मुखपृष्ठ
Bookmark and Share
बलात्कार की कोशिश में दिल्ली पुलिस के दो कांस्टेबल बर्खास्त PDF Print E-mail
User Rating: / 0
PoorBest 
Monday, 07 October 2013 10:00

अमलेश राजू
नई दिल्ली। बलात्कार की कोशिश के आरोप में दिल्ली पुलिस के दो कांस्टेबलों को बर्खास्त कर दिया गया। इनके नाम अमित तोमर और गुरजिंदर सिंह हैं। इन पर आरोप है कि शनिवार को विकासपुरी पुलिस लाइंस के पास घूम रहीं तीन लड़कियों को आर्थिक मदद का प्रलोभन देकर किंग्सवे कैंप ले गए और वहां उनसे बलात्कार की कोशिश की। लड़कियों के शोर मचाने पर आस-पास के लोग दौड़े और पीसीआर को सूचना दी। पीड़ित लड़की की बाबू जगजीवन राम अस्पताल में मेडिकल जांच हुई। मामला दर्ज कर विशेष जांच के बाद दोनों कांस्टेबलों के आरोपी साबित होने पर उन्हें बर्खास्त कर दिया गया।
दिल्ली पुलिस के जवानों की इस करतूत ने एक बार फिर महकमे को शर्मशार कर दिया है। ताजा मामले में दोनों बर्खास्त कांस्टेबल लड़कियों को अपनी हवस का शिकार बनाने के लिए विकासपुरी से लंबी दूरी तय कर किंग्सवे कैंप के घर में लाए। उन्हें आर्थिक मदद का प्रलोभन दिया और फिर दोनों युवतियों के साथ बलात्कार की कोशिश की। उत्तर-पश्चिम जिले के पुलिस उपायुक्त एन गना संबंदन ने बताया कि युवतियां आर्थिक रूप से कमजोर परिवार की थीं। वे अपनी अन्य दो सहेलियों के साथ विकासपुरी पुलिस लाइंस के पास घूम रही थीं। कांस्टेबल अमित तोमर ने उन्हें किंग्सवे कैंप चलकर पैसे देने का प्रलोभन दिया। वह घर कांस्टेबल गुरजिंदर सिंह का था। गुरजिंदर


पहले से घर में मौजूद था। घर पहुंचकर पुलिसवालों ने दो लड़कियों को एक कमरे में बंद कर एक लड़की के साथ जर्बदस्ती शुरू कर दी। उस लड़की ने चिल्लाना शुरू किया तो पास के कमरे में बंधक बनाकर रखी गर्इं अन्य दोनों लड़कियां ने भी शोर मचा दिया। आसपास के लोगों ने जब लड़कियों के चिल्लाने की आवाज सुनी तो उन्होंने पीसीआर को सूचना दे दी। पीसीआर ने मौके पर पहुंचकर सभी लड़कियों को पुलिसवालों के चंगुल से मुक्त कराया। लड़की को तुरंत डॉक्टरी जांच के लिए बाबू जगजीवन राम अस्पताल भेजा गया। गैर सरकारी संगठन संपूर्णा के प्रतिनिधि को भी इस काम में सहयोग के लिए बुलाया गया।
उपायुक्त के मुताबिक, औपचारिकताएं पूरी करने के बाद तुरंत मामला दर्ज किया गया। दक्षिणी जिले के अतिरिक्त पुलिस उपायुक्त प्रमोद कुशवाहा की अगुआई में एक विशेष टीम गठित की गई। कुशवाहा की टीम ने सभी बिंदुओं से मामले की जांच की और दोनों कांस्टेबलों को दोषी पाया। इन्हें बिना देर किए पुलिस की नौकरी से बर्खास्त कर दिया गया। पुलिस उपायुक्त का कहना है कि इस तरह के मामले को गंभीरता से लिया जाएगा। ताजा मामले में एक सप्ताह के अंदर कोर्ट में चार्जशीट दाखिल किया जाएगा।

आपके विचार

 
 

आप की राय

सोनिया गांधी ने आरोप लगाया है कि 'भाजपा के झूठे सपने के जाल में आम जनता फंस गई है' क्या आप उनकी बातों से सहमत हैं?