मुखपृष्ठ
Bookmark and Share
मुंबई इंडियन्स और त्रिनिदाद एवं टोबैगो में रोमांचक मुकाबले की संभावना PDF Print E-mail
User Rating: / 1
PoorBest 
Friday, 04 October 2013 11:15

नई दिल्ली। शुरूआती उतार चढ़ाव के बाद लीग चरण के अपने आखिरी मैचों में धमाकेदार जीत से आगे बढ़ने वाली मुंबई इंडियन्स और त्रिनिदाद एवं टोबैगो यदि अपने इसी प्रदर्शन को बरकरार रखते हैं तो फिर इन दोनों टीमों के बीच कल फिरोजशाह कोटला में होने वाले चैंपियन्स लीग टी20 के दूसरे सेमीफाइनल में रोचक मुकाबला होना तय है।


मुंबई इंडियन्स ने दो अक्तूबर को इसी मैदान पर पर्थ स्कोरचर्स का 150 रन का लक्ष्य केवल 13 . 2 ओवर में हासिल करके सेमीफाइनल में जगह बनाई थी। इसके बाद त्रिनिदाद एवं टोबैगो ने पूर्व चैंपियन चेन्नई सुपरकिंग्स को 118 रन पर ढेर करके 29 गेंद शेष रहते हुए जीत दर्ज करके उम्मीदों के विपरीत ग्रुप बी में शीर्ष स्थान हासिल किया।
लीग चरण के आखिरी दिन तक मुंबई और त्रिनिदाद का इस टी20 टूर्नामेंट में भविष्य तय नहीं था लेकिन इन दोनों ने शान से आगे कदम बढ़ाया है और वे अब पूरे आत्मविश्वास के साथ मैदान पर कदम रखेंगे। इससे अब दोनों के बीच कांटे के मुकाबले की उम्मीद बन गई है। दोनों टीमों की कुछ चिंताएं हो सकती हैं और वे इस महत्वपूर्ण मैच में इनसे पार पाने की कोशिश करेंगी।
मुंबई के लिये स्टार बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर अब तक अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पाए हैं। उन्होंने तीन मैचों में केवल 20 रन बनाए हैं। वह पिछले मैच में खाता भी नहीं खोल पाए थे। मुंबई के कप्तान रोहित शर्मा ने हालांकि उम्मीद जतायी कि तेंदुलकर सेमीफाइनल में बड़ी पारी खेलेंगे। रोहित ने कहा, ‘‘यह हमारे लिये चिंता का विषय नहीं है क्योंकि हम सभी जानते हैं कि उन्होंने कितने रन बनाये हैं और उन्हें कितना अनुभव है। वह अच्छी तरह से गेंद को हिट कर रहे हैं।’’
मुंबई को त्रिनिदाद के रहस्यमयी स्पिनर सुनील नारायण को संभलकर खेलना होगा जिन्होंने टूर्नामेंट में न सिर्फ 4 . 31 के इकोनोमी रेट से रन दिए हैं। बल्कि अपने फिरकी के आगे बल्लेबाजों का घुमा कर दिया है। उनके नाम पर आठ विकेट दर्ज हैं और कोटला की पिच उनके मुफीद है। नारायण ने चेन्नई के खिलाफ कोई विकेट नहीं लिया लेकिन उन्होंने चार ओवर में केवल 12 रन दिए और इस बीच महेंद्र सिंह धोनी जैसे धुरंधर को बांधे रखा।
कैरेबियाई टीम के कप्तान दिनेश रामदीन ने भी उम्मीद जतायी है कि उनके स्पिनर नारायण और सैमुअल बद्री मुंबई के बल्लेबाजों को खुलकर नहीं खेलने देंगे। उन्होंने कहा, ‘‘हम मुंबई इंडियन्स के खिलाफ खेलने को लेकर खुश हैं। वह बहुत अच्छी


टीम है। मुझे उम्मीद है कि स्पिनर उनके खिलाफ हमारे लिये मौका बनाएंगे। ’’
मुंबई की तरफ से कप्तान रोहित शर्मा, सलामी बल्लेबाज ड्वेन स्मिथ और कीरेन पोलार्ड ही लगातार अच्छा प्रदर्शन करने में कामयाब रहे हैं। विकेटकीपर बल्लेबाज दिनेश कार्तिक बल्ले से नाकाम रहे हैं जबकि अंबाती रायुडु को बल्लेबाजी का अधिक मौका नहीं मिला है।
पोलार्ड वेस्टइंडीज की अपनी घरेलू टीम के खिलाफ खेलने के लिए उतरेंगे और ऐसे में सुनील नारायण, रवि रामपाल और बद्री जैसे गेंदबाजों से उनका मुकाबला दिलचस्प होगा। इन तीनों ने अब तक प्रभावशाली गेंदबाजी की है। रेयाड एमरिट ने जरूरत पड़ने पर टीम को सफलता दिलायी है लेकिन वह कुछ अवसरों पर महंगे भी साबित हुए हैं। त्रिनिदाद के लिये सलामी बल्लेबाज लेंडल सिमन्स का फार्म में लौटना अच्छा संकेत है। उन्होंने चेन्नई के खिलाफ 63 रन बनाये जबकि इससे पहले दो पारियों में वह खाता भी नहीं खोल पाए थे। शीर्ष क्रम में इविन लुईस और डेरेन ब्रावो यदि अपनी अच्छी फार्म बरकरार रखते हैं तो फिर मुंबई के लिये परेशानी खड़ी हो सकती है जिसके गेंदबाज निरंतर एक जैसा प्रदर्शन नहीं कर पाए हैं।
मुंबई की तरफ से नाथन कोल्टर डि नील ने अब तक असरदार गेंदबाजी की है लेकिन आस्ट्रेलिया के उनके साथी मिशेल जानसन तथा स्पिनर हरभजन सिंह और प्रज्ञान ओझा ऐसा करने में असफल रहे हैं। हरभजन को केवल एक विकेट मिला लेकिन उन्होंने 6 . 54 के इकोनोमी रेट से रन दिए हैं।
ओझा ने तीन मैच में चार विकेट लिए हैं लेकिन वह महंगे भी साबित हुए हैं और उन्होंने प्रति ओवर 9 . 33 की औसत से रन लुटाए हैं।
कोटला की पिच टी20 के लिहाज से अनुकूल मानी जा रही है लेकिन चेन्नई की टीम जिस तरह से सस्ते में सिमटी उसे देखते हुए टीमों को किसी तरह के मुगालते में रहने से भी बचना होगा।
जहां तक रिकार्ड का सवाल है तो इन दोनों टीमों के बीच अब तक केवल एक मैच हुआ है। बेंगलूर में 26 सितंबर 2011 को खेले गये इस मैच में त्रिनिदाद की टीम 98 रन पर ढेर हो गयी थी लेकिन मुंबई भी आखिरी गेंद पर बमुश्किल एक विकेट से जीत दर्ज कर पाया था।
(भाषा)

 

आपके विचार

 
 

आप की राय

सोनिया गांधी ने आरोप लगाया है कि 'भाजपा के झूठे सपने के जाल में आम जनता फंस गई है' क्या आप उनकी बातों से सहमत हैं?