मुखपृष्ठ
Bookmark and Share
आत्मविश्वास से भरे भारतीय बल्लेबाजी क्रम की दक्षिण अफ्रीका में होगी कड़ी परीक्षा PDF Print E-mail
User Rating: / 0
PoorBest 
Wednesday, 04 December 2013 14:33

जोहानिसबर्ग। साल भर बेहतर प्रदर्शन की धमक दिखाने वाले आत्मविश्वास से लवरेज भारतीय टीम कल दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ इस सत्र की अपनी सबसे कड़ी परीक्षा के लिए तैयार हैं। जिसकी शुरूआत कल से यहां मजबूत दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ तीन मैचों की वनडे श्रृंखला के पहले एक दिवसीय अंतरराष्ट्रीय मुकाबले से होगी।

यह वनडे भिड़ंत काफी दिलचस्प होगी क्योंकि नंबर एक टीम और पांचवें नंबर की रैंकिंग वाली टीम के बीच यह महज एक मैचों की श्रृंखला नहीं है बल्कि यह मुकाबला स्टेडियम के अंदर श्रेष्ठता की जंग का है। दौरे से पहले हुई राजनीति से भी इसका कुछ लेना देना नही है जिसके कारण इस टूर को छोटा कर दिया गया।

भारतीय टीम

भारतीय कप्तान धोनी के लिए यह श्रृंखला अपने युवा बल्लेबाजों पर भरोसा पक्का करने के लिये अहम साबित होगी। भारतीय खिलाड़ी  इस वक्त प्रचंड फॉर्म में हैं। इनके शानदार स्ट्रोक्स ने क्रिकेट मैदानों में चारो तरफ अपना चमक दिखाया है।

खासकर के  शिखर धवन, रोहित शर्मा और विराट कोहली ने। टीम के नए त्रिदेव ने इस कैलेंडर वर्ष में खेले गए वनडे में हजार से ज्यादा रन बटोरे हैं। जिसमें प्रत्येक का औसत 50 से ऊपर का रहा है।

इन आंकड़ों को देखने के दो तरीके हो सकते हैं। पहला इन्होंने भारत, इंग्लैंड, वेस्टइंडीज और जिम्बाब्वे में विभिन्न हालात में रन जुटाए हैं।

इस समय इन क्रिकेटरों का मनोबल काफी बढ़ा हुआ है और इस शानदार फार्म में सभी की निगाहें अगला मैच खेलने और शानदार बल्लेबाजी पर लगी होंगी।

इन युवाओं की शानदार फार्म से भारतीय बल्लेबाजी अब भारी भरकम दिखना शुरू हो गई है और यही दूसरा पहलू है। हालांकि कुछ चिंताएं भी हैं जैसे इस साल 31 मैचों में सुरेश रैना का औसत केवल 36 का है, जबकि युवराज सिंह ने 21 मैचों में सिर्फ 21.21 औसत से रन जुटाएं हैं।

ऑस्ट्रेलिया और वेस्टइंडीज के खिलाफ पिछले नौ मैचों में प्रत्येक ने सात पारियां खेलीं जिसमें दोनों का प्रदर्शन खराब रहा, रैना ने 22.42 और युवराज ने 19.66 के औसत से रन बनाए। इन्होंने भी उसी पिच पर, उसी गेंदबाजी आक्रमण का सामना किया, जहां धवन, शर्मा और कोहली डटे रहे।

फार्म में चल रहे शीर्ष क्रम में युवराज और रैना के बाद महेंद्र सिंह धोनी मौजूद हैं जिन्होंने भी इस साल अपनी लय जारी रखी है। 23 मैचों में उन्होंने 66.90 के औसत से रन बनाए हैं और वह आठ बार नाबाद रहे हैं। लेकिन अच्छी शुरूआत के बाद उनका प्रदर्शन अच्छा रहा है, जिसमें


