मुखपृष्ठ
Bookmark and Share
पूर्व आइपीएस वंजारा को फर्जी मुठभेड़ मामले में मिली जमानत PDF Print E-mail
User Rating: / 0
PoorBest 
Friday, 12 September 2014 08:55


मुंबई। बंबई हाई कोर्ट ने गुजरात के पूर्व आइपीएस अधिकारी डीजी वंजारा को जमानत दे दी। सोहराबुद्दीन शेख फर्जी मुठभेड़ मामले में वंजारा सात साल से ज्यादा वक्त से जेल में हैं।


गैंगस्टर सोहराबुद्दीन शेख की कथित फर्जी मुठभेड़ में हत्या के सिलसिले में उप महानिरीक्षक स्तर के अधिकारी वंजारा को 24 अप्रैल, 2007 को दो अन्य आइपीएस अधिकारियों राजकुमार पांडियान व दिनेश एमएन के साथ गिरफ्तार किया गया था। 

न्यायमूर्ति एएम थिप्से ने वंजारा को दो लाख रुपए के मुचलके और इतनी ही राशि की जमानत पर या एक लाख रुपए के एक मुचलके और इतनी ही राशि की दो जमानतों, जो उन्हें सही लगे, पर जमानत देने का आदेश दिया। न्यायाधीश ने वंजारा से अपना पासपोर्ट सीबीआइ को जमा करने व मामले में फैसला आने से पहले होने वाली सुनवाई तक हर सोमवार, बुधवार और शुक्रवार को मुंबई में निचली अदालत के सामने पेश होने को कहा।

वंजारा को साक्ष्यों के साथ छेड़छाड़ अथवा गवाहों को धमकाने जैसी कोई हरकत नहीं करने की चेतावनी भी दी गई। न्यायमूर्ति थिप्से ने जमानत देते हुए कहा कि


अगर वे निजी तौर पर पेश होने से छूट चाहते हैं तो उन्हें निचली अदालत को पहले नोटिस देना होगा।

सीबीआइ के मुताबिक सोहराबुद्दीन और उसकी पत्नी का गुजरात के आतंकवाद निरोधक दस्ते ने उस वक्त अपहरण कर लिया था जब वे हैदराबाद से महाराष्ट्र के सांगली जा रहे थे। वंजारा को सोहराबुद्दीन शेख फर्जी मुठभेड़ मामले में जमानत मिल गई है 

लेकिन उन्हें रिहा नहीं किया जाएगा क्योंकि उन्हें तुलसी प्रजापति मामले में और इशरत जहां व तीन अन्य को फर्जी मुठभेड़ में मारने से जुड़े मामले में इस तरह की राहत नहीं दी गई है।

इशरत समेत चारों के लश्करे तैयबा से जुड़े होने का दावा किया गया था। ये लोग 15 जून, 2004 को अमदाबाद पुलिस की अपराध शाखा के हाथों मारे गए थे। सोहराबुद्दीन की मुठभेड़ के चश्मदीद तुलसीराम प्रजापति को भी कथित तौर पर पुलिस ने फर्जी मुठभेड़ में दिसंबर, 2006 में गुजरात के बनासकांठा जिले के चापरी गांव में मार दिया था।

(भाषा)

आपके विचार

 
 

आप की राय

सोनिया गांधी ने आरोप लगाया है कि 'भाजपा के झूठे सपने के जाल में आम जनता फंस गई है' क्या आप उनकी बातों से सहमत हैं?