मुखपृष्ठ
Bookmark and Share
मध्य प्रदेश में दो से पांच प्रतिशत अधिक मत पाने वाली पार्टी सरकार बनाएगी PDF Print E-mail
User Rating: / 0
PoorBest 
Sunday, 01 December 2013 12:12

भोपाल। मध्यप्रदेश में विधान सभा चुनाव के बाद अब मतगणना का इंतजार है और इस बीच भाजपा और कांग्रेस के बीच कड़ी चुनावी टक्कर के कयास लगाए जा रहे हैं, लेकिन यह तय है कि प्रदेश में जो भी दल दूसरे की अपेक्षा दो से पांच प्रतिशत तक अधिक मत प्राप्त करेगा वही सत्ता पाएगा।

मध्यप्रदेश में पिछले सात बार के चुनावी आंकडों पर गौर करें तो पता चलता है कि कांग्रेस और भाजपा के बीच मतों का अंतर दो बार को छोड़कर कभी भी छह प्रतिशत से अधिक नहीं रहा, जबकि अन्य दल और निर्दलीय उम्मीदवार लगभग 20 प्रतिशत तक मत लेकर चुनावी गणित गड़बड़ाते रहे हैं।

वर्ष 1977 में जनता पार्टी भारी बहुमत से सत्ता में आई थी लेकिन आपसी खींचतान के चलते जनता का मोह जल्दी ही उससे भंग हो गया और वर्ष 1980 में हुए विधान सभा चुनाव में अविभिाजित मप्र में कांग्रेस ने 47.51 मत प्राप्त कर दो तिहाई बहुमत से सरकार बनाई थी जबकि भाजपा को 30.34 प्रतिशत मत मिले थे और अन्य दल एवं निर्दलियों ने 22.15 प्रतिशत मतों पर कब्जा किया था।

इसी प्रकार वर्ष 1984 में तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की शहादत के बाद वर्ष 1985 में हुए विधान सभा चुनाव में एक बार फिर कांग्रेस सरकार बनाने में सफल रही और उसे 48.57 प्रतिशत मत मिले जबकि भाजपा 32.47 प्रतिशत मत ही प्राप्त कर सकी। इस चुनाव में अन्य दल एवं निर्दलीय 18.96 मत प्राप्त कर सके थे।

पिछले सात चुनाव में वर्ष 1980 एवं 1985 के चुनाव ही ऐसे रहे जब दो प्रमुख दलों के बीच मतों का अंतर क्रमश: 17.17 एवं 16.10 प्रतिशत रहा जबकि अन्य चुनाव में यह अंतर छह प्रतिशत से अधिक नहीं रहा।

वर्ष 1990 में केन्द्र में राजीव गांधी के खिलाफ बोफोर्स कांड के चलते कांग्रेस के प्रति नाराजगी का असर मप्र में भी दिखाई पड़ा और वर्ष 1985 में 48.57 प्रतिशत मत प्राप्त करने वाली कांग्रेस 33.49 प्रतिशत मत प्राप्त कर सत्ता से बाहर हो गई, जबकि भाजपा पहली बार 39.12 प्रतिशत मत प्राप्त कर पहली बार स्वयं के बूते सत्ता में आने में सफल रही। इस वर्ष अन्य दल एवं निर्दलीय 26.39 मत प्राप्त कर सके थे।

छह दिसंबर 1992 को बाबरी ढांचा ढहाये जाने के बाद उपजे दंगों के


चलते भाजपा सरकार को भंग कर दिया गया तथा इसके बाद भाजपा को पूरा भरोसा था कि सहानुभूति मतों के चलते वह दोबारा सत्ता पाने में सफल होगी लेकिन वर्ष 1993 में हुए विधान सभा चुनाव में कांग्रेस भाजपा से दो प्रतिशत अधिक मत पाने में सफल रही और सत्ता में आ गई।

वर्ष 1993 में कांग्रेस को 40.79 प्रतिशत मत मिले जबकि भाजपा 38.82 प्रतिशत मत प्राप्त कर सत्ता से बाहर हो गई। अन्य दल एवं निर्दलियों को 20.39 प्रतिशत मत मिले।

वर्ष 1998 में भी यही कहानी दोहराई गयी तथा सवा प्रतिशत मतों के अंतर से कांग्रेस एक बार फिर सत्ता में आने में कामयाब रही थी। इस वर्ष कांग्रेस को 40.79 प्रतिशत मत मिले जबकि भाजपा को 38.82 मत ही मिल सके। अन्य दल एवं निर्दलियों ने 20.39 प्रतिशत मत प्राप्त कर भाजपा का गणित पूरी तरह गडबडा दिया।

कांग्रेस के दस वर्षों के शासनकाल के दौरान बिजली पानी एवं सड़क की समस्याओं से परेशान प्रदेश की जनता ने एक बार फिर भाजपा में अपना भविष्य देखा और दो तिहाई बहुमत दिया। उस समय भाजपा को जहां 42.50 प्रतिशत मतदाताओं ने अपना समर्थन दिया वहीं कांग्रेस का मत प्रतिशत 37.70 ही रह सका जबकि अन्य दल एवं निर्दलीय 19.80 प्रतिशत मत प्राप्त कर सके।

वर्ष 2008 में भी भाजपा के मतों में लगभग पांच प्रतिशत की गिरावट आई लेकिन वह कांग्रेस से लगभग पांच प्रतिशत अधिक मत प्राप्त कर एक बार फिर सत्ता में आने में कामयाब रही। इस वर्ष भाजपा को जहां 37.70 प्रतिशत मत मिले वहीं कांग्रेस को 32.40 मत प्राप्त कर सत्ता से बाहर बैठना पडा। इस चुनाव में अन्य दल एवं निर्दलीयों ने अपने मतों के प्रतिशत में बढोत्तरी करते हुए 29.90 प्रतिशत मत प्राप्त किए।

अब इस साल 25 नवंबर को विधान सभा के लिए मतदान होने के बाद आठ दिसंबर को मतों की गिनती होने वाली है और पिछले चुनाव परिणामों को देखते हुए यह कहा जा सकता है कि जो भी दल दूसरे के मुकाबले दो से पांच प्रतिशत अधिक मत प्राप्त करेगा वही सत्ता का सुख भोगेगा।

(भाषा)

आपके विचार

 
 

आप की राय

सोनिया गांधी ने आरोप लगाया है कि 'भाजपा के झूठे सपने के जाल में आम जनता फंस गई है' क्या आप उनकी बातों से सहमत हैं?