मुखपृष्ठ
Bookmark and Share
पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी का जादू बरकरार PDF Print E-mail
User Rating: / 0
PoorBest 
Tuesday, 26 November 2013 10:13

कोलकाता। पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी का जादू कायम है जहां तृणमूल कांग्रेस ने प्रतिष्ठित हावड़ा नगर निगम सहित पांच निगम में से चार में जीत दर्ज की है।

यहां पर पिछले हफ्ते स्थानीय निकाय चुनाव हुआ था। तृणमूल कांग्रेस ने झाड़ग्राम और कृष्णानगर स्थानीय निकायों में विजय हासिल की है और मेदिनीपुर में उसका जादू बरकरार है। कांग्रेस नेता अधीर चौधरी के गढ़ बहरामपुर में पहली बार पार्टी को कुछ सीटों पर फतह हासिल हुई है। हावड़ा नगर निगम चुनाव में तृणमूल कांग्रेस ने वाम मोर्चा को बुरी तरह हराते हुए 50 सदस्यीय निकाय में से 41 वार्डों में जीत दर्ज की है। हावड़ा में पहले वाम मोर्चा के पास 33 सीटें थीं लेकिन इस बार उसे महज दो सीटें मिली हैं। कांग्रेस को चार और भाजपा को दो सीटें मिली हैं।

 

हावड़ा की मेयर, माकपा की ममता जायसवाल को भाजपा की गीता राय ने शिकस्त दी है। जबकि उप मेयर भाकपा की कावेरी मोइत्रा को तृणमूल की उम्मीदवार सावित्री देवी शा से हार मिली है। झाड़ग्राम में वाम मोर्चे की जगह सत्ता तृणमूल को मिल गई है वहीं मेदिनीपुर और कृष्णानगर में उसने अपना वर्चस्व कायम रखा है। कृष्णानगर में तृणमूल ने 24 में से


22 सीट हासिल की जबकि दो सीट निर्दलीय के खाते में गईं। मेदिनीपुर में 25 सीट में से तृणमूल को 13 सीट मिली जबकि वाम मोर्चा और कांग्रेस ने चार-चार सीट हासिल करने में सफलता पाई। यहां एक सीट भाजपा के खाते में गई। तीन सीटों पर परिणाम की घोषणा नहीं हुई है। झाड़ग्राम में तृणमूल ने 17 में से 16 सीटें हासिल कीं जबकि वाम मोर्चा को महज एक सीट से संतोष करना पड़ा। मुर्शिदाबाद जिले के मुख्यालय बहरामपुर निगम में तृणमूल ने पहली बार दो वार्डों में जीत हासिल की है। कांग्रेस को यहां कुल 25 में से 23 सीट मिली। कांग्रेस ने 2008 में बहरामपुर में सभी 25 सीटें जीती थीं। निगम चुनाव के नतीजों पर रेल राज्यमंत्री अधीर चौधरी ने बहरामपुर में कहा कि पार्टी की मौजूदगी पर सवाल उठा है। पार्टी नेतृत्व को हालात को बदलने के लिए तुरंत कदम उठाने चाहिए। हालांकि, उन्होंने तृणमूल को श्रेय देने से इनकार कर दिया।

उन्होंने कहा कि उम्मीदवार अपनी बदौलत जीतते हैं।

(भाषा)

आपके विचार

 
 

आप की राय

सोनिया गांधी ने आरोप लगाया है कि 'भाजपा के झूठे सपने के जाल में आम जनता फंस गई है' क्या आप उनकी बातों से सहमत हैं?