मुखपृष्ठ फोटो इतिहास के पन्नों में समाया तार...
इतिहास के पन्नों में समाया तार...

देश में कई पीढियों तक दूरदराज से अच्छे बुरे संदेश को शीघ्रातिशीघ्र भेजने का मुख्य माध्यम रही 163 साल पुरानी तार सेवा ने आज इतिहास के पन्नों में सिमट गयी। राजधानी में ‘तार सेवा’ आखिरी क्षणों को यादगार बनाने के लिए बड़ी संख्या में लोगों ने आज कतारों में खड़े होकर अपने प्रियजनों को तार भेजे।

फोटो
 देश में कई पीढियों तक दूरदराज से अच्छे बुरे संदेश को शीघ्रातिशीघ्र भेजने का मुख्य माध्यम रही 163 साल पुरानी तार सेवा ने आज इतिहास के पन्नों में सिमट गयी।
देश में कई पीढ...
राजधानी में ‘तार सेवा’ आखिरी क्षणों को यादगार बनाने के लिए बड़ी संख्या में लोगों ने आज कतारों में खड़े होकर अपने प्रियजनों को तार भेजे।
राजधानी में ‘ता...
एक समय लाखों लोगों के लिये संदेश पहुंचाने का सबसे तीव्र जरिया तार को आज अंतिम विदाई देने के साथ अंतिम टेलीग्राम को संग्राहल में रखे जाने का भी वादा किया गया।
एक समय लाखों लो...
हाल के वर्षों में इस सेवा को लगभग भुला दिया गया था पर इसके आखिरी दिन राजधानी में टेलीग्राफ सेंटर पर बड़ी संख्या में लोग अपने प्रियजनों को तार के जरिये संदेश देने के इरादे से एकत्रित हुए।
हाल के वर्षों म...
टेलीग्राम को विदाई देते समय एक बुजुर्ग की आँखे नम हो आईं।
टेलीग्राम को वि...
नमें खासकर एंड्राइड फोन पर मल्टी मीडिया संदेश भेजन की शौकीन युवा पीढी के प्रतिनिधि भी थे।
नमें खासकर एंड्...
पेशे से वकील आनंद साथियासीलन ने कहा, ‘‘यह पहला मौका है जब मैं टेलीग्राम भेज रहा हूं यह संदेश मैंने अपने 96 साल के दादा जी को भेजा है जो त्रिची के समीप एक गांव में रहते हैं।’’
पेशे से वकील आन...
भारत में तार सेवा सबसे पहले प्रायोगिक तौर पर 1850 में कोलकाता तथा डायमंड हार्बर के बीच शुरू की गयी थी। शुरू में इसका उपयोग ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी ने किया।
भारत में तार से...
रीयल एस्टेट कंपनी में प्रबंधक विकास अरविंद ने कहा कि वह बेरली में रह रहे अपने माता-पिता को बाधाई संदेश भेज रहे हैं।
रीयल एस्टेट कंप...
1854 में सेवा लोगों के लिये उपलब्ध हुई। उन दिनों यह सूचनाएं भेजने का सबसे अहम जरिया था।
1854 में सेवा ल...
देश की आजादी के लिये संघर्ष करने वाले क्रांतिकारियों ने ब्रिटिश हुकूमत की संचार सेवा को बाधित करने के लिए तार लाइन को काटने का तरीका अपना था।
देश की आजादी के...
फोन, मोबाइल, एसएमएस और इंटरनेट क्रांति के साथ इस तार सेवा का महत्व खत्म हो गया।
फोन, मोबाइल, एस...
सार्वजनिक क्षेत्र की दूरसंचार कंपनी बीएसएनएल ने आय में भारी गिरावट और नुकसान के कारण तार सेवा को बंद करने का निर्णय किया है।
सार्वजनिक क्षेत...
चार दशकों तक सरकारी सेवा में रहने वाले वरिष्ठ तार परिचालक और 1997 में सेवानिवृत्त हो चुके गुलशन राय विज तार के सुनहरे युग के दौरान अपने अनुभव को याद करते हैं।
चार दशकों तक सर...
विज ने प्रेट्र से कहा, ‘‘ तार लड़ाई और दुर्घटना में मौतों की बुरी खबर लाने के लिए कुख्यात था। आज इस खुद इस सेवा की समाप्ति खबर बन रही है।
विज ने प्रेट्र ...
हमने उस दौरान काम किया जब इसकी काफी मांग थी। नई प्रौद्योगिकी ने पुरानी प्रौद्योगिकी का स्थान लिया लेकिन तार ने हमें दो वक्त की रोटी दी, हमें पहचान दी। इसीलिए अब इस सेवा के खत्म होने की खबर से हम उदास हैं।’’
हमने उस दौरान क...
गुलशन राय विज ने कहा, ‘‘तार परिचालक के रूप में कोई भी बुरी खबर सुनकर भावना में बह नहीं सकता था क्योकि हमारे पास हजारों संदेश होते थे जिन्हें हमें समय पर देना होता था।
गुलशन राय विज न...
हम जितनी अपनी क्षमता से काम कर सकते थे, हमने किया। हम उस वक्त राष्ट्रीय भावना से ओत-प्रोत होकर काम करते थे और इसी से हमें कठिन समय में काम करने की शक्ति मिली।’’
हम जितनी अपनी क...
केंद्रीय टेलीग्राफ कार्यालय के एक कर्मचारी गजेन्द्र नेगी ने कहा, ‘‘पद के लिये योग्यता केवल प्रथम श्रेणी में मैट्रिक की परीक्षा पास करनी होती थी।
केंद्रीय टेलीग्...
लेकिन परीक्षा तथा तथा हस्तलिखित परीक्षण में जो तेज दिमाग के होते थे, उन्हें ही इस सेवा के लिये लिया जाता है। सभी तार परिचालकों को ‘डाट तथा डैस’ के बारे में अच्छी जानकारी होती थी जिसे वर्ष में अनुवाद किया जाता था....।’’
लेकिन परीक्षा त...

 

Display Num 
«StartPrev12NextEnd»
 
 

आप की राय

सोनिया गांधी ने आरोप लगाया है कि 'भाजपा के झूठे सपने के जाल में आम जनता फंस गई है' क्या आप उनकी बातों से सहमत हैं?