मुखपृष्ठ
Bookmark and Share
सेबी को ज्यादा शक्तियां देने वाला कानून अधिसूचित PDF Print E-mail
User Rating: / 0
PoorBest 
Thursday, 28 August 2014 16:04


 नई दिल्ली। सेबी को पहले से ज्यादा अधिकार देने वाला संशोधित कानून सरकार ने अधिसूचित कर दिया है। गैरकानूनी तरीके से धन जुटाने और दूसरी तरह की धोखाधड़ी के मामले में कारवाई के लिए सेबी को अतिरिक्त अधिकार दिेए गए हैं।  नए कानून के तहत सेबी को संपत्ति कुर्क करने, भुगतान नहीं करने वालों की गिरफ्तारी और संबंधित व्यक्तियों के सभी कॉल डाटा रिकॉर्ड हासिल करने का अधिकार मिल गया है।  

   इस महीने संसद द्वारा पारित प्रतिभूति कानून संशोधन अधिनियम में पूंजी बाजार संचालन से जुड़े सभी कानूनों में संशोधन किया गया है। इसके तहत विशेष सेबी अदालत गठित करने में भी मदद मिलेगी जिसके तहत धोखाधड़ी के संदिग्ध मामलों में जांच एवं जब्ती प्रक्रिया के लिये भी स्वीकृति दी जा सकेगी।

   नए अधिनियम में 57 उप-बंध हैं जिसके तहत सेबी अधिनियम के विभिन्न खंडों और दो अन्य संबंधित कानूनों में संशोधन किया गया। संशोधन विधेयक छह अगस्त को लोकसभा में और 12 अगस्त को राज्य सभा में पारित


हो गया था। 

    सेबी को ज्यादा अधिकार देने के लिए सबसे पहले जुलाई 2013 में पहली बार अध्यादेश जारी किया गया। अध्यादेश पिछले साल सितंबर में दूसरी बार जारी किया गया और फिर जनवरी में तीसरी बार जारी किया गया क्योंकि उस समय संसद में सेबी को स्थायी शक्ति प्रदान करने संबंधी विधेयक पारित नहीं किया जा सका था। उसके करीब साल भर बाद अधिसूचना जारी हुई है।

   तीसरे अध्यादेश की अवधि पिछले महीने समाप्त हो गई जिससे सेबी की ये अतिरिक्त शक्तियां खत्म हो गईं। इस दौरान अध्यादेश जारी रहने की अवधि में करीब 1,500 मामलों की जांच हो रही थी।

   यह अध्यादेश पश्चिम बंगाल में सारदा घोटाले जैसे देश भर के अन्य धोखाधड़ी  वाली निवेश योजनाओं के मद्देनजर लाया गया था जिसके जरिए लाखों छोटे निवेशकों के साथ ठगी की जा रही थी।

(भाषा)





आपके विचार

 
 

आप की राय

सोनिया गांधी ने आरोप लगाया है कि 'भाजपा के झूठे सपने के जाल में आम जनता फंस गई है' क्या आप उनकी बातों से सहमत हैं?