मुखपृष्ठ फोटो इतिहास के पन्नों में समाया तार...
इतिहास के पन्नों में समाया तार...

देश में कई पीढियों तक दूरदराज से अच्छे बुरे संदेश को शीघ्रातिशीघ्र भेजने का मुख्य माध्यम रही 163 साल पुरानी तार सेवा ने आज इतिहास के पन्नों में सिमट गयी। राजधानी में ‘तार सेवा’ आखिरी क्षणों को यादगार बनाने के लिए बड़ी संख्या में लोगों ने आज कतारों में खड़े होकर अपने प्रियजनों को तार भेजे।

फोटो
pti7_14_2013_000125b__it.helpdeskexpressindia.com_8
pti7_14_2013_00...
pti7_14_2013_000142b__it.helpdeskexpressindia.com_5
pti7_14_2013_00...
pti7_14_2013_000143a__it.helpdeskexpressindia.com_4
pti7_14_2013_00...
pti7_14_2013_000145a__it.helpdeskexpressindia.com_2
pti7_14_2013_00...
pti7_14_2013_000146b__it.helpdeskexpressindia.com_1
pti7_14_2013_00...

 

Display Num 
«StartPrev12NextEnd»
 
 

आप की राय

सोनिया गांधी ने आरोप लगाया है कि 'भाजपा के झूठे सपने के जाल में आम जनता फंस गई है' क्या आप उनकी बातों से सहमत हैं?