मुखपृष्ठ
Bookmark and Share
चोगम : सलमान खुर्शीद ने जताया प्रधानमंत्री के नहीं आ पाने पर अफसोस PDF Print E-mail
User Rating: / 0
PoorBest 
Saturday, 16 November 2013 09:18

कोलंबो। विदेश मंत्री सलमान खुर्शीद ने इस बात पर अफसोस जताया कि प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह राष्ट्रमंडल शासनाध्यक्षों की शिखर बैठक (चोगम) की बैठक के लिए यहां नहीं आ सके और जाफना का दौरा नहीं कर सके।

खुर्शीद ने संवाददाताओं से कहा- क्या यह दुखद नहीं है? किसको जिम्मेदार कहेंगे? मैं चाहता था कि मेरे प्रधानमंत्री पहले वहां (जाफना) जाएं। मैं वहां जाने वाला दूसरा विदेश मंत्री था। परंतु मैं इसके लिए किसे जिम्मेदार कहूं। मैं इस बात पर निराश हूं कि उस इलाके में अपने प्रधानमंत्री को नहीं ले जा सका जहां हम 50,000 आवासों का निर्माण   करा रहे हैं। हम जाफना में जिन सड़कों और दूसरी परियोजनाओं का निर्माण कर रहे हैं, उसे हम उन्हें नहीं दिखा सके। खुर्शीद से कैमरन के ऐतिहासिक जाफना दौरे के बारे में सवाल पूछा गया था।

प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह का भी चोगम की बैठक से इतर जाफना जाने का कार्यक्रम था लेकिन तमिलनाडु के राजनीतिक दलों के विरोध के


कारण सिंह ने दौरा रद्द कर दिया। प्रधानमंत्री सिंह को श्रीलंका के उत्तरी प्रांत के मुख्यमंत्री सीएस विग्नेवश्वरन ने जाफना का दौरा करने के लिए आमंत्रित किया था। खुर्शीद ने कहा कि वे इसके लिए किसी को जिम्मेदार नहीं ठहराना चाहते। उन्होंने कहा कि लोगों को फैसला करने दीजिए कि उनकी (प्रधानमंत्री के श्रीलंका के दौरे का विरोध करने वाले लोगों की) रणनीति का क्या फायदा हुआ है। मेरा लक्ष्य है कि श्रीलंका के लोग अपने पैरों पर खड़े हों और उनके भीतर आत्मविश्वास पैदा हो। इस मुद्दे पर कांग्रेस और सरकार के बीच विभाजन के बारे में पूछे जाने पर खुर्शीद ने कहा कि यह विभाजन नहीं, बल्कि अलग-अलग विचार व्यक्त करने का मसला है।

आपके विचार

 
 

आप की राय

सोनिया गांधी ने आरोप लगाया है कि 'भाजपा के झूठे सपने के जाल में आम जनता फंस गई है' क्या आप उनकी बातों से सहमत हैं?