मुखपृष्ठ
Bookmark and Share
राकांपा को कुछ और सीट देने को तैयार: कांग्रेस PDF Print E-mail
User Rating: / 0
PoorBest 
Monday, 22 September 2014 09:16


नई दिल्ली। राकांपा के अपनी मांग से टस से मस नहीं होने के बीच महाराष्ट्र कांग्रेस के अध्यक्ष माणिक राव ठाकरे ने रविवार को कहा कि उनकी पार्टी अपनी सहयोगी को कुछ और सीटें देने को तैयार है, लेकिन अगर वह किसी खास संख्या पर अड़ी रहती है तो बात नहीं बन पाएगी। राज्य कांग्रेस के नेताओं ने यहां महाराष्ट्र के लिए अखिल भारतीय कांग्रेस समिति की स्क्रीनिंग कमेटी के अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे के आवास पर बैठक की। ऐसे संकेत हैं कि पार्टी ने 114 अन्य सीटों पर उम्मीदवारों को लेकर चर्चा की, जिन पर पिछले चुनाव में राकांपा लड़ी थी।


ठाकरे ने कहा- हम साथ लड़ना चाहते हैं और हम इसके लिए कोशिश कर रहे हैं। अल्टीमेटम देना ठीक नहीं है। हमने उन्हें बता दिया है कि हम उन्हें कितनी सीट देना चाहते हैं। लेकिन उन्होंने इस पर अब तक जवाब नहीं दिया है। पहले उन्हें हमारे प्रस्ताव पर जवाब देना चाहिए। उन्होंने कहा कि हम उनके प्रस्ताव के अनुसार कुछ और सीट छोड़ने को तैयार हैं लेकिन जिस तरीके से वे बात कर रहे हैं जैसे कि वे किसी खास संख्या के इच्छुक हैं। चीजें इस तरह से नहीं चलतीं।महाराष्ट्र और हरियाणा विधानसभा चुनाव के लिए उम्मीदवारों के नाम


को अंतिम रूप देने के लिए कांग्रेस की केंद्रीय चुनाव समिति की भी कल बैठक होने वाली है।

उधर, राकांपा ने कहा कि पार्टी की कोर समिति की सोमवार को मुंबई में होने वाली बैठक में इस मामले पर अंतिम फैसला किया जाएगा। हालांकि राकांपा के वरिष्ठ नेता प्रफुल्ल पटेल ने कहा कि हम विधानसभा की 144 सीटों की अपनी मूल मांग पर कायम हैं। पार्टी को कोई नया प्रस्ताव नहीं मिला है। चुनाव प्रक्रिया शुरू हो जाने के साथ ही यह समय महत्त्वपूर्ण हो गया है।

कांग्रेस ने इस पर कोई टिप्पणी नहीं की है। महाराष्ट्र में नेताओं के एक वर्ग का आरोप है कि उपमुख्यमंत्री अजीत पवार समाधान खोजने के प्रयासों में बाधा डाल रहे हैं।

राकांपा उपाध्यक्ष पटेल ने राज्य में 15 अक्तूबर को होने वाले विधानसभा चुनावों के लिए सीटों के तालमेल के मुद्दे पर शनिवार को कांग्रेस को एक दिन का समय दिया था। उन्होंने कहा था कि नामांकन प्रक्रिया शुरू हो गई है। सीटों की संख्या के संबंध में अपने प्रस्ताव पर कांग्रेस के जवाब के लिए हम एक दिन और प्रतीक्षा कर सकते हैं। पटेल ने हालांकि स्पष्ट किया था कि यह कोई अल्टीमेटम नहीं था।

(भाषा)


आपके विचार

 
 

आप की राय

सोनिया गांधी ने आरोप लगाया है कि 'भाजपा के झूठे सपने के जाल में आम जनता फंस गई है' क्या आप उनकी बातों से सहमत हैं?