मुखपृष्ठ
Bookmark and Share
भाजपा के ध्रुवीकरण की नीति को जनता ने ठुकराया: कांग्रेस PDF Print E-mail
User Rating: / 0
PoorBest 
Wednesday, 17 September 2014 10:25



जनसत्ता ब्यूरो

नई दिल्ली। कांग्रेस ने मंगलवार को कहा कि उपचुनाव के परिणाम भाजपा के लिए खतरे की घंटी हैं क्योंकि जनता ने उसकी ध्रुवीकरण की नीति को ठुकरा दिया है। कांग्रेस ने दावा किया कि मोदी सरकार के सत्ता में आने के सौ दिन के अंदर ही सरकार विरोधी कारक ने काम करना शुरू  कर दिया है। वहीं भाजपा ने कहा कि कुछ उपचुनाव के नतीजे उसकी उम्मीदों के मुताबिक नहीं हैं।  

कांग्रेस महासचिव शकील अहमद ने उपचुनाव के नतीजे आने के बाद कहा कि लोगों ने भाजपा और मोदी सरकार के रवैये को पसंद नहीं किया। प्रधानमंत्री खुद खामोश रहते हैं, लेकिन भाजपा के नेताओं और मोदी सरकार के मंत्रियों ने अपने बयानों के जरिए ध्रुवीकरण की राजनीति की। अहमद ने कहा कि गुजरात और राजस्थान में कांग्रेस की जीत महत्त्वपूर्ण है क्योंकि इन दोनों राज्यों में लोकसभा चुनाव में पार्टी का खाता नहीं खुला था। उन्होंने कहा कि अब हम अपना प्रदर्शन बेहतर बनाने का प्रयास


करेंगे। उन्होंने कहा कि उपचुनाव के नतीजे यह जाहिर करते हैं कि यह पहली सरकार है, जिसके सत्ता विरोधी कारक ने सरकार के सत्ता में आने के सौ दिन के अंदर ही काम करना शुरू  कर दिया। 

वहीं उपचुनाव में हार का सामना करने वाली भाजपा ने कहा कि कुछ स्थानों के नतीजे उसकी उम्मीदों के अनुरूप नहीं हैं। जनता ने स्थानीय मुद्दों पर मतदान किया है। पार्टी प्रवक्ता शाहनवाज हुसैन ने कहा कि कई स्थानों पर हमें विजय मिली है। कुछ पर हार। चुनाव परिणाम हमारी उम्मीदों के मुताबिक नहीं हैं। उन्होंने कहा कि ये उपचुनाव स्थानीय मुद्दों पर लड़े गए हैं। पार्टी के लिए एक अच्छी खबर यह है कि पश्चिम बंगाल में कमल खिल गया है।

शाहनवाज ने कहा कि इन उपचुनाव को राष्ट्रीय या राज्य स्तरीय चुनाव के रूप में नहीं देखना चाहिए क्योंकि ये चुनाव स्थानीय मुद्दों पर लड़े गए। महाराष्ट्र और हरियाणा विधानसभा के चुनाव अगले महीने होने हैं। 


आपके विचार

 
 

आप की राय

सोनिया गांधी ने आरोप लगाया है कि 'भाजपा के झूठे सपने के जाल में आम जनता फंस गई है' क्या आप उनकी बातों से सहमत हैं?