मुखपृष्ठ
Bookmark and Share
आंध्र विभाजन: पल्लम राजू ने मंत्री पद छोड़ने का फैसला किया PDF Print E-mail
User Rating: / 0
PoorBest 
Friday, 04 October 2013 17:01

नई दिल्ली/हैदराबाद। प्रधानमंत्री की सलाह को दरकिनार करते हुए केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री एम एम पल्लम राजू ने आंध्र प्रदेश के विभाजन के फैसले पर विरोध करते हुए आज मंत्रिमंडल से इस्तीफा देने का निर्णय किया तथा माना जा रहा है कि आंध्र से ताल्लुक रखने वाली दो महिला मंत्रियों ने भी इस्तीफे की पेशकश की है।
केंद्रीय वाणिज्य राज्य मंत्री डी पुरनदेश्वरी और संचार राज्य मंत्री किली कृपारानी ने तेलंगाना के गठन के संदर्भ में केंद्र सरकार के फैसले का विरोध जताते हुए कथित तौर पर पद छोड़ने का निर्णय किया।
राजू ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘कल मैं प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह से मिला और उनके सामने इस्तीफे की पेशकश की। प्रधानमंत्री ने मुझसे जल्दबाजी में कदम नहीं उठाने को कहा। कल पूरी रात मैंने इस पर विचार किया। मैंने यह तय किया कि मुझे मंत्रिपरिषद से इस्तीफा दे देना चाहिए।
राजू ने कहा कि उन्होंने प्रधानमंत्री से मुलाकात का समय मांगा है।


राजू सीमांध्र इलाके से कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता हैं। वह आंध्र प्रदेश के बंटवारे के कड़े विरोधी हैं।
इसबीच, दोनों महिला मंत्रियों ने प्रधानमंत्री कार्यालय को इस्तीफा भेज दिया है। उनके सहयोगियों ने यह जानकारी दी।
गुंटूर से लेकसभा सदस्य और कांग्रेस नेता आर एस राव ने लोकसभा अध्यक्ष को अपना इस्तीफा फैक्स कर दिया है।
उन्होंने कहा कि वह कांग्रेस अध्यक्ष से मिलने तथा पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा देने पर विचार कर रहे हैं।
तटीय आंध्र और रायलसीमा क्षेत्र के चार लोकसभा सदस्यों अनंत वेकेंटरामी रेड्डी (अनंतपुर), वुनदावल्ली अरूण कुमार (राजमुंदरी), सब्बम हरि (अंकापल्ले) तथा ए साईप्रताप (राजमपेट) ने भी इस्तीफा दे दिया है। इनमें से तीन ने कहा है कि वे पार्टी से भी इस्तीफा दे रहे हैं।

आपके विचार

 
 

आप की राय

सोनिया गांधी ने आरोप लगाया है कि 'भाजपा के झूठे सपने के जाल में आम जनता फंस गई है' क्या आप उनकी बातों से सहमत हैं?