मुखपृष्ठ
Bookmark and Share
देवयानी खोबरागड़े मामला भारत की संप्रभुता का अतिक्रमण है : भाजपा PDF Print E-mail
User Rating: / 0
PoorBest 
Thursday, 19 December 2013 18:07

नई दिल्ली। भाजपा ने अमेरिका पर दोहरा मापदंड अपनाने का आरोप लगाते हुए आज कहा कि भारतीय राजनयिक देवयानी खोबरागड़े पर जिन परिस्थितियों में कथित वीजा फर्जीवाड़े के आरोप लगाकर न्यूयार्क में गिरफ्तार किया गया है उससे ना सिर्फ किसी संदेह की बू आती है बल्कि यह भारत की संप्रभुता पर भी अतिक्रमण का प्रयास है।

पार्टी प्रवक्ता रविशंकर प्रसाद ने यहां कहा, बड़ा मामला यह है कि किस तरह खोबरागड़े की मेड के मामले को अमेरिका ने लिया। इस मामले में अमेरिका ने ना सिर्फ भारतीय वरिष्ठ राजनयिक के साथ अस्वीकार्य व्यवहार किया बल्कि उसकी नौकरानी को संरक्षण देते हुए उसके माता पिता को तुरत फुरत वीजा देकर अमेरिका बुला लिया। इससे एक सोची समझी योजना का संकेत मिलता है।

उन्होंने कहा, मेड के माता पिता के अमेरिका जाने के बाद उसने (मेड) एक उत्पीड़ित व्यक्ति के रूप में शरण मांगी। यह सब इशारा करता है कि कोई संदेहास्पद बात है।

भाजपा नेता ने सवाल किया कि खोबरागड़े


के साथ जो व्यवहार किया गया अगर अमेरिका के किसी राजनयिक के साथ उसका आधा भी किया जाए तो अमेरिका की क्या प्रतिक्रिया होगी?

प्रसाद ने उदाहरण स्वरूप कहा, ‘‘पाकिस्तान में एक अमेरिकी राजनयिक पर हत्या का आरोप लगा। लेकिन उसे एक सप्ताह के भीतर ही अमेरिका ले जाया गया। अमेरिका को अपने इस दोहरे मानदंड को स्पष्ट करने की जरूरत है।’’

उन्होंने कहा कि खोबरागड़े भारत की संप्रभुता का प्रतिनिधित्व करती हैं और अमेरिका सरकार को इस बात को समझना होगा।

1999 बैच की आईएफएस अधिकारी खोबरागड़े को 12 दिसंबर को वीजा फर्जीवाड़े के आरोपों में अमेरिका में उस समय गिरफ्तार किया गया था जब वह अपनी बेटी को स्कूल छोड़ने गई थीं।

गिरफ्तारी के बाद उन्हें हथकड़ी लगाई गई और कपड़े उतरवाकर तलाशी ली गई।

(भाषा)

आपके विचार

 
 

आप की राय

सोनिया गांधी ने आरोप लगाया है कि 'भाजपा के झूठे सपने के जाल में आम जनता फंस गई है' क्या आप उनकी बातों से सहमत हैं?