मुखपृष्ठ
Bookmark and Share
ई-रिक्शा पर नीति नहीं बनी तो होगा आंदोलन: अरविंद केजरीवाल PDF Print E-mail
User Rating: / 0
PoorBest 
Wednesday, 17 September 2014 09:02



जनसत्ता ब्यूरो

नई दिल्ली। दिल्ली में ई-रिक्शा पर लगे प्रतिबंध के मुद्दे पर आम आदमी पार्टी (आप) के नेता अरविंद केजरीवाल ने एक प्रतिनिधिमंडल के साथ मंगलवार को केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी से मुलाकात की। मुलाकात के बाद केजरीवाल ने कहा कि अगर सरकार ने अगले 10 दिन में ई-रिक्शा पर कोई फैसला नहीं किया तो वो आंदोलन करेंगे। वहीं केजरीवाल से मिलने के बाद गडकरी ने कहा कि ई-रिक्शा पर नीति बनाते समय सरकार के लिए गरीबों के हित सर्वोपरी होंगे।

केंद्रीय मंत्री से मिलने के बाद मंगलवार को आप नेता ने कहा कि कांग्रेस सरकार नीति-निर्धारण में पंगुता का शिकार हुई। उसने कोई फैसला नहीं किया। भाजपा सरकार भी उसी समस्या का सामना कर रही है। केजरीवाल ने कहा कि गडकरी ने नई दिल्ली के रामलीला मैदान में एक रैली में आश्वासन दिया था कि मंत्रालय एक महीने में कोई नीति पेश करेगा। लेकिन आज तक कुछ नहीं हुआ। इससे ई-रिक्शा चालकों के दो लाख से ज्यादा परिवार भूखों मर रहे हैं। केजरीवाल ने कहा कि अगर इस पर अगले 10 दिन में कोई नीति नहीं आती है तो उनकी पार्टी आंदोलन करेगी। उन्होंने दावा किया कि जब उन्होंने रैली में किए गए आश्वासन के बारे में गडकरी से पूछा तो उन्होंने जवाब दिया कि उनपर अमल नहीं किया जा सका क्योंकि वे कानूनी प्रकृति के नहीं थे। 

केजरीवाल ने अपने ट्वीट में कहा कि उन्होंने (गडकरी ने) कहा कि उनके मंत्रालय ने बाद


में उनसे कहा कि इन घोषणओं को कार्यान्वित नहीं किया जा सकता क्योंकि वे कानूनी नहीं हैं। 

गडकरी ने सोमवार को कहा था कि ई-रिक्शा चलाने पर अगले 10 दिन में कोई अधिसूचना जारी की जाएगी। अदालत ने ई-रिक्शा चलाने पर प्रतिबंध लगा दिया है। गडकरी ने कहा था कि ई-रिक्शा से संबंधित एक अधिसूचना जारी की गई है। वे इसे वेबसाइट पर डालेंगे। अगले दस दिन लोगों की राय ली जाएगी। उसके तत्काल बाद समस्या का समाधान होगा। उन्होंने कहा कि ई-रिक्शा चालकों ने शिकायत की है कि उनके वाहनों के कई कलपुर्जे लापता हैं। पुलिस आयुक्त ने आश्वासन दिया है कि अगर चालक और मालिक अदालत के समक्ष वाहनों के छोड़े जाने की कोई अपील करेंगे तो पुलिस उसका विरोध नहीं करेगी।

नितिन गडकरी ने अरविंद केजरीवाल से मिलने के बाद कहा कि ई-रिक्शा के मामले में नए दिशा-निर्देशों को अंतिम रूप देते समय गरीबों के हित का ध्यान रखा जाएगा। उन्होंने ट्वीट कर कहा,‘आप के प्रतिनिधिमंडल से मिला, उन्हें ई-रिक्शा के नियमन के लिए सरकार की तरफ से उठाए गए कदमों की जानकारी दी। मंत्री ने कहा कि उन्होंने केजरीवाल व आप प्रतिनिधियों को आश्वस्त किया कि राजग सरकार के लिए गरीबों का हित सर्वोपरि है। इस दौरान गडकरी ने अपनी पुस्तक ‘इंडिया अस्पायर्स’ की एक प्रति दिल्ली के पूर्व मुख्यमंत्री को सौंपी।

आपके विचार

 
 

आप की राय

सोनिया गांधी ने आरोप लगाया है कि 'भाजपा के झूठे सपने के जाल में आम जनता फंस गई है' क्या आप उनकी बातों से सहमत हैं?