मुखपृष्ठ
Bookmark and Share
आप को मिले विदेशी चंदों की हो रही जांच: सुशील कुमार शिंदे PDF Print E-mail
User Rating: / 0
PoorBest 
Tuesday, 12 November 2013 09:14

जनसत्ता ब्यूरो

नई दिल्ली। केंद्र सरकार ने सोमवार को कहा कि उसने आम आदमी पार्टी (आप) को विदेशों से मिलने वाले धन से जुड़ी कई शिकायतें आने के बाद इन आरोपों की जांच के आदेश दिए हैं। आप ने इस जांच का स्वागत किया है।

 

गृह मंत्री सुशील कुमार शिंदे ने आप को कथित तौर पर विदेशों से मिलने वाले धन से जुड़े सवाल के जवाब में संवाददाताओं से कहा कि मेरे पास शिकायतें आई हैं। हम मामले की जांच कर रहे हैं कि धन कहां से, किस देश से और किस स्रोत से आ रहा है। हम इन सभी सवालों के जवाब ढूंढने की कोशिश कर रहे हैं। गृह मंत्री ने हालांकि यह भी कहा कि किसी जांच में समय लगता है। उन्होंने संकेत दिए कि जांच के नतीजे चार दिसंबर को होने वाले दिल्ली विधानसभा चुनावों से पहले नहीं आ सकते।

शिंदे ने कहा कि जांच के आदेश सिर्फ ‘आप’ के संदर्भ में ही दिए गए हैं क्योंकि विदेशी धन के आरोप इस नई पार्टी के खिलाफ थे। दिल्ली की मुख्यमंत्री शीला दीक्षित ने रविवार को ‘आप’ को मिलने वाले धन के स्रोतों पर सवाल उठाया था। चुनाव में ‘आप’ का मुख्य चुनावी वादा भ्रष्टाचार पर रोक लगाने का है।

उधर, आप को मिल रहे चंदे पर सवाल उठने कांग्रेस व भाजपा को खुली चुनौती देते हुए जांच का स्वागत किया। उन्होंने कहा कि वे आप को मिले पैसों की सरकार की ओर से जांच के लिए तैयार हैं लेकिन कांग्रेस और भाजपा को भी अपने पैसों की जांच करानी चाहिए। पार्टी ने मांग की कि इन दोनों पार्टियों को भी चाहिए कि वे भी जांच के लिए आगे आएं। स्वस्थ राजनीति व सबल लोकतंत्र के लिए राजनीति पार्टी को मिलने वाले पैसे की जांच करने से बेहतर और कोई उपाय हो ही नहीं सकता।

आप के प्रमुख केजरीवाल ने कहा कि हम अपने सभी खातों की जांच के लिए तैयार हैं। हम जांच के सरकारी आदेश का सम्मान व स्वागत करते हैं। साथ ही हम यह कहेंगे कि हर पार्टी को इस तरह की जांच के लिए आगे आना चाहिए। बेशक आप से इसकी शुरुआत हो पर हम मांग करते हैं कि सरकार कांग्रेस और भाजपा के कोष की भी जांच कराए। उन्होंने सवाल किया


है कि क्या कांग्रेस और भाजपा में ऐसी पारदर्शिता दिखाने का साहस है?

आप ने यह भी कहा कि अगर केंद्रीय गृह मंत्रालय इन पार्टियों के खातों की जांच नहीं करवाता है तो यह साफ हो जाएगा कि ये पार्टियां भ्रष्टाचार क रके पार्टी खजाने में पैसे जमा कर रही हैं। आप को आठ नवंबर तक चंदे के रूप में करीब 19 करोड़ रुपए मिले हैं। चंदा देने वाले 63 हजार लोगों में प्रवासी भारतीय भी हैं। हमने सभी नियम कानूनों का पालन करते हुए चंदे लिए हैं। पार्टी ने जन समर्थन को अपनी असली पंूजी करार दिया और कहा कि लोगों के सहयोग से हम गंदी राजनीति को साफ करने उतरे हैं।

पार्टी ने लोकतांत्रिक सुधार संगठन की रपट के हवाले से कहा है कि कांग्रेस और भाजपा को मिलने वाला 75 फीसद धन अज्ञात स्रोतों से आता है। संगठन ने कहा है कि देश की छह बड़ी राजनीतिक पार्टियों को 2004-5 और 2011-12 में मिलने वाला धन 4895.96 करोड़ रुपए था। इनमें राकांपा, सपा, बसपा, भाकपा व माकपा भी शामिल हैं। इसमें से 75 फीसद हिस्सा अज्ञात स्रोतों के हवाले से था। आयकर विभाग व चुनाव आयोग में इन पार्टियों की ओर से दिए गए ब्योरे से ये तथ्य सामने आए हैं। उसने कहा कि कांग्रेस व भाजपा को विदेशी कंपनी वेदांत से पैसे मिले जो नियम कानूनों का उलंघन करके लिया गया है।

मालूम हो कि आप को विदेशी धन मिलने की शिकायत के मद्देनजर इसके जांच के आदेश दिए गए हैं। इसके जरिए जांच होनी है कि पैसा कहां से आ रहा है। कोष कहां से आ रहे हैं, किस देश से, इसका स्रोत क्या है। रपट जनवरी में आने की संभावना है। केजरीवाल ने कहा कि जांच पूरी होने के 48 घंटे बाद इसकी रिपोर्ट सार्वजनिक कर दी जानी चाहिए। उन्होंने कहा कि इसके सारे ब्योरे सार्वजनिक किए जाएं और जो भी पार्टी दोषी हो, उस पर कार्रवाई हो। हम इस तरह की कार्रवाइयों से डरने वाले नहीं हैं।

आपके विचार

 
 

आप की राय

सोनिया गांधी ने आरोप लगाया है कि 'भाजपा के झूठे सपने के जाल में आम जनता फंस गई है' क्या आप उनकी बातों से सहमत हैं?