मुखपृष्ठ
Bookmark and Share
दिल्ली में चुनावों के लिए कड़े बंदोबस्त PDF Print E-mail
User Rating: / 0
PoorBest 
Tuesday, 03 December 2013 09:28

जनसत्ता संवाददाता

नई दिल्ली। दिल्ली के मुख्य चुनाव अधिकारी कार्यालय ने राजधानी के  630 मतदान केंद्रों को संवेदनशील घोषित किया है।

इन केंद्रों पर अर्द्धसैनिक बलों को तैनात किया गया है और सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं। सोमवार को विधानसभा चुनाव के लिए प्रचार खत्म होने पर आयोजित संवाददाता सम्मेलन में दिल्ली के मुख्य चुनाव अधिकारी विजय देव ने यह जानकारी दी।

 

 

उन्होंने बताया कि आयोग ने झुग्गी-झोपड़ियों, अनधिकृत कालोनियों, उत्तर प्रदेश और हरियाणा से लगी सीमा और उन इलाकों में निगरानी बढ़ा दी है, जहां धन, शराब और शक्ति का दुरुपयोग हो सकता है। देव ने कहा कि मतदाताओं को पैसे देकर लुभाने का प्रयास करने वाले और पैसे लेने वालों, दोनों पर मामला दर्ज कराया जाएगा। उन्होंने कहा कि अंतिम 72 घंटे महत्वपूर्ण हैं। इसलिए यह सुनिश्चित किया गया है कि हमारी टीमें ऐसे इलाकों में जाल बिछाएं, जहां मतदाताओं को रिश्वत देने का प्रयास हो सकता है। उन्होंने कहा कि इस तरह के मामले पाए जाने पर राजनीति दलों या उम्मीदवारों के खिलाफ आदर्श आचार संहिता और आपराधिक धाराओं के तहत कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कहा कि नकदी या रिश्वत या किसी भी तरह की रिश्वत लेने वाले पर भादंसं की धारा 171 एच के तहत कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कहा,‘हम हर नागरिक को बताना चाहते हैं कि उनका वोट बिकने के लिए नहीं है।’

मुख्य चुनाव कार्यालय ने सीमावर्ती इलाकों में निगरानी बढ़ा दी है, खासकर उत्तर-पूर्व और दक्षिण-पश्चिम जिलों में। उन्होंने बताया कि उत्तर प्रदेश और हरियाणा के सहयोग से शराब, धन या शक्ति के इस्तेमाल पर रोक लगाने के प्रयास किए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि चुनाव के दिन दिल्ली आने वाले सभी वाहनों की जांच की जाएगी। उन्होंने लोगों से अपील की कि किसी भी तरह की परेशानी से बचने के लिए वे अपना पहचान


पत्र साथ लेकर चलें।

उन्होंने कहा कि दिल्ली के 11753 मतदान केंद्रों में से 630 को संवेदनशील और अति संवेदनशील घोषित किया गया है। इन पर अर्द्धसैनिक बलों की तैनाती की जाएगी और सीसीटीवी कैमरे लगाए जाएंगे। उन्होंने बताया कि इस बार लाइव वेबकास्ट के जरिए मतदान केंद्रों के अंदर की गतिविधियों को नियंत्रण कक्ष में देखा जा सकेगा। मुख्य चुनाव अधिकारी ने बताया कि शांतिपूर्वक चुनाव के लिए दिल्ली पुलिस के 64 हजार जवान और केंद्रीय अर्द्धसैनिक बलों की 107 कंपनियां तैनात की गई हैं। उन्होंने कहा कि इसके अलावा उड़न दस्ते, निगरानी दल और वीडियो निगरानी टीम भी सक्रिय हैं।

उन्होंने बताया कि चुनाव आयोग ने कम मतदान होने वाले इलाकों और कम मतदान करने वाले तबकों की पहचान कर उनमें मतदान के प्रति जागरूकता लाने के प्रयास किए हैं। देव ने कहा कि ग्रामीण इलाकों में लोगों में मतदान के प्रति जागरूकता लाने के लिए कबड्डी मैचों का आयोजन किया गया। वहीं शहरी युवाओं के लिए कंसर्ट का आयोजन किया गया। उन्होंने बताया कि दिल्ली में कुल एक करोड़ 17 लाख 32 हजार 67 मतदाता हैं। इनमें 18 से 19 साल के मतदाताओं की संख्या चार लाख पांच हजार 850 है।

मुख्य चुनाव अधिकारी विजय देव ने बताया कि चुनाव ड्यूटी में लगे 70 हजार कर्मचारी इन दिनों बैलेट के जरिए मतदान कर रहे हैं। ये लोग आठ दिसंबर की सुबह मतगणना शुरू होने तक वोट डाल सकते हैं। उन्होंने कहा कि मतदाताओं की सुविधा के लिए मतदान वाले दिन दिल्ली मेट्रों सुबह चार बजे से और डीटीसी की बसें सुबह तीन बजे से चलने लगेंगी।

 

आपके विचार

 
 

आप की राय

सोनिया गांधी ने आरोप लगाया है कि 'भाजपा के झूठे सपने के जाल में आम जनता फंस गई है' क्या आप उनकी बातों से सहमत हैं?