मुखपृष्ठ
Bookmark and Share
भारतीय मुक्केबाजी के ‘अच्छे दिन’ लौटाने का जाजोदिया का वादा PDF Print E-mail
User Rating: / 0
PoorBest 
Friday, 12 September 2014 12:28


नई दिल्ली। भारतीय मुक्केबाजी का खोया गौरव लौटाने की बड़ी चुनौती का सामना कर रहे बाक्सिंग इंडिया के नए अध्यक्ष संदीप जाजोदिया ने कहा कि पिछले कुछ साल से यह खेल अनाथ हो गया था लेकिन वह स्वच्छ प्रशासन के जरिये इसे ढर्रे पर लायेंगे ।

      जाजोदिया को बाक्सिंग इंडिया का निर्विरोध अध्यक्ष चुना गया । बाक्सिंग इंडिया ने कल हुए चुनाव के जरिये निलंबित भारतीय अमैच्योर मुक्केबाजी महासंघ की जगह ली ।

     एआईबीए अभी बाक्सिंग इंडिया को अस्थायी मान्यता देने में कुछ समय और लेगा । भारत दो साल के निलंबन के बाद नवंबर में फिर एआईबीए में शामिल होगा ।

     पिछले छह साल से भारतीय मुक्केबाजी के मुख्य प्रायोजक मोनेट इस्पात समूह के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक जाजोदिया ने हितों के टकराव के आरोपों को खारिज करते हुए मुक्केबाजों की वित्तीय स्थिति बेहतर करने का वादा किया ।

     उन्होंने कहा ,‘‘ मैने यह चुनौती ली क्योकि दिसंबर 2012 में निलंबन के बाद से भारतीय मुक्केबाजी गर्त में चली गई थी । मुख्य प्रायोजक होने के नाते मैं सब देख रहा था और खेल का खोया गौरव लौटाने के लिये कुछ करना जरूरी था । नुकसान खिलाड़ियों का हो रहा था जिन्हें मैं अब कह सकता हूं कि एशियाई खेलों में उनके तिरंगे तले खेलने की उम्मीद है ।’’

   जाजोदिया ने कहा ,‘‘ भविष्य के


लिये मैं पारदर्शी प्रशासनिक ढांचे का वादा करता हूं । मैं अधिकारों का विकेंद्रीकरण करूंगा । पहले अधिकार शीर्ष पर सीमित थे जिससे प्रादेशिक ईकाइयां और मुक्केबाज खुद को अनाथ और उपेक्षित महसूस करते थे । मैं उन्होंने तमाम गतिविधियों में शामिल करूंगा ।’’

     उन्होंने कहा ,‘‘ मुझसे इन्हीं लोगों ने पद संभालने का आग्रह किया था । मुक्केबाज भी मेरे पास आये थे । निराशा का यह आलम हो गया था । उम्मीद है कि मैं उनकी अपेक्षाओं पर खरा उतर सकूंगा ।’’

     हितों के टकराव के सवाल पर उन्होंने कहा कि वह इस गलत धारणा को दूर करने के सारे प्रयास करेंगे ।

     उन्होंने कहा ,‘‘ हितों का कोई टकराव नहीं है । मैं उन लोगों के प्रति जवाबदेह हूं जिन्होंने मुझे चुना है । मैं अकेले फैसले नहीं लूंगा । सारे फैसले सामूहिक होंगे और हितों का टकराव का सवाल उठने पर मैं उस कार्रवाई का हिस्सा नहीं रहूंगा ।’’

     जाजोदिया ने कहा कि उनका सबसे पहला लक्ष्य राष्ट्रीय चैम्पियनशिप का आयोजन है जो पिछले दो साल में नहीं हुई है । 

     उन्होंने कहा ,‘‘ महिला चैम्पियनशिप 11 या 12 अक्तूबर से रायपुर में होगी जबकि पुरूष चैम्पियनशिप 26 अक्तूबर से देहरादून में होगी ।’’

(भाषा)


आपके विचार

 
 

आप की राय

सोनिया गांधी ने आरोप लगाया है कि 'भाजपा के झूठे सपने के जाल में आम जनता फंस गई है' क्या आप उनकी बातों से सहमत हैं?