मुखपृष्ठ
Bookmark and Share
राजस्थान : किसकी बनेगी सरकार, ऐतिहासिक मतदान से राजनीतिक दल पसोपेश में PDF Print E-mail
User Rating: / 0
PoorBest 
Saturday, 07 December 2013 11:03

जयपुर। राजस्थान में 14वीं विधानसभा के गठन के लिए 200 में से 199 सीटों के लिए एक दिसम्बर को हुए ऐतिहासिक 75.20 फीसद मतदान से प्रदेश की सत्ताधारी कांग्रेस और प्रमुख विपक्षी दल भाजपा चुनाव नतीजे को लेकर पसोपेश में हैं। हालांकि दोनों दल अपनी अपनी सरकार बनाने के दावे कर रहे हैं।

अत्यधिक मतदान प्रतिशत को दृष्टिगत रखते हुए चुनाव नतीजे की संभावना पर कांग्रेस और भाजपा के वरिष्ठ नेताओं ने अपने नाम जाहिर नहीं करने की शर्त पर कहा ‘‘ऊंट किस करवट बैठेगा, यह 8 दिसम्बर को सामने आ जाएगा। लेकिन यह सही है कि ऐतिहासिक मतदान से नतीजे को लेकर हम पसोपेश में हैं।’’

सरकार बनाने के दावों से पर्दा 8 दिसम्बर को मतगणना शुरू होने पर उठेगा। प्रदेश के 33 जिला मुख्यालयों पर मतगणना प्रात आठ बजे से कडे सुरक्षा प्रबंधों के बीच शुरू होगी। चुनाव के नतीजे मध्याह्न तक मिल जाने की उम्मीद है।

प्रदेश की चूरू विधानसभा सीट के लिए 13 दिसम्बर को मतदान होगा। प्रदेश के चार करोड़, पांच लाख, 33 हजार 566 मतदाताओं में से तीन करोड़, 48 लाख, 193 मतदाताओं ने एक दिसम्बर को रिकार्ड तोड मतदान किया था। महिलाओं ने 75.51 फीसद मतदान कर पुरूष मतदाताओं को (74.91 फीसद) पीछे छोड़ दिया।

मतगणना में राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, भाजपा की ओर से मुख्यमंत्री पद की प्रत्याशी वसुंधरा राजे, विपक्ष के नेता गुलाब चंद कटारिया, प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष डॉ  चन्द्रभान तथा अशोक गहलोत मंत्रिमंडल के 25 सदस्यों के राजनीतिक भाग्य का फैसला होगा। प्रदेश में सरकार फिर से कांग्रेस बनायेगी या भाजपा या फिर गठबंधन की सरकार बनेगी, इसका निर्णय आठ दिसम्बर को हो जाएगा।

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने जोधपुर की सरदारपुरा सीट से तथा भाजपा प्रदेश अध्यक्ष वसुंधरा राजे ने झालावाड़ जिले की झालरापाटन विधानसभा सीट से चुनाव लड़ा है। मुख्यमंत्री पद की दौड़ में दोनों ही नेता सबसे आगे है।

मतदाताओं ने ईवीएम मशीनों में गुजरात की राज्यपाल डॉ कमला के पुत्र आलोक कुमार, हरियाणा के राज्यपाल जगन्नाथ पहाड़िया के पुत्र ओम प्रकाश पहाड़िया, गुजरात के पूर्व राज्यपाल दिवंगत नवल किशोर शर्मा के पुत्र राज्य के शिक्षा मंत्री बृज किशोर शर्मा, केन्द्रीय श्रम मंत्री शीशराम ओला के पुत्र राज्य के पूर्व आपदा राहत राज्य मंत्री बृजेन्द्र ओला, पूर्व विदेश मंत्री कुंवर नटवर सिंह के पुत्र जगत सिंह तथा पूर्व विदेश मंत्री जसवंत सिंह के पुत्र


मानवेन्द्र सिंह के राजनैतिक किस्मत का फैसला भी बंद किया है।

मतगणना में विपक्ष के नेता गुलाब चंद कटारिया, प्रदेश कांगे्रस अध्यक्ष डॉ चन्द्रभान, अशोक गहलोत मंत्रिमंडल के सदस्य चिकित्सा मंत्री एमामुद्दीन खान, सार्वजनिक निर्माण मंत्री भरत सिंह, पर्यटन मंत्री बीना काक, शिक्षा मंत्री बृजकिशोर शर्मा, कृषि मंत्री हरजी राम बुरडक, राजस्व मंत्री हेमाराम चौधरी, जनजाति विकास मंत्री महेन्द्र सिंह मालवीय, सहकारिता मंत्री परसादीलाल मीणा, नगरीय विकास मंत्री शान्तिलाल धारीवाल, ऊर्जा मंत्री डॉ जितेन्द्र सिंह के भाग्य का फैसला होना है।

इनके अलावा राज्य के उद्योग मंत्री राजेन्द्र पारीक, सामाजिक न्याय एवं नियोजन मंत्री अशोक बैरवा (सभी कैबिनेट) तथा राज्य मंत्री वीरेन्द्र बेनीवाल, अमीन खान, रामकिशोर सैनी, डॉ दया राम परमार, गुरमीत सिंह कुन्नर, मांगी लाल गरासिया, राजेन्द्र सिंह गुढ़ा, मुरारी लाल मीणा, बृजेन्द्र सिंह ओला, नसीम अख्तर, मंजू देवी मेघवाल और विनोद कुमार का राजनैतिक भविष्य भी तय होगा।

कांग्रेस और भाजपा दोनों ही प्रदेश की सभी 200 सीटों पर चुनाव लड़ रही हैं वहीं बहुजन समाज पार्टी 195 सीटों पर, माकपा 38 सीटों पर, भाकपा 23 सीटों पर, राकांपा 16 सीटों पर, नेशनल पीपुल्स पार्टी 150 सीटों पर चुनाव लड़ रही हैं। अन्य विभिन्न पार्टियों के 666 तथा 758 निर्दलीय उम्मीदवार चुनाव मैदान में उतरे थे।

राजनीतिक पंडितों के अनुसार, 14 वीं विधानसभा के गठन के लिए हुए 75.20 प्रतिशत मतदान के नतीजे चौकाने वाले होंगे। गत विधानसभा चुनाव से इस चुनाव में हुए 9.22 प्रतिशत अधिक मतदान ने राजनैतिक पार्टियों की स्थिति उलझा कर रख दी है। पसोपेश में फंसे कांग्रेस और भाजपा के नेता 8 दिसम्बर का बेस्रबी से इंतजार कर रहे हैं।

राजनैतिक प्रेक्षक जैसलमेर जिले में प्रदेश के सर्वाधिक मतदान 85.26 प्रतिशत को लेकर विश्लेषण कर रहे हैं। जैसलमेर जिले में अल्पसंख्यक और मेघवाल जाति के मतदाताओं की तादाद काफी है और इनका जुड़ाव कांग्रेस के साथ माना जाता है। साथ ही इस जिले में राजपूत मतदाताओं का झुकाव भाजपा की ओर है।

प्रदेश की चूरू विधानसभा सीट से बसपा के उम्मीदवार के निधन के कारण एक दिसम्बर को मतदान नहीं हुआ था। चुनाव आयोग ने इस सीट के लिए 13 दिसम्बर को मतदान कराने का कार्यक्रम घोषित कर रखा है।

(भाषा)

आपके विचार

 
 

आप की राय

सोनिया गांधी ने आरोप लगाया है कि 'भाजपा के झूठे सपने के जाल में आम जनता फंस गई है' क्या आप उनकी बातों से सहमत हैं?