मुखपृष्ठ फोटो वर्ष 2012 में मनोरंजन जगत ने गंवाए कई अनमोल रत्न
वर्ष 2012 में मनोरंजन जगत ने गंवाए कई अनमोल रत्न

इतिहास का पन्ना बनने जा रहे वर्ष 2012 में मनोरंजन जगत को खासा नुकसान हुआ क्योंकि उसके कई अनमोल रत्नों ने अपनी समृद्ध विरासत छोड़ कर इस दुनिया को अलविदा कह दिया।

फोटो
फिल्म ‘शोले’ में एक डायलॉग ‘इतना सन्नाटा क्यों है भाई’ लरजती आवाज में बोल कर इकलौते पोते को खोने की आशंका तथा लाचारगी का अहसास कराते नेत्रहीन रहीम चाचा के किरदार को अमर बनाने वाले अभिनेता ए के हंगल ने 26 अगस्त को आखिरी सांस ली।
फिल्म ‘शोले’ मे...
 कुश्ती की दुनिया में कई सूरमाओं को धूल चटाने के बाद अभिनय जगत में दमदार उपस्थिति दर्ज कराने वाले रामायण के हनुमान दारा सिंह का 12 जुलाई को देहांत हो गया। ‘किंग कांग’ और ‘फौलाद’ में अपनी दमदार भूमिका के लिये जाने जाते हैं।
कुश्ती की दुनि...
आम आदमी की समस्याओं को व्यंग्य के माध्यम से उठाने वाले प्रसिद्ध हास्य कलाकार तथा फिल्म निर्माता जसपाल भट्टी का 25 अक्तूबर को जालंधर के निकट सड़क दुर्घटना में निधन हो गया।
आम आदमी की समस्...
‘रंजिशें सही’, ‘जिंदगी में तो सभी प्यार किया करते हैं‘, ‘पत्ता पत्ता बूटा बूटा’ जैसी बेहतरीन गजलों को अपनी मखमली आवाज से नवाजने वाले मेहदी हसन ने कराची के अस्पताल में 13 जून को आखिरी सांस ले ली।
‘रंजिशें सही’, ...
हिन्दी सिनेमा के एक पूरे दौर को अपने नाम करने वाले अभिनेता राजेश खन्ना ने 18 जुलाई को हमेशा के लिए आंखें मूंद लीं। ‘आराधना’, ‘हाथी मेरे साथी’, ‘आनंद’ और ‘अमर प्रेम’ लगातार 15 सुपरहिट फिल्में देने के कारण राजेश खन्ना को भारत केपहले सुपरस्टार थे।
हिन्दी सिनेमा क...
भारतीय संगीत का दुनियाभर में प्रचार प्रसार करने वाले मशहूर सितारवादक पंडित रविशंकर का 12 दिसंबर को अमेरिका के सैन डियागो में निधन हो गया।
भारतीय संगीत का...
नेपाल में हुए एक विमान हादसे में भारत की मशहूर चाइल्ड एक्ट्रेस तरूणी सचदेवा की मौत हो गई। 14 साल की तरूणि
नेपाल में हुए ए...
रूपहले पर्दे पर रोमांस को एक अलग तरह की नफासत देने वाले प्रसिद्ध फिल्म निर्माता निर्देशक यश चोपड़ा ने अपने पांच दशकों के करियर में बॉलीवुड को ‘त्रिशूल’, ‘दीवार’, ‘सिलसिला’, ‘चांदनी’, ‘कभी कभी’, ‘वीर जारा’ और ‘दिल तो पागल है’ जैसी सुपरहिट फिल्में दीं।
रूपहले पर्दे पर...

 

Display Num 
 
 

आप की राय

सोनिया गांधी ने आरोप लगाया है कि 'भाजपा के झूठे सपने के जाल में आम जनता फंस गई है' क्या आप उनकी बातों से सहमत हैं?