मुखपृष्ठ
Bookmark and Share
तरूण तेजपाल की पुलिस हिरासत चार दिन बढ़ी PDF Print E-mail
User Rating: / 0
PoorBest 
Sunday, 08 December 2013 09:23

पणजी/कोलकाता। एक महिला पत्रकार के यौन उत्पीड़न के आरोपी तहलका के संस्थापक संपादक तरुण तेजपाल चार और दिन तक गोवा पुलिस हिरासत में रहेंगे।

तेजपाल को छह दिन के लिए पुलिस हिरासत में भेजा गया था। हिरासत की अवधि समाप्त होने पर 50 वर्षीय पत्रकार को शनिवार को एक स्थानीय अदालत के सामने पेश किया गया जिसने उनकी पुलिस हिरासत की अवधि 10 दिसंबर तक के लिए बढ़ा दी। गोवा पुलिस ने गत शनिवार को तेजपाल को गिरफ्तार किया था। उधर तहलका की पूर्व प्रबंध संपादक शोमा चौधरी ने इस मामले में शनिवार को मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट के सामने अपना बयान दर्ज कराया।

तेजपाल के वकील संदीप कपूर ने न्यायिक मजिस्ट्रेट (प्रथम श्रेणी) क्षमा जोशी के सामने दलील पेश करते हुए हिरासत की अवधि बढ़ाए जाने का विरोध किया। उन्होंने कहा कि पुलिस ने उनके मुवक्किल से अच्छी तरह पूछताछ कर ली है और कथित घटना के दिन उन्होंने जो कपड़े पहने थे, उन कपड़ों के अलावा संबंधित सामग्री जब्त कर ली गई है।

सरकारी अभियोजक सुरेश लोतलिकर ने अदालत को बताया कि कई गवाहों से अभी पूछताछ की जानी है और


इसलिए तेजपाल को और अधिक समय तक हिरासत में रखे जाने की जरूरत है। छह दिन की हिरासत के दौरान तहलका संस्थापक के चिकित्सकीय परीक्षणों के दो दौर हुए हैं।

घटना के बाद तहलका से इस्तीफा देने वाले पीड़िता के तीन सहकर्मियों ने शुक्रवार को यहां मुख्य न्यायिक  मजिस्ट्रेट के सामने गवाही दी थी। पीड़िता ने कथित यौन उत्पीड़न के बारे में उन्हें बताया था। वहीं तहलका की पूर्व प्रबंध संपादक शोमा चौधरी ने मामले में शनिवार को अपना बयान दर्ज कराया। मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट अनुजा प्रभुदेसाई के सामने शोमा की पेशी पांच घंटे से भी अधिक समय तक चली।

हालांकि शोमा ने अदालत के बाहर मीडिया से बातचीत करने से इनकार कर दिया। पूर्व प्रबंध संपादक पर पीड़ित पत्रकार ने मामले की लीपा-पोती करने और अपने नारीवादी रुख पर खरा नहीं उतरने का आरोप लगाया था। अपने त्यागपत्र में शोमा ने लीपा-पोती और मामले को दबाने के आरोप का खंडन किया था।

 

(भाषा)

आपके विचार

 
 

आप की राय

सोनिया गांधी ने आरोप लगाया है कि 'भाजपा के झूठे सपने के जाल में आम जनता फंस गई है' क्या आप उनकी बातों से सहमत हैं?