मुखपृष्ठ
Bookmark and Share
मुलायम सिंह यादव के बयान पर मुस्लिम धर्मगुरुओं की तीखी प्रतिक्रिया PDF Print E-mail
User Rating: / 1
PoorBest 
Tuesday, 24 December 2013 17:48

लखनऊ। मुजफ्फरनगर दंगा राहत शिविरों में इस वक्त पीड़ितों नहीं बल्कि भाजपा तथा कांग्रेस के षड्यंत्रकारियों के रहने के समाजवादी पार्टी (सपा) प्रमुख मुलायम सिंह यादव के बयान पर मुस्लिम बुद्धिजीवियों तथा धर्मगुरुओं की तरफ से तीखी प्रतिक्रिया आई है।

ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के महासचिव मौलाना निजामुद्दीन ने कहा कि सपा प्रमुख का बयान राजनीति से प्रेरित है और वह इस मुद्दे को सियासी रंग देना चाहते हैं।

उन्होंने कहा ‘‘राहत शिविरों में रह रहे लोग खौफजदा हैं और डर के कारण वे अपने घर नहीं जाना चाहते। उनका सियासत से कोई ताल्लुक नहीं है। अगर होता, तो वे अपने घर से नहीं निकाले जाते। इस तरह के बयानों से उनका नुकसान ही होगा।’’

दिल्ली की जामा मस्जिद के शाही इमाम मौलाना अहमद बुखारी ने सपा प्रमुख के बयान की भर्त्सना करते हुए कहा कि यह अपनी नाकामियों को छुपाने का गैरजिम्मेदाराना प्रयास है।

बुखारी ने कहा कि पिछले रविवार को उन्होंने अपने एक सहयोगी को दंगा राहत शिविरों में रह रहे लोगों का हाल लेने के लिए भेजा था। इसमें कोई सचाई नहीं है कि वहां कोई दंगा पीड़ित नहीं है।

गौरतलब है कि सपा प्रमुख मुलायम सिंह यादव ने कल पार्टी राज्य मुख्यालय पर आयोजित कार्यक्रम में कहा था ‘‘मुजफ्फरनगर दंगा पीड़ितों के लिए बनाए गए राहत शिविरों में अब कोई पीड़ित नहीं रह रहा है। आप चाहे पता


लगा लें। ये वो लोग हैं जो षड्यंत्रकारी हैं। यह भाजपा और कांग्रेस ने षड्यंत्र किया है। भाजपा और कांग्रेस के लोग रात में जाकर उनसे कहते हैं कि बैठे रहो, धरना दो लोकसभा चुनाव तक यह मुद्दा बनाए रखो।’’

बुखारी ने कहा कि हो सकता है कि एक-दो संदिग्ध लोग राहत शिविरों में रह रहे हों लेकिन इसके लिए वहां रह रहे हजारों लोगों को षड्यंत्रकारी नहीं कहा जा सकता।

इस बीच, ऑल इंडिया शिया पर्सनल लॉ बोर्ड के प्रवक्ता मौलाना यासूब अब्बास ने भी सपा प्रमुख मुलायम सिंह यादव के बयान को गैर जिम्मेदाराना करार देते हुए कहा है कि अगर यादव को ऐसा लगता है तो उन्हें इसकी जांच करानी चाहिए।

उन्होंने कहा ‘‘मुलायम अपने इस दावे की जांच के लिये एक समिति बनाएं। अगर राहत शिविरों में वाकई कांग्रेस तथा भाजपा के षड्यंत्रकारी रह रहे हैं तो उनके खिलाफ जबर्दस्त कार्रवाई की जाए।’’

अब्बास ने कहा कि सरकार को पीड़ितों को विश्वास में लेना चाहिए। इस वक्त इस मुद्दे पर सियासत नहीं करनी चाहिए। दंगों में बेहिसाब लोग मारे गए हैं। चुनाव तो आते-जाते रहते हैं लेकिन किसी मां का मरा हुआ बेटा वापस नहीं मिलता।

(भाषा)

आपके विचार

 
 

आप की राय

सोनिया गांधी ने आरोप लगाया है कि 'भाजपा के झूठे सपने के जाल में आम जनता फंस गई है' क्या आप उनकी बातों से सहमत हैं?