मुखपृष्ठ
Bookmark and Share
कश्मीर में जायज हिस्सेदारी है: पाकिस्तान PDF Print E-mail
User Rating: / 1
PoorBest 
Wednesday, 20 August 2014 01:24

alt

इस्लामाबाद। पाकिस्तानी राजदूत की कश्मीरी पृथकतावादियों से मुलाकात को लेकर भारत द्वारा दोनो देशों के बीच विदेश सचिव स्तर की वार्ता रद्द किए जाने पर आज कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए पाकिस्तान ने कहा कि वह भारत का ‘गुलाम नहीं’ है और कश्मीर विवाद में उसकी ‘‘जायज हिस्सेदारी’ है।

इस बात पर जोर देते हुए कि पाकिस्तान के उच्चायुक्त अब्दुल बासित ने भारत के अंदरूनी मामलात में दखलंदाजी नहीं की, पाकिस्तान के विदेश विभाग की प्रवक्ता तसनीम असलम ने दावा किया कि कश्मीर भारत का हिस्सा नहीं है।

तसनीम ने पीटीआई से कहा, ‘‘यह सिर्फ बहाना है। यह पहला मौका तो नहीं है जब हुर्रियत नेताओं के साथ मुलाकात हुई है। ऐसा दशकों से होता आ रहा है।’’

तसनीम भारत की विदेश सचिव सुजाता सिंह द्वारा बासित को नई दिल्ली में पृथकतावादी नेताओं से मुलाकात न करने और बातचीत के लिए भारत अथवा कश्मीरी पृथकतावादियों में से किसी एक का चयन करने के लिए कहने के बारे में टिप्पणी कर रही थीं।

उन्होंने कहा, ‘‘पाकिस्तान के उच्चायुक्त ने भारत के अंदरूनी मामलात में


दखल नहीं दिया। पाकिस्तान भारत का गुलाम नहीं है। यह एक प्रभुतासंपन्न राष्ट्र है, जम्मू और कश्मीर विवाद में एक जायज भागीदार है।’’

भारत में पाकिस्तानी मिशन में काम कर चुकीं असलम ने जोर देकर कहा, ‘‘कश्मीर भारत का हिस्सा नहीं है।’’

पाकिस्तान ने अगले सप्ताह भारत और पाकिस्तान के बीच होने वाली विदेश सचिव स्तर की वार्ता को भारत द्वारा कल रद्द किए जाने को दोनो देशों के रिश्तों के लिए ‘‘धक्का’’ बताया था।

भारत ने 25 अगस्त को इस्लामाबाद में होने वाली भारत और पाकिस्तान के विदेश सचिवों की मुलाकात को कल रद्द कर दिया और साफ शब्दों में कहा था कि पाकिस्तान या तो भारत से बात कर ले या फिर पृथकतावादियों से।

भारत ने पाकिस्तानी उच्चायुक्त द्वारा नई दिल्ली में कश्मीरी पृथकतावादियों के साथ मुलाकात पर कड़ी आपत्ति दर्ज कराते हुए इस बातचीत को रद्द करने का ऐलान किया था।

(भाषा)

आपके विचार

 
 

आप की राय

सोनिया गांधी ने आरोप लगाया है कि 'भाजपा के झूठे सपने के जाल में आम जनता फंस गई है' क्या आप उनकी बातों से सहमत हैं?