मुखपृष्ठ
Bookmark and Share
मोदी की भाजपा PDF Print E-mail
User Rating: / 1
PoorBest 
Wednesday, 17 September 2014 12:33

जनसत्ता 17 सितंबर, 2014: लोकसभा चुनाव के बाद से भाजपा अपनी पहचान खोकर मोदी और शाह की निजी  पार्टी में बदल चुकी है। अफसोस है कि भाजपा के लोग मनमोहन सिंह बन कर रह गए। अटल, आडवाणी और जोशी को महत्त्वपूर्ण समिति से निकाले जाने पर भी किसी ने विपक्ष में कोई प्रतिक्रिया नहीं दी। यह सब क्या मोदी और शाह का डर है? बहरहाल, इस सबके परिणाम उपचुनावों में मिल गए हैं। 

यश वीर आर्य, दिल्ली



bold;" style="font-weight: bold;">फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करें- https://www.facebook.com/Jansatta

ट्विटर पेज पर फॉलो करने के लिए क्लिक करें- https://twitter.com/Jansatta 


आपके विचार

 
 

आप की राय

सोनिया गांधी ने आरोप लगाया है कि 'भाजपा के झूठे सपने के जाल में आम जनता फंस गई है' क्या आप उनकी बातों से सहमत हैं?