मुखपृष्ठ
Bookmark and Share
मोदी का ‘धर्मनिरपेक्ष मित्रों’ वाला कटाक्ष ‘चौंकाने वाला’ और ‘अनुपयुक्त’: कांग्रेस PDF Print E-mail
User Rating: / 2
PoorBest 
Wednesday, 03 September 2014 17:20


नई दिल्ली। कांग्रेस ने आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर ‘‘धर्मनिरपेक्ष मित्रों’’ संबंधी उनके कटाक्ष के लिए निशाना साधते हुए कहा कि विदेशी धरती पर की गई यह टिप्पणी ‘‘चाौंकाने वाली और अशिष्ट’’ है और इसने जापान में भारत को उपहास का पात्र बनाया है ।  


     कांग्रेस प्रवक्ता संजय झा ने ट्विटर पर अपनी टिप्पणी में कहा, ‘‘विदेशी धरती पर धर्मनिरपेक्षता का मजाक उड़ाना, चांैकाने वाला और एक प्रधानमंत्री के लिए अनुपयुक्त है, जबकि भारत में खुद उनकी पार्टी ने सांप्रदायिक तापमान को बढा दिया है।’’

     झा ने कहा कि मोदी जापान में ‘‘सांप्रदायिक ढोल पीट रहे थे’’ और धर्मनिरपेक्षता के गंभीर मुद्दे की हंसी उड़ाना ‘‘अशिष्ट, अस्वीकार्य और अनपेक्षित’’ है ।

     उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री ने भारत के धर्मनिरपेक्षतावादियों का जापान में मजाक उड़ाया है । हम वहां उपहास के पात्र होंगे ।

     द्विपक्षीय संबंधों को मजबूत बनाने के लिए अपनी पांच दिवसीय जापान यात्रा के चौथे दिन मोदी


ने स्थानीय इंपीरियल पैलेस में सम्राट अकीहितो से मुलाकात की । वहां एक समारोह में भारतीय समुदाय को संबोधित करते हुए मोदी ने सम्राट को तोहफे के तौर पर देने के लिए अपनी जापान यात्रा में गीता की एक प्रति लाने का जिक्र किया ।

     प्रधानमंत्री ने कहा, ‘‘तोहफे में देने के लिए मैं गीता की एक प्रति अपने साथ लाया । मैं नहीं जानता कि इसके बाद भारत में क्या होगा । इस बारे में टीवी पर बहसें भी हो सकती हैं ।’’ 

     मोदी ने कहा, ‘‘हमारे धर्मनिरपेक्ष मित्र इस पर एक तूफान खड़ा कर देंगे कि मोदी अपने आप को समझते क्या हैं ? वह अपने साथ गीता ले गए जिसका मतलब यह है कि उन्होंने इसे भी सांप्रदायिक बना दिया ।’’

(भाषा)


आपके विचार

 
 

आप की राय

सोनिया गांधी ने आरोप लगाया है कि 'भाजपा के झूठे सपने के जाल में आम जनता फंस गई है' क्या आप उनकी बातों से सहमत हैं?