मुखपृष्ठ
Bookmark and Share
यौन शोषण मामले में इंटर्न ने न्यायमूर्ति ए के गांगुली का नाम लिया PDF Print E-mail
User Rating: / 0
PoorBest 
Friday, 29 November 2013 16:24

नई दिल्ली। समझा जाता है कि उच्चतम न्यायालय के हाल ही में सेवानिवृत्त पर यौन शोषण का आरोप लगाने वाली इंटर्न ने तीन न्यायाधीशों के समक्ष अपनी गवाही में पूर्व न्यायाधीश ए के गांगुली का नाम लिया है। इस समिति ने अपनी रिपोर्ट प्रधान न्यायाधीश को सौंप दी है।

शीर्ष अदालत के एक अधिकारी ने आज बताया कि न्यायमूर्ति आर एम लोढा की अध्यक्षता वाली समिति ने न्यायमूर्ति गांगुली का बयान दर्ज करने के बाद कल अपनी रिपोर्ट प्रधान न्यायाधीश को सौंपी। न्यायमूर्ति गांगुली इस समय पश्चिम बंगाल राज्य मानवाधिकार आयोग के अध्यक्ष हैं।

न्यायमूर्ति गांगुली तीन फरवरी, 2012 को उच्चतम न्यायालय के न्यायाधीश पद से सेवानिवृत्त हुये थे। न्यायमूर्ति गांगुली 17 दिसंबर, 2008 को उच्चतम न्यायालय के न्यायाधीश नियुक्त हुए थे।

कानून की इस इंटर्न के आरोपों की जांच के लिए गठित न्यायाधीशों की समिति ने 13, 18,19,20, 21, 26 और 27 नवंबर को अपनी बैठकें की थी।

एक अधिकृत बयान में कहा गया है, ‘‘इन बैठक में


कानून की इंटर्न का बयान दर्ज किया गया था। इस इंटर्न ने तीन हलफनामे भी पेश किए थे। समिति ने न्यायमूर्ति ए के गांगुली का बयान भी रिकार्ड किया है। समिति ने 28 नवंबर को अपनी रिपोर्ट प्रधान न्यायाधीश को सौंपी।।

अधिकारियों ने समिति की रिपोर्ट का अधिक विवरण नहीं दिया। प्रधान न्यायाधीश पी सदाशिवम ने 12 नवंबर को इस समिति का गठन किया था। समिति में न्यायमूर्ति लोढा के साथ न्यायमूर्ति एच एल दत्तू और न्यायमूर्ति रंजना प्रकाश देसाई भी शामिल थी।

(भाषा)

 

 

आपके विचार

 
 

आप की राय

सोनिया गांधी ने आरोप लगाया है कि 'भाजपा के झूठे सपने के जाल में आम जनता फंस गई है' क्या आप उनकी बातों से सहमत हैं?