मुखपृष्ठ
Bookmark and Share
इंग्लैंड के खिलाफ श्रृंखला जीतने के इरादे से उतरेगा भारत PDF Print E-mail
User Rating: / 0
PoorBest 
Monday, 01 September 2014 13:50


बर्मिंघम। भारत पांच मैचों की श्रृंखला में अजेय बढ़त हासिल करने के बाद कल यहां इंग्लैंड के खिलाफ चौथे एकदिवसीय मैच में एक बार फिर दमदार प्रदर्शन करते हुए श्रृंखला जीतने के इरादे के साथ मैदान पर उतरेगा।

     कार्डिफ में दूसरे वनडे में डकवर्ध लुईस पद्धति के तहत 133 रन और फिर कार्डिफ में तीसरे वनडे में छह विकेट की जीत के साथ भारत ने श्रृंखला में 2-0 की बढ़त हासिल कर ली है। इससे पूर्व ब्रिस्टल में पहला वनडे बारिश की भेंट चढ़ गया था।

     एजबस्टन में अब कल टीम इंडिया श्रृंखला जीतना चाहेगी। टीम का आत्मविश्वास बढ़ा हुआ है क्योंकि अब तक दो मैचों में इंग्लैंड उसे कड़ी चुनौती देने में नाकाम रहा है।

     टेस्ट श्रृंखला में शानदार प्रदर्शन करने वाली इंग्लैंड की टीम सीमित ओवरों के मैचों में बिलकुल भी लय में नहंी दिख रही। कप्तान एलिस्टेयर कुक की लगातार आलोचना हो रही है लेकिन अब तक दोनों मैचों में वह एलेक्स हेल्स के साथ मिलकर टीम को अर्धशतकीय शुरूआत दिला चुके हैं।

     कुक की कप्तानी के आलोचकों और यहां तक कि उनके सबसे करीबी समर्थक ग्रीम स्वान का भी मानना का है विश्व कप में उन्हें टीम की कप्तानी नहंी करनी चाहिए। कुक के कई फैसलों के कारण टीम को नुकसान उठाना पड़ा है और कई मौकों पर वह प्रभावित करने में नाकाम रहे।

    मसलन नाटिंघम में जब धोनी ने इंग्लैंड की पारी के 20 ओवर के भीतर ही सुरेश रैना और अंबाती रायुडू को गेंद सौंपी तो उन्हें इन दोनों के ओवरों में तेजी से रन बनाने चाहिये थे । 

     उस समय स्कोर एक विकेट पर 80 रन था और कोई भी टीम वैसा ही करती । इस तरह की आक्रामकता का इंग्लैंड टीम में अभाव नजर आया ।

     यही वजह है कि 50 ओवरों के क्रिकेट में वे कोई बड़ा टूर्नामेंट नहीं जीत सके। उन्होंने वनडे में आखिरी बड़ी जीत 2013 में न्यूजीलैंड में दर्ज की थी ।

     उसके बाद उन्होंने 2014 की शुरूआत में वेस्टइंडीज को हराया और आयरलैंड तथा स्काटलैंड के खिलाफ एक एक मैच जीता । आस्ट्रेलिया ने उसे दो बार हराया और श्रीलंका ने भी उसे शिकस्त दी । 

     इसके मायने यह भी हैं कि पिछले दो वनडे में मिली जीत से भारत को ज्यादा खुशफहमियां पालने की जरूरत नहीं है । यही टीम दक्षिण अफ्रीका और न्यूजीलैंड के खिलाफ जूझती नजर आई थी जहां


हालात अगले साल होने वाले विश्व कप के मेजबान आस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड की तरह के थे ।

      भारतीय सलामी बल्लेबाज अनुशासित कीवी गेंदबाजी के सामने अच्छी शुरूआत नहीं कर पाये । मध्यक्रम भी दबाव नहीं झेल सका । सिर्फ विराट कोहली और धोनी ने न्यूजीलैंड में रन बनाये थे । यहां कोहली खराब फार्म में है और भारत को सफलता दूसरे बल्लेबाजों ने दिलाई है ।

     रोहित शर्मा की उच्च्ंगली में चोट के कारण भारत की विश्व कप की तैयारियों को धक्का लगा है । आस्ट्रेलिया में त्रिकोणीय श्रृंखला से पहले भारत की विदेशी सरजमीं पर यह आखिरी वनडे श्रृंखला है । ऐसे में भारत चाहता होगा कि रोहित और शिखर धवन पांचों मैच खेले लेकिन रोहित जहां चोटिल हैं, वहीं धवन खराब फार्म से नहीं उबर सके हैं । 

    दक्षिण अफ्रीका, न्यूजीलैंड और इंग्लैंड में आठ मैचों में उनका स्कोर 12, 0, 32, 12, 28, 9, 11 और 16 रहा । वह पिछले साल चैम्पियंस ट्राफी वाला प्रदर्शन दोहराने में नाकाम रहे हैं ।

     भारत के लिये यह बड़ी समस्या है । अजिंक्य रहाणे अनियमित सलामी बल्लेबाज के रूप में उतरे हैं लेकिन रोहित और धवन दोनों के खेलने पर वह चौथे नंबर पर उतरते आये हैं ।

     ट्रेंट ब्रिज में भारतीय खेमे ने रहाणे को बल्लेबाजी क्रम में उच्च्पर भेजा जिससे अंबाती रायुडू को एक और मौका मिला । उन्होंने मिडिलसेक्स के खिलाफ अभ्यास मैच में अच्छी अर्धशतकीय पारी खेली थी । उन्हें अंतिम एकादश में अधिक मौके नहीं मिले लेकिन ट्रेंट ब्रिज में मौका मिलने पर उन्होंने कैरियर की सर्वश्रेष्ठ नाबाद 64 रन की पारी खेली ।

     इस बीच मुरली विजय भी रोहित के विकल्प के तौर पर टीम में आये हैं लिहाजा टीम इंडिया को चयन की दुविधा झेलनी होगी । 

टीमें  :

भारत :

    एम एस धोनी (कप्तान), शिखर धवन, मुरली विजय, विराट कोहली, अजिंक्य रहाणे, सुरेश रैना, अंबाती रायुडू, स्टुअर्ट बिन्नी, संजू सैमसन, आर अश्विन, रविंद्र जडेजा, कर्ण शर्मा, मोहित शर्मा, उमेश यादव, मोहम्मद शमी, धवल कुलकर्णी, भुवनेश्वर कुमार ।

इंग्लैंड :

    एलेस्टेयर कुक (कप्तान), मोईन अली, जेम्स एंडरसन, गैरी बैलेंस, इयान बेल, जोस बटलर, स्टीवन फिन, हैरी गर्ने, एलेक्स हेल्स, क्रिस जोर्डन, ईयोन मोर्गन, जो रूट, बेन स्टोक्स, जेम्स ट्रेडवेल, क्रिस वोक्स ।

(भाषा)


आपके विचार

 
 

आप की राय

सोनिया गांधी ने आरोप लगाया है कि 'भाजपा के झूठे सपने के जाल में आम जनता फंस गई है' क्या आप उनकी बातों से सहमत हैं?