मुखपृष्ठ
Bookmark and Share
नई उमर का ख्वाब ‘लव जेहाद’ के दु:स्वप्न में बदल गया PDF Print E-mail
User Rating: / 2
PoorBest 
Thursday, 11 September 2014 09:09


मेरठ। ‘भइया हो सके तो मुझे माफ कर देना। मेरे पास कोई रास्ता नहीं था, मैं मुंबई जा रहा हूं। मैं अब एक कामयाब सिंगर बनकर आपको आॅनलाइन नजर आऊंगा। ’ यह पत्र पंद्रह साल के उस मुसलिम लड़के का है जो पिछले दिनों अपनी सहपाठी के साथ गायब हो गया था। लड़की हिंदू थी इसलिए हिंदू संगठनों ने तीखा विरोध जताया और इसे लेकर मेरठ में तनाव कायम रहा। दो दिन पहले पुलिस ने इन दोनों को जयपुर में ढूंढ़ निकाला। 


पुलिस का कहना है कि कक्षा दस में पढ़ने वाले दोनों विद्यार्थी महज अच्छे दोस्त हैं और इसमें कहीं कोई प्यार वाला मामला नजर नहीं आया। लड़की ने अपना बयान दर्ज करा दिया है। उसने कहा है कि वह अपनी मर्जी से लड़के  के साथगई थी और लड़के ने किसी तरह उसकी मजबूरी का फायदा नहीं उठाया। बहरहाल लड़के के खिलाफ दफा 363 केतहत प्राथमिकी दर्ज कराई गई है। लड़के को मजिस्ट्रेटी अदालत ने सूरजकुंड, मेरठ के एक सुधारगृह में भेज दिया है। उधर चौदह साल की लड़की को अदालत में अभी बयान देना है।

इससे पहले इन दोनों के गायब होने की खबर फैलते ही हिदू संगठनों ने विरोध जताया ौर एक समुदाय की दुकानों में तोड़फोड़ की। इसके बाद ही पुलिस को लड़के की गिरफ्तारी करनी पड़ी। आठ भाई-बहनों में सबसे छोटे इस किशोर के घर से भागने के पीछे कारण था उसकी गायक बनने की हसरत। लड़के का पिता महाराष्ट्र में एक बढ़ई का काम करता है और मेरठ में सबसे बड़ा भाई ही पूरे घर को देखता है। लड़के की बहन कहती हैकि मेरी अम्मी रोज उसे डांटती रहती थी कि मजहब का पालन करो और नमाज पढ़ो। उसकी बात हमने कभी मानी नहीं..उसके गाने का शौक पूरा नहीं किया। और अब ऐसे दिन आ गए कि उसे घर छोड़ना पड़ा। बहन कहती है कि जुलाई में ईद के मौके पर हमने उसे माइक भेंट किया था और इससे पहले कीबोर्ड दिया था। एक साल से वह किसी संगीत स्कूल में दाखिला कराने के लिए कह रहा था। लेकिन मैं ऐसा नहीं कर सकी।

परिवार को लड़के का एक मेमोरी कार्ड मिला है जिसमें उसके गाने


की वीडियो रिकार्डिंग है। उसका भाई कहता है कि वह मेरे मोबाइल में गाने रिकार्ड करता था और बाद में उसे मेमोरी कार्ड में डाल देता था। वह बॉलीवुड गायक अरिजीत सिंह का प्रशंसक था और उसी के गाने गाता था। बहन कहती है कि वह हमेशा ऊंचे सपने देखता था और आइआइटी में जाना चाहता था। 

पुलिस का कहना है कि किशोर की मित्र भी पढ़ाई में अच्छी है और जिस स्कूल में वे दोनों पढ़ते हैं, वहां उनकी किसी तरह की शिकायत नहीं है। लड़की गरीब परिवार से है और पूरा परिवार एक कमरे में रहता है। 

अपने घरवालों को लिखे पत्र में लड़के ने जिक्र किया है कि स्कूल में एक बार फीस न जमा होने के कारण किस तरह उसे शर्मिंदगी उठानी पड़ी। पुलिस के अनुसार, लड़के ने लड़की को मुंबई जाकर गायक बनने की योजना के बारे में बताया था। लड़की ने उसका साथ देने का फैसला कर लिया। लेकिन मुंबई जाने का साधन और पैसा न होने के कारण वे दोनों एक मित्र के पास जयपुर चले गए। पुलिस का कहना है कि लड़के के पास मोबाइल नहीं था। लेकिन उसने फेसबुक में अपने मित्र को संदेश भेजा था। 

उधर इन दोनों के घर से भाग जाने के बाद मेरठ के शास्त्रीनगर इलाके में तनाव फैल गया। हिंदू संगठनों की नाराजगी यहां के कुछ दुकानदारों को झेलनी पड़ी। सेक्टर-3 इलाके के दुकानदार मोहम्मद गुलफाम का कहना है कि अब वह अपनी दुकान यहां से हटाना चाहता है। यहां उसका ब्यूटी पार्लर था। वह कहता है कि इससे पहले भारत-पाक क्रिकेट मैच के दौरान उसकी दुकान पर हमला हुआ था। वह कहता है कि इस बार करीब पचास लोगों की भीड़ ने उसकी दुकान पर हमला किया और बारह हजार रुपए लूटकर ले गए। पुलिस का कहना है कि इस सिलसिले में चोरी और संपत्ति को नुकसान पहुंचाने का मामला दर्ज कर लिया गया है। एक अन्य दुकानदार मुबीन की दुकान पर भी उपद्रवियों ने हमला बोला। मोबीन ने किसी तरह पड़ोसी के घर में जाकर जान बचाई। उत्पातियों ने नई सड़क पर जाम भी किया था।   

  (ईएनएस)  

आपके विचार

 
 

आप की राय

सोनिया गांधी ने आरोप लगाया है कि 'भाजपा के झूठे सपने के जाल में आम जनता फंस गई है' क्या आप उनकी बातों से सहमत हैं?