मुखपृष्ठ
Bookmark and Share
अब बाकी बचे दो मैच जीतना चाहते हैं : इमरान ताहिर PDF Print E-mail
User Rating: / 0
PoorBest 
Tuesday, 20 May 2014 12:54

 नई दिल्ली। टीम की लगातार सातवीं हार से निराश दिल्ली डेयरडेविल्स के लेग स्पिनर इमरान ताहिर ने कहा कि उनकी टीम अब आईपीएल में अपने बाकी बचे दोनों मैच जीतकर टूर्नामेंट का सकारात्मक अंक करना चाहती है।  


     दिल्ली की टीम के 12 मैचों में दो जीत से सिर्फ चार अंक हैं और उसका लगातार दूसरे साल अंतिम स्थान पर रहना लगभग तय है।

     ताहिर ने कल किंग्स इलेवन पंजाब के खिलाफ टीम की चार विकेट की हार के बाद कहा, ‘‘हम अच्छा क्रिकेट खेल रहे हैं और कड़ी मेहनत कर रहे हैं लेकिन किस्मत हमारे साथ नहीं है इसलिए हमें हार का सामना करना पड़ रहा है। पंजाब के खिलाफ हमारा मैच भी काफी करीबी था जिसे कोई भी टीम जीत सकती थी।’’

     उन्होंने कहा, ‘‘अब हमारी नजरें अंतिम दो मैच जीतकर टूर्नामेंट का सकारात्मक अंत करने पर टिकी है। हमें एक दूसरे पर विश्वास रखना होगा और कड़ी मेहनत करनी होगी। हमारे खिलाड़ी निराश हैं लेकिन प्रेरणा की कोई कमी नहीं है।’’

     दिल्ली की टीम ने कल 15 अतिरिक्त रन दिए जिसमें 11 वाइड भी शामिल रही जिस पर ताहिर ने कहा कि गेंदबाजों को अपनी जिम्मेदारी समझनी होगी क्योंकि अगर इतने अतिरिक्त


रन नहीं होते हो मैच का नतीजा कुछ और हो सकता था।

 

     उन्होंने कहा, ‘‘गेंदबाजों को अपनी जिम्मेदारी समझनी होगी। वे कड़ी मेहनत कर रहे हैं लेकिन उन्हें समझना होगा कि विरोधी टीम को रन तोहफे में नहीं दिए जाएं। अगर कल हम इतने अधिक अतिरिक्त रन नहीं देते तो कहानी कुछ और हो सकती थी।’’

        आईपीएल में पहली बार खेल रहे ताहिर ने अब तक अच्छी गेंदबाजी की है और उन्होंने कहा कि उनकी प्रेरणा उनका एक महीने का बेटा है।

     ताहिर ने कहा, ‘‘मैं पिछले छह साल से टीवी पर आईपीएल देख रहा था। मुझे मौके का इंतजार था और इस बार जब मुझसे पूछा गया तो मैं तुरंत खेलने को तैयार हो गया।’’

     उन्होंने कहा, ‘‘मेरे लिए प्रेरणा मेरा एक महीने का बेटा है। मैं उसे छोड़ना नहीं चाहता था लेकिन आईपीएल में खेलने मुझे यहां आना पड़ा है। अब मैं उसके लिए अच्छा प्रदर्शन करना चाहता हूं। मुझे उसी से प्रेरणा मिल रही है।’’

(भाषा)

आपके विचार

 
 

आप की राय

सोनिया गांधी ने आरोप लगाया है कि 'भाजपा के झूठे सपने के जाल में आम जनता फंस गई है' क्या आप उनकी बातों से सहमत हैं?