मुखपृष्ठ
Bookmark and Share
खिलाड़ियों से संपर्क किया था सट्टेबाजों ने : सुनील गावसकर PDF Print E-mail
User Rating: / 0
PoorBest 
Friday, 23 May 2014 12:34

कोलकाता। बीसीसीआइ आइपीएल के अंतरिम अध्यक्ष सुनील गावसकर ने आज स्वीकार किया कि इस बार आइपीएल में सट्टेबाजों ने दो क्रिकेटरों से संपर्क किया था और इस बारे में भ्रष्टाचार निरोधक और सुरक्षा इकाई (एसीएसयू) अधिकारियों को बता दिया गया है। गावसकर से पूछा गया कि क्या इस आइपीएल में खिलाड़ियों से सट्टेबाजों ने संपर्क किया, गावसकर ने कहा कि दो ऐसे मामले हुए और एसीयू को इसकी रिपोर्ट कर दी गई है। वे इसकी जांच कर रहे हैं। 


इस महान बल्लेबाज ने इसके साथ ही कहा कि सट्टेबाजों का ब्रैंडन मैकुलम से संपर्क करने संबंधी मसला चिंताजनक है लेकिन उन्होंने आश्वासत किया कि जहां तक इस क्रिकेटर का एसीएसयू के बीच बातचीत की गोपनीयता का सवाल है तो वह आइपीएल के दौरान लीक नहीं हुई। गावसकर ने पत्रकारों से कहा कि मैं आपको आश्वस्त कर सकता हूं कि लीक आइपीएल से नहीं हुआ। मैं नहीं जानता कि यह कैसे बाहर आया। यह चिंता का विषय है। हमने इस बार हर टीम के साथ इंटीग्रिटी आफिसर रखा हुआ है। इससे खिलाड़ियों के लिए आसानी हो गई है। 

उन्होंने कहा कि कई बार खिलाड़ियों को पता नहीं होता कि क्या करना है। संपर्क के लिए नंबर हैं लेकिन कई बार खिलाड़ी सोचते हैं कि यदि आप संपर्क करते हो तो आपको नंबर इस सूची में दर्ज हो जाएगा। गोपनीयता ऐसा पहलू है जिसके बाद खिलाड़ी सुनिश्चित नहीं थे। अब हर टीम के साथ आइओ के होने से काम काफी आसान हो गया है। अगर कोई किसी से संपर्क करता है तो वह अधिकारी


को बता देता है और वह उसे आगे बढ़ाता है। गावसकर और आइपीएल संचालन परिषद में उनके साथी युवा और प्रतिभाशाली क्रिकेटरों की मदद के लिए विस्तृत खाका तैयार करने की कोशिश कर रहे हैं ताकि पैसे और स्टारडम के कारण वह बहक नहीं जाएं। 

 

गावसकर ने कहा कि मैं सचिन, राहुल, वीवीएस और अनिल कुबले से बात की। ये चारों इस खेल के महान खिलाड़ी हैं। वे समकालीन क्रिकेटर हैं और वर्तमान समय के दबाव, तनाव और परिस्थिति से वाकिफ हैं। हमने लंबी बातचीत की। एक बात उभर कर आई कि अधिकतर युवा खिलाड़ियों को यह बताने की जरू रत है कि उन्हें अपना करिअर कैसे आगे बढ़ाना है। उन्होंने कहा कि आइपीएल से आपको अचानक प्रसिद्धि मिल जाती है। इसे बड़े स्तर पर कवर किया जाता है और इस लिहाज से यह रणजी ट्राफी, दलीप ट्राफी और विजय हजारे ट्राफी से काफी आगे है। 

गावसकर ने इसके साथ ही कहा कि बीसीसीआइ इस पर विचार कर रहा है कि खेल का स्तर बढ़ाने के लिए सचिन तेंदुलकर और राहुल द्रविड़ जैसे दिग्गज खिलाड़ियों का कैसे उपयोग किया जाए। उन्होंने कहा कि हमें उम्मीद है सचिन और राहुल आगे आकर युवाओं की मदद करेंगे। खेल का स्तर बेहतर करना महत्त्वपूर्ण पहलू है। बीसीसीआइ में इस मसले पर विचार किया जाएगा कि अपने दिग्गज खिलाड़ियों का कैसे उपयोग किया जाए। 

(भाषा)


आपके विचार

 
 

आप की राय

सोनिया गांधी ने आरोप लगाया है कि 'भाजपा के झूठे सपने के जाल में आम जनता फंस गई है' क्या आप उनकी बातों से सहमत हैं?