मुखपृष्ठ
Bookmark and Share
आज दूसरे दिन प्रदर्शनकारी नेताओं से मिलेंगे पाकिस्तान सरकार के वार्ताकार PDF Print E-mail
User Rating: / 0
PoorBest 
Thursday, 21 August 2014 14:03


 इस्लामाबाद। सप्ताह भर से जारी राजनैतिक संकट और प्रदर्शनकारियों द्वारा संसद की घेराबंदी का अंत करने के लिए एक समझौता करने के वास्ते पाकिस्तान सरकार के वार्ताकार आज दूसरे दिन सरकार-विरोधी प्रदर्शनकारी नेताओं से मुलाकात करेंगे। ये प्रदर्शनकारी प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के इस्तीफे की मांग कर रहे हैं।


     पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ के प्रमुख इमरान खान और तेजतर्रार धार्मिक नेता ताहिर -उल-कादरी के हजारों समर्थक संसद की इमारत के बाहर प्रदर्शन कर रहे हैं।

     हालात में थोड़ी नरमी के संकेत तब मिले, जब ताकतवर सेना ने हस्तक्षेप से इंकार कर दिया और दोनों पक्षों से ‘‘अर्थपूर्ण’’ वार्ताएं आयोजित करने के लिए कहा।

     सेना के प्रमुख जनरल रहील शरीफ ने शरीफ के छोटे भाई शाहबाज शरीफ से बात की। ये लोग व्यापक स्तर पर हो रहे प्रदर्शनों पर चर्चा करने के लिए उनसे दो दिनों में दूसरी बार मिले हैं।          

     जनरल शरीफ ने व्यापक स्तर पर हो रहे विरोध प्रदर्शनों का अंत करने के लिए सरकार को प्रदर्शनकारियों के साथ ‘‘अर्थपूर्ण बातचीत’’ करने के लिए कहा।

     सरकार के पांच सदस्यों वाले एक दल ने पिछली रात खान की पार्टी की छह सदस्यीय समिति से मुलाकात


की लेकिन दोनों पक्ष शरीफ के इस्तीफे के मुद्दे पर कोई प्रगति करने में विफल रहे।  

     अपनी बैठक के अंत में खान के करीबी सहयोगी शाह महमूद कुरैशी ने कहा कि दोनों पक्ष आज दोबारा मुलाकात करेंगे।

     खान ने पहले कहा था कि जब तक शरीफ इस्तीफा नहीं दे देते, तब तक वे वार्ता में शामिल नहीं होंगे लेकिन बाद में वे अपने रूख में नरमी लाए।

     एक सरकारी अधिकारी ने कहा कि खान कार्यकर्ताओं को रेड जोन में लाकर एक सीमा तक पहुंच चुके हैं। इस क्षेत्र में संसद भवन, प्रधानमंत्री आवास, राष्ट्रपति आवास, उच्चतम न्यायालय, दूतावास समेत कई महत्वपूर्ण सरकारी इमारतें हैं।

     उन्होंने कहा, ‘‘वे यहां से कहीं और नहीं जा सकते। यदि वे प्रधानमंत्री आवास या संसद पर धावा बोलते हैं, तो वहां उनका सामना सैनिकों से होगा।’’

     ऐसा माना जाता है कि सरकार और खान दोनों ही इस गतिरोध का अंत करने के लिए व्याकुल हैं। लेकिन खान कुछ बड़ा लाभ लेकर ही वे वापस जाना चाहते हैं।

(भाषा)


आपके विचार

 
 

आप की राय

सोनिया गांधी ने आरोप लगाया है कि 'भाजपा के झूठे सपने के जाल में आम जनता फंस गई है' क्या आप उनकी बातों से सहमत हैं?