय

सोनिया गांधी ने आरोप लगाया है कि 'भाजपा के झूठे सपने के जाल में आम जनता फंस गई है' क्या आप उनकी बातों से सहमत हैं?