मुखपृष्ठ
Bookmark and Share
आसाराम को अमदाबाद ले गई गुजरात पुलिस PDF Print E-mail
User Rating: / 0
PoorBest 
Tuesday, 15 October 2013 09:25

जोधपुर। आसाराम को गुजरात के सूरत शहर की दो बहनों की यौन उत्पीड़न की शिकायत के सिलसिले में पूछताछ के लिए सोमवार को अमदाबाद ले जाया गया। तीन दिन पहले यहां की एक अदालत ने गुजरात पुलिस को आसाराम को हिरासत में लेने की इजाजत दी थी।
दोनों बहनों ने आसाराम व उनके बेटे के खिलाफ यौन उत्पीड़न की शिकायत दर्ज कराई थी। 72 साल के आसाराम को मुंबई के रास्ते अमदाबाद ले जाया जाएगा और 2001 से 2006 के दौरान बलात्कार, यौन उत्पीड़न व अवैध रूप से बंधक बना कर रखने के मामले में उनसे पूछताछ की जाएगी। जिला व सत्र अदालत ने गुजरात पुलिस को शुक्रवार को आसाराम को हिरासत में लेने की इजाजत दी थी। लेकिन उनके समर्थकों की नाराजगी की आशंका से गुजरात पुलिस ने उन्हें अमदाबाद ले जाने के लिए अपने वरिष्ठ अधिकारियों के आदेश का इंतजार किया।
अमदाबाद के डीसीपी मनोज निनामा अतिरिक्त पुलिस बल के साथ रविवार को यहां पहुंचे और आसाराम को ले जाने के बारे में फैसला किया। एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि आसाराम को अमदाबाद ले जाने में देरी जानबूझ कर की गई। गुजरात पुलिस आसाराम के खिलाफ नए मामले में पर्याप्त सबूत जुटाना चाहती थी क्योंकि यह घटना करीब 10 साल पहले हुई थी। उन्होंने कहा कि मौके से सबूत जुटाने के समय से गुजरात पुलिस को कड़ी चुनौती का सामना करना


पड़ा। उन्हें आसाराम को हिरासत में लेने के लिए ठोस सबूत की जरूरत थी। सूरत की दोनों बहनों में बड़ी बहन ने आसाराम पर 1997 से 2006 के बीच उसका बार-बार यौन शोषण करने का आरोप लगाया है। तब वह अमदाबाद शहर के बाहरी इलाके में स्थित उनके आश्रम में रह रही थी।
वहीं छोटी बहन ने आसाराम के बेटे साईं पर 2002 से 2005 के बीच यौन शोषण करने का आरोप लगाया है, जब वह आसाराम के सूरत आश्रम में रह रही थी।
विभिन्न आश्रमों में आसाराम और उनके बेटे की कथित अश्लील हरकतों का गवाह होने का दावा करते हुए लोग पुलिस के पास जा रहे हैं। हरियाणा के अजय कुमार का बयान दर्ज करने के बाद दो और लोग सोमवार को पुलिस के पास गए जो कभी उनसे जुड़े रहे थे। कुमार अमदाबाद के मोटेरा आश्रम में आसाराम के सेवादार थे। डीसीपी अजय पाल लांबा ने बताया कि वे हमारे पास आए। हमने उनका बयान दर्ज किया। हमारे मामले से इसका कोई लेना-देना नहीं है। लेकिन उनके बयान का इस्तेमाल आसाराम के आचरण के बारे में अदालत को संज्ञान दिलाने के लिए किया जा सकता है। इससे हमारे मामले में मदद मिल सकती है।   
(भाषा)

आपके विचार

 
 

आप की राय

सोनिया गांधी ने आरोप लगाया है कि 'भाजपा के झूठे सपने के जाल में आम जनता फंस गई है' क्या आप उनकी बातों से सहमत हैं?