मुखपृष्ठ
Bookmark and Share
धोनी की डंकन फ्लेचर पर टिप्पणी से बीसीसीआइ नाराज PDF Print E-mail
User Rating: / 0
PoorBest 
Tuesday, 26 August 2014 10:56


नई दिल्ली। भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धोनी का कोच डंकन फ्लेचर को अब भी टीम ‘बॉस’ बताने और उनके विश्व कप 2015 तक बने रहने संबंधी बयान बीसीसीआइ को रास नहीं आया और वह कार्यकारिणी की अगली बैठक में इस पर चर्चा करेगा। 


बीसीसीआइ के शीर्ष पदाधिकारी धोनी की ब्रिस्टल में मैच से पूर्व संवाददाता सम्मेलन में की गई टिप्पणी से नाराज है। उनका कहना है कि कप्तान ने ‘सीमाएं लांघी हैं’ और कोच के कार्यकाल का फैसला करना उनका काम नहीं है। धोनी की टिप्पणी के बाद कयास लगाए जाने लगे कि क्या भारत की इंग्लैंड के हाथों टैस्ट शृंखला में शर्मनाक हार के बाद रवि शास्त्री को टीम का निदेशक नियुक्त करने के मामले में उनकी और बीसीसीआइ के शीर्ष पदाधिकारियों की राय एक जैसी थी या नहीं। 

बोर्ड के फैसलों में अहम भूमिका निभाने वाले एक शीर्ष पदाधिकारी ने साफ किया कि यह मसला बोर्ड की कार्यकारिणी की अगली बैठक में उठाया जाएगा। इस पदाधिकारी ने  कहा, ‘जो कुछ हुआ वह बहुत निराशाजनक है। भारतीय कप्तान को ऐसी टिप्पणी नहीं करनी चाहिए थी। बोर्ड की कार्यकारिणी की अगली बैठक में इस पर चर्चा होगी। सीधे शब्दों में कहें तो धोनी को इस पर टिप्पणी करने का अधिकारी नहीं है कि टीम का बॉस कौन है। यह उनके अधिकार क्षेत्र में नहीं आता है।’

अधिकारी ने कहा, ‘निश्चित तौर पर धोनी ने भारतीय कप्तान के रू प अपनी सीमाओं को लांघा है। पत्रकार उनसे कुछ भी सवाल कर सकते हैं लेकिन परिपक्व क्रिकेटर होने के नाते उन्हें पता होना चाहिए कि उन्हें क्या बोलना है। जिस तरह से बीसीसीआइ अधिकारी यह तय नहीं करते कि अंतिम एकादश क्या होगी उसी तरह से धोनी को यह फैसला नहीं कर सकते कि किसको कब तक बने रहना है। विभिन्न दौरों पर भारतीय टीम के साथ मैनेजर के रू प में जाने वाले इस अधिकारी ने कहा कि सहयोगी स्टाफ की भर्ती करने या उनके कार्यकाल पर टिप्पणी करने का काम उन्हें नहीं सौंपा गया है।’

बीसीसीआइ सचिव संजय पटेल ने पहले ही साफ


कर दिया था कि टीम अब ‘रवि शास्त्री के अधीन’ रहेगी और फ्लेचर को उन्हें रिपोर्ट करनी होगी। शास्त्री ने भी मीडिया को दिए साक्षात्कार में कहा था कि फ्लेचर को उन्हें रिपोर्ट करनी होगी और वह टीम के ओवरआल इंचार्ज हैं। धोनी ने हालांकि संवाददाता सम्मेलन में कोच फ्लेचर का समर्थन करते हुए उन्हें टीम का ‘बॉस’ करार दिया और कहा कि वह विश्व कप 2015 तक बने रहेंगे। 

धोनी ने कहा था, ‘वह विश्व कप तक हमारी अगुआई करेंगे। इसके अलावा वह अब भी बॉस हैं। हमारे साथ रवि शास्त्री हैं जो हर चीज पर गौर करेंगे लेकिन फ्लेचर बॉस हैं। उन्होंने कहा कि ऐसा नहीं है कि उनके (फ्लेचर) अधिकार या पद को कम कर दिया गया है। मैं नहीं जानता कि बाहर से आप कैसा महसूस कर रहे हैं लेकिन टीम में अब भी पहले की तरह काम चल रहा है। अब ड्रेसिंग रू म में कुछ अन्य सहयोगी स्टाफ पहुंच गया है लेकिन कुल मिलाकर संचालन पहले जैसा ही है।’

धोनी ने साथ ही कहा कि रवि शास्त्री केवल टीम की तैयारियों को देखेंगे जिसे पूर्व भारतीय आलराउंडर की टीम में स्थिति को कम करके आंकने की कोशिश के रू प में देखा जा रहा है। कप्तान ने इसके साथ ही साफ किया कि क्षेत्ररक्षण कोच ट्रेवर पेनी और गेंदबाजी कोच जो डावेस को छुट्टी पर भेजने के फैसले को उनकी स्वीकृति नहीं मिली थी। 

धोनी से पूछा गया कि क्या वह बदलाव के समय से खुश हैं, उन्होंने कहा, ‘यह ट्रेवर (पेनी) और जो (डावेस) के लिए मुश्किल भरा फैसला रहा विशेषकर क्षेत्ररक्षकों ने कैच छोड़े और सजा क्षेत्ररक्षण कोच को भुगतनी पड़ी। लेकिन आप बेहतर की उम्मीद करिए। हम नए स्टाफ का स्वागत कर रहे हैं क्योंकि यह महत्त्वपूर्ण है। वे अब ड्रेसिंग रूम परिवार के सदस्य हैं। हमें उन्हें सामंजस्य बिठाने के लिए कुछ समय देना होगा।’

(भाषा)


आपके विचार

 
 

आप की राय

सोनिया गांधी ने आरोप लगाया है कि 'भाजपा के झूठे सपने के जाल में आम जनता फंस गई है' क्या आप उनकी बातों से सहमत हैं?