मुखपृष्ठ
Bookmark and Share
IPL 7 : सेमीफाइनल में प्रवेश के इरादे से उतरेगा चेन्नई , आरसीबी के लिए वजूद की लड़ाई PDF Print E-mail
User Rating: / 0
PoorBest 
Saturday, 17 May 2014 17:15

altरांची। पूर्व चैम्पियन चेन्नई सुपर किंग्स आईपीएल के मैच में रायल चैलेंजर्स बेंगलूर को हराकर शीर्ष चार में जगह पक्की करने उतरेगा जबकि विराट कोहली की टीम के लिए यह अस्तित्व बनाये रखने का मुकाबला है ।


      चेन्नई ने 2010 और 2011 में खिताब जीता है और फिलहाल दस मैचों में आठ जीत के साथ वह अंकतालिका में दूसरे स्थान पर है । बेंंगलूर 10 मैचों में चार जीत के साथ नीचे से तीसरे स्थान पर है ।

    चेन्नई टीम अपने घरेलू मैच चेन्नई में नहीं होने से निराश है । तमिलनाडु क्रिकेट संघ मैचों के आयोजन के लिए सरकार से मंजूरी नहीं ले सका जिससे मैचों को यहां आयोजित किया जा रहा है ।

      इसके बावजूद महेंद्र सिंह धोनी की टीम ने यहां अब तक खेले गए दोनों मैच जीते हैं । उसने 13 मई को राजस्थान रायल्स को हराया । ड्वेन स्मिथ , ब्रेंडन मैकुलम, फाफ डु प्लेसिस और धोनी जैसे पावर हिटर्स के रहते चेन्नई की बल्लेबाजी मजबूत है । 

      उसे सिर्फ किंग्स इलेवन पंजाब के खिलाफ संकट का सामना करना पड़ा जिसके बल्लेबाज ग्लेन मैक्सवेल और डेविड मिलर जबर्दस्त फार्म में हैं जबकि बाकी टीमों को उसने आसानी


से हराया ।

      तेज गेंदबाज मोहित शर्मा ने चेन्नई के लिये लगातार अच्छा प्रदर्शन किया है और फिलहाल सनराइजर्स हैदराबाद के भुवनेश्वर कुमार के साथ सर्वाधिक 18 विकेट लेकर शीर्ष पर हैं । रविंद्र जडेजा, सैमुअल बद्री के रूप में चेन्नई के पास उपयोगी स्पिनर हैं ।

  दूसरी ओर बेंगलूर ने पिछले मैच में दिल्ली डेयरडेविल्स को हराया जबकि उससे पहले तीन मैचों में उसे पराजय झेलनी पड़ी थी ।

     विराट कोहली की अगुवाई वाली टीम के हौसले युवराज सिंह के फार्म में लौटने से बुलंद है । उन्होंने दिल्ली के खिलाफ 29 गेंद में 69 रन बनाकर अपने आलोचकों को करारा जवाब दिया ।

      क्रिस गेल ने भी अपने आक्रामक फार्म की झलक दिखाई हालांकि कोहली और एबी डिविलियर्स से बेहतर प्रदर्शन की उम्मीद होगी ।

     गेंदबाजी में तेज गेंदबाज मिशेल स्टार्क और अनुभवी स्पिनर मुथैया मुरलीधरन ने अच्छा प्रदर्शन किया है और उनसे आगे भी ऐसी उम्मीद होगी ।

 

(भाषा) 

आपके विचार

 
 

आप की राय

सोनिया गांधी ने आरोप लगाया है कि 'भाजपा के झूठे सपने के जाल में आम जनता फंस गई है' क्या आप उनकी बातों से सहमत हैं?