मुखपृष्ठ
Bookmark and Share
गगन नारंग एक स्थान से चूके ओलंपिक कोटा PDF Print E-mail
User Rating: / 0
PoorBest 
Friday, 12 September 2014 09:54


 ग्रेनाडा (स्पेन)। भारतीय निशानेबाज गगन नारंग महज एक स्थान से ओलंपिक कोटा चूक गए, वह गुरुवार को यहां 51वीं विश्व निशानेबाजी चैंपियनशिप की 50 मीटर राइफल प्रोन स्पर्धा के फाइनल्स में छठे स्थान पर रहे जबकि प्रकाश नानजप्पा और जीतू राय पुरुष 10 मीटर एअर पिस्टल स्पर्धा के फाइनल्स में करीब से चूक गए। 

कठिन क्वालीफाइंग की बाधा पार करने के बाद नारंग केवल 124.2 अंक ही बना सके और तब तक फाइनल्स में शीर्ष पांच का निर्धारण हो गया जिसमें तीन पदकधारी शामिल थे। इस स्पर्धा में पांच ओलंपिक कोटा रखे गए थे। एक अन्य भारतीय हरिओम सिंह क्वालीफाइंग में 45वें स्थान पर रहे और फाइनल्स तक जगह नहीं बना सके। 

महिलाओं की 50 मीटर राइफल 3 पाजीशन स्पर्धा में लज्जा गोस्वामीटर और अनुभवी अंजलि भागवत क्रमश: निचले 21वें और 27वें स्थान पर रहीं व फाइनल्स के लिए क्वालीफाई नहीं कर सकीं। 

जीतू राय जो दो दिन पहले ही पुरुषों की 50 मीटर पिस्टल स्पर्धा में रजत पदक जीतकर 2016 रियो ओलंपिक खेलों के लिए कोटा हासिल कर चुके हैं, वह 10 मीटर एअर पिस्टल में क्वालीफाई करने में असफल रहे और वह फाइनल क्वालीफाइंग में 10वें स्थान पर रहे। 

नानजप्पा सीईएआर जुआन कार्लोस 1 शूटिंग रेंज में उनसे जरा बेहतर नौंवे स्थान पर रहे। दोनों ने 181 का स्कोर बनाया था लेकिन नानजप्पा ने ज्यादा एक्स (बुल्स आई) पर निशाना लगाया था। कई पदक अपने नाम कर चुके नारंग ने 50 मीटर


राइफल प्रोन स्पर्धा के अंतिम एलिमिनेशन राउंड में 625.5 अंक जुटाकर सातवें स्थान पर रहे। उन्होंने 104.6, 104.2, 103.4, 104.2, 105.4, 103.7 अंक की सीरीज बनाई। 

नारंग ने स्पर्धा के बाद कहा, ‘मैं अपनी पसंदीदा एअर राइफल स्पर्धा में भाग लिए बिना थोड़ा परेशानी महसूस कर रहा हूं लेकिन मैंने प्रोन में भी खुद को हैरान कर दिया। मैं फ्लू से उबर रहा था और मेरे गले में इंफेक्शन था लेकिन मैंने क्वालीफाइंग में अच्छा स्कोर बनाया और मेरे लिए पदक जीतने और 2016 रियो ओलंपिक के लिए कोटा स्थान हासिल करने का बढ़िया मौका था। उन्होंने कहा कि लेकिन मैं इस स्पर्धा में अनुभवी नहीं हूं और फाइनल में यहीं मात खा गया। लेकिन कुछ पाजीटिव भी हैं। यह प्रोन में पहला विश्व चैंपियनशिप फाइनल था। इसलिए कुछ पाजीटिव चीजें रही लेकिन चूक जाने से निश्चित रू प से निराशा होती है।’

भारतीय निशानेबाजों की टूर्नामेंट में काफी खराब शुरुआत हुई जिसमें बेजिंग ओलंपिक के स्वर्ण पदक विजेता अभिनव बिंद्रा प्रतियोगिता के पहले दिन अपनी पसंदीदा स्पर्धा में क्वालीफाई करने से चूक गए। हालांकि एक दिन बाद फार्म में चल रहे राय ने रजत पदक जीतकर ओलंपिक कोटा हासिल किया और भारतीय दल में खुशियां ला दीं। इस चैंपियनशिप में निशानेबाजों के लिए 64 ओलंपिक कोटा स्थान रखे हुए हैं। 

(भाषा)   

आपके विचार

 
 

आप की राय

सोनिया गांधी ने आरोप लगाया है कि 'भाजपा के झूठे सपने के जाल में आम जनता फंस गई है' क्या आप उनकी बातों से सहमत हैं?