मुखपृष्ठ
Bookmark and Share
नरेन्द्र मोदी के खिलाफ चुनाव आयोग पंहुची कांग्रेस PDF Print E-mail
User Rating: / 0
PoorBest 
Monday, 18 November 2013 13:45

नई दिल्ली। सोनिया गांधी को ‘‘बीमार’’ बताए जाने सहित नरेन्द्र मोदी की कई विवादास्पद टिप्पणियों को लेकर कांग्रेस ने आज फिर चुनाव आयोग में भाजपा के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई है।

 

छत्तीसगढ़ की चुनावी सभाओं में मोदी की इन टिप्पणियों के बारे में शिकायत करते हुए कांग्रेस ने आरोप लगाया कि मुख्य विपक्षी दल और उसके नेता ‘‘लगातार चुनाव आचार संहिता का उल्लंघन’’ कर रहे हैं इसलिए भाजपा की मान्यता वापस ले ली जाए। उसने कहा कि स्वतंत्र, निष्पक्ष एवं शांतिपूर्ण चुनाव के लिए ऐसा किया जाना जरूरी है।

कांग्रेस के विधि प्रकोष्ठ के संयोजक के. सी. बंसल ने कहा कि मोदी ने ‘‘जानबूझकर और सोच-समझ कर’’ कई अवसरों पर सोनिया गांधी और उनके बेटे तथा कांग्रेस के उपाध्यक्ष राहुल गांधी के विरूद्ध ‘‘अपमानजनक और अशिष्ट’’ टिप्पणियां की हैं।

इस शिकायत में कांग्रेस ने मोदी की इस टिप्पणी को खासतौर पर उद्धृत किया, ‘‘मैं शहजादे से पूछना चाहता हूं कि यह धन क्या आपके मामा के यहां से आया है’’ और यह भी कि ‘‘अगर आप में हिम्मत है, मैडम आप बीमार हैं, अपने बेटे को काम दे दो।’’

कांग्रेस ने


कहा कि मोदी की ऐसी टिप्पणियां चुनाव आयोग की उस दिशा-निर्देशिका का उल्लंघन है जो राजनीतिक दलों और उनके नेताओं को अन्य दलों के नेताओं के निजी जीवन के पहलुओं पर टीका-टिप्पणी करने से मना करती है।

शिकायत में विपक्ष की नेता सुषमा स्वराज द्वारा राहुल गांधी को ‘‘भ्रमित’’ कहे जाने का भी उल्लेख किया गया है।

इससे पहले कांग्रेस ने उसके चुनाव चिन्ह के बारे में मोदी की ‘‘खूनी पंजा’’ की टिप्पणी के विरूद्ध आयोग से शिकायत की थी।

मोदी को ‘खूनी पंजा’ की टिप्पणी पर आयोग नोटिस दे चुका है जिसका जवाब भाजपा नेता को अब 20 नवंबर को देना है।

मुज्जफ्फरनगर दंगा पीड़ितों से आईएसआई के कथित संपर्क करने संबंधी राहुल गांधी की टिप्पणी के खिलाफ भाजपा की शिकायत पर चुनाव आयोग कांग्रेस उपाध्यक्ष से भी अपनी अप्रसन्नता जता चुका है। आयोग ने अपनी अप्रसन्नता जताने के साथ राहुल को आगाह किया है कि भविष्य की अपनी सार्वजनिक सभाओं में वह सतर्कता बरतें।

(भाषा)

आपके विचार

 
 

आप की राय

सोनिया गांधी ने आरोप लगाया है कि 'भाजपा के झूठे सपने के जाल में आम जनता फंस गई है' क्या आप उनकी बातों से सहमत हैं?