मुखपृष्ठ
Bookmark and Share
हैदराबाद के भविष्य को लेकर चिंतित है सीमांध्र की जनता : चंद्रबाबू नायडू PDF Print E-mail
User Rating: / 0
PoorBest 
Monday, 14 October 2013 09:22

नई दिल्ली/विशाखापत्तनम। तेलुगु देशम पार्टी (तेदेपा) के अध्यक्ष चंद्रबाबू नायडू को रविवार को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई। वे करीब एक हफ्ते से अनशन पर थे। अस्पताल से छुट्टी मिलते ही नायडू ने आंध्र प्रदेश के विभाजन के तौर-तरीके को लेकर कांग्रेस पर निशाना साधा और कहा कि सीमांध्र की जनता हैदराबाद के भविष्य को लेकर चिंतित है।
राम मनोहर लोहिया अस्पताल से बाहर आते वक्त तेदेपा नेता ने कहा-आंध्र प्रदेश में प्रदर्शन जारी हैं। सीमांध्र के लोग शिक्षा, रोजगार, राजस्व के बंटवारे, जल संसाधन और हैदराबाद के भविष्य को लेकर चिंतित हैं। अनशन के पांचवें दिन शुक्रवार को उन्हें जबरन इस अस्पताल में भर्ती कराया गया था। वे अलग तेलंगाना के गठन के खिलाफ अनशन कर रहे थे। अस्पताल में शनिवार को उन्हें जबरन तरल पदार्थ का सेवन कराया गया था। नायडू ने कांग्रेस पर आरोप लगाया कि आंध्र प्रदेश के दो भागों में बंटवारे पर उसने उचित प्रक्रिया नहीं अपनाई।
तेदेपा प्रमुख ने कहा-जिस तरह की विभाजन प्रक्रिया अपनाई गई वह आपत्तिजनक है। वे किसी नियम-कायदे का पालन नहीं कर रहे। मैं कांग्रेस से पूछ रहा हूं। क्या वहां स्थानीय नेता नहीं हैं? क्या वहां कोई राजनेता नहीं है? कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह, वीरप्पा मोइली और गृह मंत्री सुशील कुमार शिंदे विभाजन के मुद्दे पर विरोधाभासी बयान दे रहे हैं।
दूसरी ओर, विजयनगरम शहर में शांति स्थापित होने के मद्देनजर अधिकारियों ने लोगों की सुविधा के लिए रविवार को


कर्फ्यू में 14 घंटे की ढील दी। विजयनगरम जिला कलक्टर कांतिलाल डांडे ने कहा कि पिछले पांच-छह दिनों से हिंसा का कोई ताजा मामला नहीं देखा गया है। इसलिए सुबह छह बजे से रात आठ बजे तक कर्फ्यू में 14 घंटे की ढील देने का फैसला किया गया है।
केंद्रीय मंत्रिमंडल के अलग तेलंगाना राज्य गठित करने के फैसले के विरोध में प्रदर्शनकारियों ने बड़े स्तर पर हिंसा की थी जिसके कारण विजयनगरम शहर में 5 अक्तूबर की रात को कर्फ्यू लगाया गया था। डांडे ने कहा कि मौजूदा शांतिपूर्ण स्थिति को देखते हुए सोमवार से कर्फ्यू पूरी तरह हटाया जा सकता है। इस संबंध में शाम को संबंधित अधिकारियों की समीक्षा बैठक के बाद फैसला किया जाएगा।
पुलिस जिला अधीक्षक कार्तिकेय ने कहा कि हालांकि 14 घंटे के लिए कर्फ्यू हटाया गया लेकिन इस दौरान आपराधिक प्रक्रिया संहिता की धारा 144 लागू रहेगी। उन्होंने कहा कि हिंसक गतिविधियों में शामिल कम से कम 500 लोगों को हिरासत में लिया गया है। पुलिस सूत्रों ने बताया कि हालात नियंत्रण में हैं। त्वरित कार्य बल समेत अर्द्धसैन्य बल और पुलिस के जवान हिंसाग्रस्त शहर में गश्त जारी रखे हुए हैं।
(भाषा)

आपके विचार

 
 

आप की राय

सोनिया गांधी ने आरोप लगाया है कि 'भाजपा के झूठे सपने के जाल में आम जनता फंस गई है' क्या आप उनकी बातों से सहमत हैं?