मुखपृष्ठ
Bookmark and Share
मुलायम सिंह यादव के बेटे, पत्नी की संपत्तियों की जांच करें आयकर विभाग : सीबीआइ PDF Print E-mail
User Rating: / 1
PoorBest 
Thursday, 10 October 2013 09:00

नई दिल्ली। मुलायम सिंह यादव के खिलाफ आय से ज्यादा संपत्ति मामले को बंद करने के बाद सीबीआइ ने आयकर विभाग से कहा है कि समाजवादी पार्टी के नेता की पत्नी साधना की अपने पुत्र प्रतीक के नाम अर्जित कथित बेनामी संपत्तियों की वह जांच करे।
सीबीआइ के सूत्रों ने कहा कि एजंसी ने आयकर विभाग को लिखे पत्र में करोड़ों रुपए मूल्य की चार संपत्तियों का लखनऊ में होने का जिक्र किया है। एजंसी ने यादव, उनके बेटे अखिलेश और प्रतीक के खिलाफ आय से ज्यादा संपत्ति का मामला बंद करते हुए कहा था कि साधना ने प्रतीक के नाम से ये बेनामी संपत्तियां तब अर्जित कीं जब वह नाबालिग था और उसके संबंध सपा नेता और उनके परिवार के सदस्यों से होने के बारे में पता नहीं चला था। सूत्रों ने कहा कि एजंसी ने इन संपत्तियों के बारे में विस्तृत जानकारी को आयकर विभाग को भेजा है क्योंकि इन संपत्तियों में कर का मामला हो सकता है जो आयकर विभाग के क्षेत्र में आता है। उन्होंने कहा कि यादव के खिलाफ जांच पूरी होने के बाद प्रतीक के नाम से साधना द्वारा संपत्ति अर्जित करने का


पता चला। इस सूचना पर आवश्यक कार्रवाई के लिए विभाग को लिखा गया है।
सीबीआइ ने पूरी तरह अपर्याप्त साक्ष्य के आधार पर यादव और उनके परिवार के सदस्यों के खिलाफ प्रारंभिक जांच को बंद कर दिया था। एजंसी ने 2007 में यादव, अखिलेश, डिंपल यादव और प्रतीक के खिलाफ विश्वनाथ चतुर्वेदी की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद प्रारंभिक जांच दर्ज किया था। यादव परिवार की संयुक्त आय से ज्यादा संपत्ति 2.63 करोड़ रुपए पाई गई। दिसंबर 2012 में सुप्रीम कोर्ट ने निर्देश दिया कि डिंपल यादव की आय, संपत्ति और खर्च को परिवार के अन्य सदस्यों के साथ नहीं जोड़ा जाए क्योंकि 2005 तक वह सार्वजनिक पद पर नहीं थी। आदेश के बाद जांच को नए सिरे से अंजाम दिया गया जिससे पता चला कि यादव के खिलाफ आय से ज्यादा संपत्ति का मामला चलाने के लिए पर्याप्त सबूत नहीं हैं।
(भाषा)

आपके विचार

 
 

आप की राय

सोनिया गांधी ने आरोप लगाया है कि 'भाजपा के झूठे सपने के जाल में आम जनता फंस गई है' क्या आप उनकी बातों से सहमत हैं?