मुखपृष्ठ
Bookmark and Share
इबोला को लेकर ताजा चेतावनी जारी, टीके पर काम तेज PDF Print E-mail
User Rating: / 0
PoorBest 
Friday, 29 August 2014 11:00


आकरा। विश्व स्वास्थ्य संगठन के प्रमुख ने चेतावनी दी है कि पश्चिम अफ्रीका में फैली इबोला महामारी नियंत्रण मे आने से पहले और विकराल रूप धारण करेगी। दूसरी ओर प्रभावित देशों के स्वास्थ्य मंत्रियों ने संकट वार्ता शुरू  की है। इस बीच अनुसंधानकर्ताओं ने कहा कि इबोला टीके के परीक्षणों की रफ्तार तेज की जा रही है जिससे इसे स्वस्थ लोगों को सितंबर तक दिया जा सकता है। ‘ग्लैक्सोस्मिथक्लाइन’ ने इस कदम की घोषणा की जो ब्रिटेन के ‘वेलकम ट्रस्ट’ के साथ संयुक्त रूप से इस टीके को विकसित कर रहा है। बयान में कहा गया कि इबोला का टीका सुरक्षा परीक्षणों की शृंखला के तहत ब्रिटेन, गांबिया और माली में स्वास्थ्य कर्मियों को सितंबर की शुरूआत में दिया जा सकता है। ‘सेंटर्स फॉर डिजिजेज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन’ के निदेशक टॉम फ्राइडेन ने कहा कि इससे तुरंत निजात पाने का कोई रास्ता नहीं है। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने इसे अभूतपूर्व महामारी बताते हुए त्वरित कार्रवाई की मांग की है।


इस साल के शुरू में फैली इस महामारी ने अभी तक कुल 1427 लोगों की जान ली है और 2615 लोग इस संक्रमण के शिकार हुए हैं। ज्यादातर मौतें सिएरा लिओन, लाइबेरिया और गिनिया में हुई हैं। नाइजीरिया में भी कई लोग मारे गए हैं। लेकिन संक्रमित लोगों का इलाज कर


रहे विश्व स्वास्थ्य संगठन और अन्य का मानना है कि मारे गए लोगों का आंकड़ा वास्तविक मौतों के मुकाबले बहुत कम हैं क्योंकि सामुदायिक प्रतिरोध के कारण बहुत से लोग बाहरी चिकित्सा सेवाएं नहीं लेते और प्रभावित क्षेत्र के कुछ हिस्सों तक अभी भी लोग पहुंच नहीं सके हैं।

लाइबेरिया की राजधानी मोनरोविया में बुधवार शाम आयोजित संवाददाता सम्मेलन में फ्राइडेन ने कहा-‘मामले बढ़ रहे हैं। काश मुझे ऐसा नहीं कहना पड़ता। लेकिन स्थिति नियंंत्रित होने से पहले और बिगड़ेगी।’ दूसरी ओर पश्चिम अफ्रीकी क्षेत्रीय ब्लॉक ‘ईसीओडब्लूएएस’ के स्वास्थ्य मंत्रियों की घाना में इस पूरे मामले को लेकर बैठक चल रही है। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कहा है कि तीन महीने में इबोला संक्रमण के फैलाव को नियंत्रित करने का उसका लक्ष्य है, लेकिन साथ ही उसने चेतावनी दी कि पश्चिम अफ्रीका में फैली यह महामारी इस बीच 20,000 से ज्यादा लोगों को प्रभावित कर चुकी होगी। इबोला विरोधी नई योजना में संयुक्त राष्ट्र स्वास्थ्य एजंसी का लक्ष्य है कि वह संक्रमण को तीन महीने के भीतर नियंत्रित कर ले और अंतिम लक्ष्य है छह से नौ महीने के भीतर संक्रमण को पूरी तरह समाप्त करना।

(एएफपी)

आपके विचार

 
 

आप की राय

सोनिया गांधी ने आरोप लगाया है कि 'भाजपा के झूठे सपने के जाल में आम जनता फंस गई है' क्या आप उनकी बातों से सहमत हैं?