उन्होंने चार अर्धशतक और एक शतक जड़ा है।

दक्षिण अफ्रीका

अफ्रीकी टीम निश्चित रूप से मध्य बल्लेबाजी क्रम की कमजोरी का फायदा उठाना चाहेगी, विशेषकर तब, जब टीम इंडिया के छह फ्रंटलाइन बल्लेबाजों के साथ खेलने की संभावना है।

पिछले 11 महीनों में जो चुनौतियां आई हैं, यह परीक्षा निश्चित रूप से काफी अलग होगी क्योंकि यहां की पिच उछाल भरी होंगी जो मेजबान टीम की हमेशा से मजबूत रही तेज गेंदबाजी के लिए काफी मददगार होगी।

दक्षिण अफ्रीकी टीम डेल स्टेन, मोर्ने मोर्कल, वर्नोन फिलैंडर और जाक कैलिस को खिलाने के लिए बेताब है। स्टेन और कैलिस को इन तीन मैचों की श्रृंखला की टीम में शामिल किया गया है जो पाकिस्तान के खिलाफ तीसरे और अंतिम वनडे में नहीं खेले थे।

दक्षिण अफ्रीकी टीम तीन मैचों की श्रृंखला में हार गई, जो घरेलू मैदान पर पाकिस्तान से पहली शिकस्त थी। इसी तरह भारत ने भी दक्षिण अफ्रीका में कभी भी द्विपक्षीय वनडे श्रृंखला नहीं जीती है और वे चिर प्रतिद्वंद्वी पाकिस्तान को मिली सफलता से प्रेरणा लेना चाहेंगे।

पिछले साल में कुछ उतार चढ़ाव भरे प्रदर्शन के बाद अफ्रीकी टीम के लिए शीर्ष रैंकिंग पर काबिज वनडे टीम के खिलाफ यह श्रृंखला इस प्रारूप में खुद को साबित करने का अच्छा मौका होगी।

दक्षिण अफ्रीका ने केवल पाकिस्तान को दो द्विपक्षीय श्रृंखला में :इस प्रतिद्वंद्वी के खिलाफ तीन में से: पराजित किया है, टीम चैम्पियंस ट्राफी में प्रभावित करने में असफल रही, न्यूजीलैंड और श्रीलंका से हार गई।

गैरी कर्स्टन के बतौर कोच हटने और एबी डिविलियर्स की लगातार लचर कप्तानी के बाद टीम अब भी मौजूदा कोच रसेल डोमिंगो के मार्गदर्शन में खुद को साबित करने की कोशिश में जुटी है।

पिछले तीन हफ्तों से हर शाम जोहानिसबर्ग में बारिश आ रही है। कल के मैच में भी बारिश आ सकती है।

टीमें इस प्रकार हैं:

भारत :

महेंद्र सिंह धोनी (कप्तान), शिखर धवन, रोहित शर्मा, विराट कोहली, युवराज सिंह, सुरेश रैना, आर अश्विन, रविंद्र जडेजा, मोहम्मद शमी, भुवनेश्वर कुमार, उमेश यादव, इशांत शर्मा, अमित मिश्रा, अम्बाती रायुडू, अंजिक्य रहाणे।

दक्षिण अफ्रीका :

एबी डिविलियर्स (कप्तान), हाशिम अमला, क्विंटन डि कॉक, जेपी डुमिनी, इमरान ताहिर, जाक कैलिस, रेयान मैकलारेन, डेविड मिलर, मोर्ने मोर्कल, वेन पार्नेल, वर्नोन फिलैंडर, ग्रीम स्मिथ, डेल स्टेन, लोनवाबो सोतसोबे।

मैच भारतीय समयानुसार शाम पांच बजे से शुरू होगा।

(भाषा)

 

 

आपके विचार

 
 

आप की राय

सोनिया गांधी ने आरोप लगाया है कि 'भाजपा के झूठे सपने के जाल में आम जनता फंस गई है' क्या आप उनकी बातों से सहमत हैं?