मुखपृष्ठ
Bookmark and Share
राजनीतिक गतिरोध समाप्त करने को विपक्षी नेताओं ने की इमरान खान और कादरी से मुलाकात PDF Print E-mail
User Rating: / 0
PoorBest 
Wednesday, 03 September 2014 17:04


 इस्लामाबाद। पाकिस्तान में विपक्षी दलों के एक प्रतिनिधिमंडल ने राजनीतिक गतिरोध को समाप्त करने के लिए कल रात पाकिस्तान तहरीके इंसाफ प्रमुख इमरान खान और पाकिस्तान अवामी तहरीक प्रमुख ताहिर उल कादरी से मुलाकात की।

        समाचार पत्र ‘डान’ में आज प्रकाशित खबर के अनुसार दक्षिणपंथी जमाते इस्लामी प्रमुख सिराजुल हक के नेतृत्व में सांसदों ने पहले खान और उसके बाद कादरी से मुलाकात की और उन्हें इस बात की गारंटी दी कि हिंसा भड़काने वाले इस संकट को समाप्त कराने के लिए होने वाले किसी भी समझौते को क्रियान्वित करने के लिए उन्हें संसद का समर्थन मिलेगा ।

        समाचार पत्र ‘डान’ ने हक के हवाले से कहा, ‘‘पाकिस्तान तहरीके इंसाफ ने हमारा (बातचीत का) अनुरोध खुले दिल से स्वीकार कर लिया और हम उनके शुक्रगुजार हैं।’’

        उन्होंने कहा कि वार्ता प्रक्रिया तब तक जारी रहेगी जब तक वह किसी तार्किक निष्कर्ष तक नहीं पहुंच जाती। 

    प्रतिनिधिमंडल का हिस्सा रहे पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी :पीपीपी: के वरिष्ठ नेता रहमान मलिक ने कहा कि हम खान को धन्यवाद देना चाहेंगे ‘‘जिन्होंने इतनी अधिक भीड़ के बीच हमसे मुलाकात की।’’ 

        मलिक ने सरकार विरोधी प्रदर्शनकारियों के खिलाफ हिंसा के


इस्तेमाल की निंदा की।

        उन्होंने कहा, ‘‘मैं सरकार से अनुरोध करूंगा कि वह पाकिस्तान अवामी तहरीक और पाकिस्तान तहरीके इंसाफ के वार्ता में शामिल होने के लिए सहमत होने को उनकी कमजोरी ना समझे।’’

        उन्होंने सरकार से अनुरोध किया कि वह देशभर में पाकिस्तान अवामी तहरीक और पाकिस्तान तहरीके इंसाफ के कार्यकर्ताओं को हिरासत में लेने की कार्रवाई बंद करे। 

        पाकिस्तान तहरीके इंसाफ उपाध्यक्ष शाह महमूद कुरैशी ने मीडिया को बताया कि उनकी पार्टी ने हक के नेतृत्व वाले दल के साथ बातचीत के दौरान यह विचार व्यक्त किया। उन्होंने बताया कि प्रस्तावित बैठक बुधवार शाम मलिक के आवास पर होगी जिस दौरान वार्ता वहां से फिर से शुरू होगी जहां वह टूट गई थी। 

        खान और कादरी दोनों ने पहली बार रात के समय खान के एक शिपिंग कंटेनर से प्रदर्शनकारियों को संबोधित किया जो एक ट्रक पर रखा हुआ था। दोनों नेताओं ने शरीफ के खिलाफ प्रदर्शन जारी रहने की प्रतिबद्धता जतायी।

(भाषा)

आपके विचार

 
 

आप की राय

सोनिया गांधी ने आरोप लगाया है कि 'भाजपा के झूठे सपने के जाल में आम जनता फंस गई है' क्या आप उनकी बातों से सहमत हैं?