मुखपृष्ठ
Bookmark and Share
नाबालिग से बलात्कार के मामले में पांच सिपाही बर्खास्त PDF Print E-mail
User Rating: / 0
PoorBest 
Saturday, 21 December 2013 09:10

चंडीगढ़। चंडीगढ़ पुलिस के पांच सिपाहियों को एक नाबालिग लड़की से बलात्कार करने के आरोप में शुक्रवार को गिरफ्तार कर सेवा से बर्खास्त कर दिया गया।

सिपाही जगतार, अक्षय, हिम्मत, सुनील और अनिल को जिला अदालत के समक्ष पेश किया गया, जहां से उन्हें तीन दिन के पुलिस रिमांड पर भेज दिया गया। चंडीगढ़ पुलिस की तरफ से जारी विज्ञप्ति के मुताबिक सभी आरोपी खुदा लाहौरा के निवासी हैं और उन्हें गिरफ्तार कर भादंसं की विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया है।

चंडीगढ़ पुलिस के एक प्रवक्ता ने देर शाम कहा कि पांचों सिपाहियों को सेवा से बर्खास्त कर दिया गया है। चार सिपाही पुलिस नियंत्रण कक्ष (पीसीआर)के वाहन में तैनात थे और सुनील चंडीगढ़ पुलिस की अपराध शाखा में तैनात था। उन्होंने कहा कि चार आरोपियों को गुरुवार को गिरफ्तार किया गया जबकि अनिल को शुक्रवार को पकड़ा गया।

प्रवक्ता ने बयान जारी कर कहा, ‘अदालत से विशेष रूप से आग्रह किया गया है कि मामले की फास्ट ट्रैक प्रक्रिया के तहत सुनवाई की जाए।’ प्रवक्ता ने कहा,‘चंडीगढ़ पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों ने सिपाहियों के इस सबसे बुरे कृत्य का कड़ा संज्ञान लिया, जो घोर कदाचार की श्रेणी में आता है।’

दसवीं की एक छात्रा ने गुरुवार को शिकायत दर्ज कर आरोप लगाए थे कि करीब डेढ़ महीने से पांचों सिपाही उसका बलात्कार कर रहे थे। पीड़िता ने गुरुवार को दी अपनी शिकायत में आरोप लगाए कि कुछ हफ्ते पहले रिश्तेदारों से विवाद के बाद उसने


पुलिस बुलाई थी। लेकिन सिपाहियों ने बयान दर्ज करने के बहाने उसका उत्पीड़न शुरू कर दिया पीड़िता ने कहा कि सिपाही उसे कथित रूप से एक वाहन में ले गए और बंदूक का भय दिखाकर उससे बलात्कार किया। उसने कहा कि आरोपी के चार सहकर्मी भी बाद में इस कृत्य में संलिप्त हो गए और हफ्तों उसका यौन शोषण किया।

परिवार ने स्थानीय नगर पार्षद सौरभ जोशी से संपर्क किया जिसके बाद लड़की ने पुलिस में शिकायत दी। पीड़िता ने इस घटना के बारे में अपने पड़ोसी को बताते हुए जीवन खत्म करने की इच्छा जताई। इसके बाद पड़ोसी ने इलाके के नगर पार्षद से संपर्क किया जिन्होंने मामले को पुलिस के उच्चाधिकारियों के सामने उठाया। चंडीगढ़ के सेक्टर 11 थाने में भादंसं की धारा 376, 341, 354, 507 और यौन अपराध कानून के तहत बाल सुरक्षा की धाराओं सहित विभिन्न धाराओं में मामला दर्ज किया गया है। भाजपा और कांग्रेस के सदस्यों ने शुक्रवार को यहां सेक्टर 17 के बाहर धरना दिया और घटना में संलिप्त सभी सिपाहियों को बर्खास्त करने की मांग की। भाजपा कार्यकर्ताओं ने सेक्टर नौ स्थित चंडीगढ़ पुलिस मुख्यालय के बाहर प्रदर्शन किया। उन्होंने सेक्टर 22 और 16 सहित प्रमुख स्थानों पर भी प्रदर्शन किया। प्रदर्शनकारियों को तितर-बितर करने के लिए पुलिस ने लाठीचार्ज भी किया।

 

(भाषा)

आपके विचार

 
 

आप की राय

सोनिया गांधी ने आरोप लगाया है कि 'भाजपा के झूठे सपने के जाल में आम जनता फंस गई है' क्या आप उनकी बातों से सहमत हैं?